BREAKING NEWS

लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾केंद्रीय गृह मंत्रालय की मीडिया विंग में भारी फेरबदल, नितिन वाकणकर नये प्रवक्ता नियुक्त किये गए ◾भाजपा नेता और टिक टोक स्टार सोनाली फोगाट ने हिसार मंडी समिति के सचिव को पीटा , वीडियो वायरल ◾सैन्य बातचीत से पहले बोला चीन-भारत के साथ सीमा विवाद को उचित ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध◾PM मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' के ऐलान को कपिल सिब्बल ने बताया 'जुमला'◾दिल्ली के पीतमपुरा में एक मेड से 20 लोगों को हुआ कोरोना, 750 से ज्यादा लोग हुए सेल्फ क्वारंटाइन◾कोरोना संकट पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, नई योजनाओं पर मार्च 2021 तक लगी रोक◾गुजरात में कांग्रेस को तीसरा झटका, एक और विधायक ने दिया इस्तीफा◾दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

इस बड़ी वजह से ट्रैफिक सिग्नल के लाइट लाल, पीले और हरे रंग के इस्तेमाल किये जाते हैं

यातायात के नियमों का पालन करने से सड़क पर हम सुरक्षित चल पाते हैं और यह करना आवश्यक भी है। ट्रैफिक सिग्नल्स भी इन्हीं नियमों में आते हैं। इनके बारे में आप सबको ही पता है। 

लेकिन कई ऐसे लोग हैं जिन्हें इन ट्रैफिक सिग्नल की तीनों लाइट यानी लाल, पीली और हरी के बारे में यह नहीं पता है कि आखिर इन्हीं रंगों को ही क्यों इस्तेमाल किया जाता है। चलिए जानते हैं इनके पीछे के रहस्य को। 

ट्रैफिक लाइट्स की इन तीनों रंगों का मतलब पहले हम आपको बताएंगे। ट्रैफिक लाइट में जो लाल रंग होता है उसका मतलब गाड़ी को रोकना होता है। पीला का मतलब आप आगे बढ़ने के लिए तैयार रहें और हरे का मतलब आप आगे जा सकते हैं। 

10 दिसंबर 1868 में दुनिया में पहली ट्रैफिक लाइट लंदन के ब्रिटिश हाउस ऑफ पार्लियामेंट के सामने लगी थी। जेके नाईट नाम के रेलवे इंजीनियर ने इस लाइट केे बनाया और लगाया था। उस समय रात को ट्रैफिक लाइट आराम से दिख जाए जिसके लिए गैस भरी जाती थी। यह ट्रैफिक लाइट ज्यादा समय तक नहीं रह पाते थे और वह फट जाती थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ट्रैफिक लाइट में उस समय दो ही रंग होते थे और उनका ही इस्तेमाल किया जाता था। 

साल 1890 में बिजली ट्रैफिक लाइट पहला सुरक्षित स्वतः संयुक्त राज्य अमेरिका में लगे थे। इसके बाद दुनिया के कोने-कोने में ट्रैफिक लाइट का इस्तेमाल किया जाने लगा। ट्रैफिक सिग्नल में लाल, पीले और हरे रंग के इस्तेमाल होने के बारे में हम आपको बताते हैं। 


बाकी रंगों की अपेक्षा में लाल रंग बहुत गाढ़ा होता है। दूर से ही लाल रंग दिखाई दे जाता है। आगे खतरा होने का संकेत भी लाल रंग देता है जिसे देखकर आप रूक जाते हैं। इसी वजह से लाल रंग का इस्तेमाल किया गया। 

पीले रंग का इस्तेमाल ट्रैफिक लाइट में इसलिए भी करते हैं क्योंकि इसे ऊर्जा और सूर्य का प्रतीक भी मानते हैं। इसका यह भी अर्थ होता है कि आप पहले अपनी सारी ऊर्जा समेट लें फिर सड़क पर चलने के लिए अपने आपको तैयार करें। 

प्रकृति और शांति का प्रतीक हरे रंग को माना जाता है। हरे रंग को ट्रैफिक लाइट में इसलिए इस्तेमाल किया गया है क्योंकि वहां पर इसका अर्थ बिल्कुल उलट है। आंखों को हरा रंग सुकून देता है और आप किसी भी खतरे के बिना आगे सड़क पर चल सकते हैं।