BREAKING NEWS

दिल्ली : आग की त्रासदी के बाद अस्पताल में भयावह दास्तां ◾दिल्ली अग्निकांड : दमकलकर्मी ने इमारत में फंसे 11 लोगों को बचाया ◾दिल्ली अग्निकांड : इमारत का पिछले हफ्ते हुआ था सर्वेक्षण, ऊपरी मंजिलों पर ताला लगा हुआ था - अधिकारिक सूत्र◾नागरिकता संशोधन विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश करेंगे शाह◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने UP में त्वरित सुनवायी अदालत के गठन में देरी पर सवाल उठाया ◾भाजपा ने अपने सांसदों के लिए व्हिप किया जारी , 11 दिसंबर तक सदन में रहें मौजूद ◾तिरुवनंतपुरम टी-20 : शिवम के अर्धशतक पर भारी सिमंस की पारी, विंडीज ने की बराबरी◾मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों, जम्मू-कश्मीर व लद्दाख को सर्वोच्च प्राथमिकता दी : जितेंद्र सिंह ◾PM मोदी ने महिलाओं को सुरक्षित महसूस कराने में प्रभावी पुलिसिंग की भूमिका पर जोर दिया ◾भाजपा 2022 के मुंबई नगर निकाय चुनाव अकेले लड़ेगी ◾देश में आग की नौ बड़ी घटनाएं ◾भाजपा पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस पहले 70 साल का हिसाब दे : स्मृति इरानी◾PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में अरुण शौरी से मुलाकात की◾दिल्ली अनाज मंडी हादसा में फैक्ट्री मालिक हिरासत में◾TOP 20 NEWS 8 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने दक्षेस चार्टर दिवस पर सदस्य देशों के लोगों को दी बधाई ◾संसद में नागरिकता विधेयक का पारित होना गांधी के विचारों पर जिन्ना के विचारों की होगी जीत : शशि थरूर◾अनाज मंडी हादसे के लिए दिल्ली सरकार और MCD जिम्मेदार: सुभाष चोपड़ा◾दिल्ली आग: PM मोदी ने की मृतक के परिवारों के लिए 2 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा◾दिल्ली आग: दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ दर्ज किया मामला◾

दिलचस्प खबरें

क्या आप जानते हैं भारत का स्वतंत्रता दिवस मूल रूप से 15 अगस्त 1947 नहीं बल्कि इस दिन मनाया जाता

 0

इस साल देशवासी 15 अगस्त को अपना 73वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहे हैं। भारतीय लोग पूरे साल अंग्रेजों की करीब 200 साल की गुलामी से मिली मुक्‍ति का जश्न मनाते हैं। क्या आपको पता है कि भारत को आजादी मिलने के लिए पहले दूसरी तारीख सबकी सहमति से तय हुई थी लेकिन अंग्रेजों ने चाल चलकर अपनी पंसद की तारीख पर भारत को आजाद किया था। 

कांग्रेस ने भारत का स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए साल 1930 में 26 जनवरी की तारीख काे तय कर दिया था। इंडिया इंडिपेंडेंस बिल के अनुसार  ब्रिटिश ने 3 जून 1948 की तारीख उन्होंने सत्ता हस्तांतरण करने के लिए तय की थी। ब्रिटिश प्रधानमंत्री क्लेमेंट रिचर्ड एटली ने फरवरी 1947 को ऐलान किया था भारत को पूर्ण आत्म प्रशासन का अधिकार सरकार 3 जून 1948 को दे देगी। 

लेकिन माउंटबेटन के सरकार में आने के बाद आजादी की तारीख को बदल दिया गया। भारत का आखिरी वायसराय लुई माउंटबेटन को फरवरी 1947 में नियुक्त किया गया था। भारत से पहले बर्मा के माउंटबेटन गवर्नर थे। भारत को सत्ता हस्तांतरित करने की जिम्मेदारी माउंटबेटन को ही दी गई थी। 

आखिर माउंटबेटन ने क्या कर दिया था

इतिहासकारों के अनुसार ब्रिटेन के लिए 15 अगस्त को माउंटबेटन शुभ मानते थे। ऐसा इसलिए द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापानी सेना ने जब 15 अगस्त 1945 को आत्मसमर्पण किया था उस समय अलाइड फोर्सेज के कमांडर माउंटबेटन ही थे। इसी वजह से ब्रिटिश प्रशासन से माउंटबेटन ने बात करके भारत को सत्ता हस्तांतरित करने की तारीख 3 जून 1948 से 15 अगस्त 1947 कर दी थी। लेकिन कुछ इतिहासकार का मानना है कि इसके पीछे दूसरी वजह भी है। 

भारत को सत्ता हस्तांतरित करने के लिए 3 जून 1948 से 15 अगस्त 1947 का दिन इसलिए बदला था क्योंकि ब्रिटिशों को पता चल गया था कि मोहम्तद जिन्ना को कैंसर और वह कुछ ही दिन जिंदा रहेंगे। अंग्रेजों को यह चिंता थी कि जिन्ना अगर मर जाता है तो महात्मा गांधी मुसलमानों को अलग देश न बनाने के प्रस्ताव पर मना लेंगे।