BREAKING NEWS

ऑड-ईवन योजना की अवधि बढ़ाए जाने पर सोमवार को होगा फैसला : केजरीवाल◾NCP नेता नवाब मलिक बोले- शिवसेना को किया गया अपमानित, निश्चित रूप से CM उनका ही होगा◾SC ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में शिवकुमार की जमानत के खिलाफ ED की याचिका की खारिज◾5 साल की बात क्यों, हम चाहते हैं 25 साल रहे शिवसेना का CM : संजय राउत◾दिल्ली-NCR में आज भी प्रदूषण की स्थिति गंभीर, आसमान में छाई धुंध की चादर◾ऑड-ईवन योजना का अंतिम दिन आज, स्कीम को आगे बढ़ाने पर संशय बरकरार◾तीस हजारी कांड : पथराव करने वाले वकील ही थे, क्या गारंटी?◾INX मीडिया मामला: चिदंबरम की जमानत याचिका पर आज आ सकता है कोर्ट का फैसला◾महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के गठबंधन के खिलाफ SC में याचिका दायर◾चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾

दिलचस्प खबरें

प्लास्टिक प्रदूषण को समाप्त करने में सहयोग करें

देहरादून : राज्यपाल डाॅ. कृष्ण कांत पाल ने कहा कि बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए पृथ्वी का संरक्षण आवश्यक है। इसके लिए हम सभी को दृढ़ संकल्पबद्ध होकर एकजुटता से कोशिश करनी होगी। विश्व पृथ्वी दिवस पर जारी अपने संदेश में राज्यपाल ने पर्यावरण व जैव विविधता के संरक्षण के लिए योगदान करने का आह्वान किया है। राज्यपाल ने कहा कि 22 अप्रैल 1970 को विश्व पृथ्वी दिवस की शुरूआत की गई थी। इस वर्ष विश्व पृथ्वी दिवस का विषय प्लास्टिक प्रदूषण को समाप्त करने में योगदान करें। प्लास्टिक प्रदूषण से हमारे वनों, भूमि, नदियों, सागरों को गम्भीर नुकसान हो रहा है। इसका कुप्रभाव मानव जीवन पर भी दिखने लगा है। धरती जो कि हम सभी को धारण करती है, को भारतीय संस्कृति में ‘मां’ कहा गया है।

अगर हमें धरती को अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए सुरक्षित रखना है तोे दृढ़ संकल्पित होकर अपने दिन-प्रतिदिन के व्यवहार में परिवर्तन लाना होगा। अपने कार्बन फुटप्रिन्ट को कम करें, प्लास्टिक को ना कहें, कागज का कम से कम उपयोग करें, पेड़ लगाएं, सीएफएल या एलईडी बल्ब का प्रयेाग करें, जल व ऊर्जा की बचत करें व यथासम्भव रियूज या रिसाईकिल किए जा सकने वाली वस्तुओं को प्रयोग करें। इन कुछ सामान्य बातों का पालन करके सामान्य व्यक्ति भी पृथ्वी के संरक्षण में बड़ा योगदान कर सकता है।

24X7  नई खबरों से अवगत रहने के लिए यहाँ क्लिक करें। - सुनील तलवाड़