ये मामला राजस्थान में कोटा जिले का है जहां कोटा जिले में गुप्तचर पुलिस ने एक पाकिस्तानी नागरिक को गिरफ्तार किया है। बता दे कि पाकिस्तानी नागरिक नेपाल के रास्ते बिना पासपोर्ट और वीजा के भारत में प्रवेश कर गया। यह पाक नागरिक दिल्ली होता हुआ राजस्थान पहुंचा और यहां पहले अजमेर में कुछ दिन रहने के बाद कोटा के सुल्तानपुर कस्बे में रहने के लिए पहुंचा।

यह पाक नागरिक सुल्तानपुर में एक हिस्ट्रीशीटर के घर में रहने लगा। हिस्ट्रीशीटर के रिश्तेदार पाकिस्तान में रहते हैं। पाक नागरिक अब्दुल हनीफ 2 नवम्बर से सुल्तानपुर में चुपचाप रह रहा था। जहां

गुप्तचर पुलिस ने सुल्तानपुर के मोहम्मद हनीफ को गिरफ्तार किया है तथा पूछताछ के लिए जयपुर लाया गया है।

मोहम्मद हनीफ बिना वीजा और बिना पासपोर्ट के भारत आ गया तथा सुल्तानपुर में संदिग्ध व्यक्ति की सूचना मिलने पर गुप्तचर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया।

इसके अलावा पुलिस ने अजमेर में सात साल से रह रहे रोहिंग्या अमान उल्लाह को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार आरोपित यहां 2010 से रह रहा था। यहां अजमेर के सिलावट मोहल्ले में आरोपित पूरे परिवार के साथ बसा था। घरेलू कलह की वजह से जब पुलिस उसके घर तक पहुंची तो मामले का पर्दाफाश हुआ।

बताया जा रहा है कि अमान उल्लाह ने शादी भी यहीं की। जबकि जांच में सामने आया है कि वह यहां म्यांमार का शरणार्थी था, ना कि स्थाई नागरिक। पुलिस के अनुसार पकड़ा गया अमान उल्लाह रोहिंग्या मुसलमान है। बर्मा म्यांमार से कोलकाता के रास्ते भारत आया था। अमान उल्लाह ने जम्मू कश्मीर में बच्चों को पढ़ाने का काम किया और वहां पर शरणार्थी कार्ड बनवा लिया। अजमेर में भी खादिमों के बच्चों व अन्य बच्चों को पढ़ाकर अपना गुजर बसर कर रहा था।