BREAKING NEWS

भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾UP में मुआवजे के लिए किसानों का प्रदर्शन हुआ उग्र ◾भाजपा के नकारेपन के चलते जीतेंगे झारखंड : कांग्रेस◾अयोध्या फैसले पर बोले यशवंत सिन्हा, कहा- इस फैसले में कुछ खामियां हैं, लेकिन हमें आगे बढ़ने की जरूरत◾UEA के नागरिकों को अब भारत आने पर सीधे मिलेगा वीजा◾महाराष्ट्र सरकार गठन : सोमवार को पवार सोनिया गांधी से करेंगे मुलाकात ◾विपक्ष ने संसद में अपनी संख्या बढ़ाई ◾बाल ठाकरे की पुण्यतिथि पर तेज हुई राजनीति◾PM मोदी ने राजपक्षे को भारत आने का दिया निमंत्रण◾प्रदूषण के मुद्दे पर केंद्र सोमवार को उत्तरी राज्यों के अधिकारियों के साथ करेगा उच्च स्तरीय बैठक ◾कर्नाटक उपचुनावों में उम्मीदवारों को भविष्य के मंत्री के तौर पर पेश कर रही है भाजपा ◾किसानो पर पुलिस बर्बरता शर्मनाक : प्रियंका◾नागरिकता विधेयक से लेकर आर्थिक सुस्ती पर विपक्ष के विरोध से शीतकालीन सत्र के गर्माने की संभावना ◾TOP 20 NEWS 17 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मंत्री स्वाती सिंह के कथित आडियो पर प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरा ◾अयोध्या मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड◾उपभोक्ता खर्च के आंकड़े छिपाने के आरोपों में चिदंबरम का केंद्र सरकार पर निशाना◾प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वास्तविक मुद्दों पर फोकस करने का दिया निर्देश ◾सर्वदलीय बैठक में बोले PM मोदी- सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए हैं तैयार ◾गोताबेया राजपक्षे ने जीता श्रीलंका के राष्ट्रपति का चुनाव, PM मोदी ने दी बधाई◾

दिलचस्प खबरें

इस बड़ी वजह से ट्रैफिक सिग्नल के लाइट लाल, पीले और हरे रंग के इस्तेमाल किये जाते हैं

यातायात के नियमों का पालन करने से सड़क पर हम सुरक्षित चल पाते हैं और यह करना आवश्यक भी है। ट्रैफिक सिग्नल्स भी इन्हीं नियमों में आते हैं। इनके बारे में आप सबको ही पता है। 

लेकिन कई ऐसे लोग हैं जिन्हें इन ट्रैफिक सिग्नल की तीनों लाइट यानी लाल, पीली और हरी के बारे में यह नहीं पता है कि आखिर इन्हीं रंगों को ही क्यों इस्तेमाल किया जाता है। चलिए जानते हैं इनके पीछे के रहस्य को। 

ट्रैफिक लाइट्स की इन तीनों रंगों का मतलब पहले हम आपको बताएंगे। ट्रैफिक लाइट में जो लाल रंग होता है उसका मतलब गाड़ी को रोकना होता है। पीला का मतलब आप आगे बढ़ने के लिए तैयार रहें और हरे का मतलब आप आगे जा सकते हैं। 

10 दिसंबर 1868 में दुनिया में पहली ट्रैफिक लाइट लंदन के ब्रिटिश हाउस ऑफ पार्लियामेंट के सामने लगी थी। जेके नाईट नाम के रेलवे इंजीनियर ने इस लाइट केे बनाया और लगाया था। उस समय रात को ट्रैफिक लाइट आराम से दिख जाए जिसके लिए गैस भरी जाती थी। यह ट्रैफिक लाइट ज्यादा समय तक नहीं रह पाते थे और वह फट जाती थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ट्रैफिक लाइट में उस समय दो ही रंग होते थे और उनका ही इस्तेमाल किया जाता था। 

साल 1890 में बिजली ट्रैफिक लाइट पहला सुरक्षित स्वतः संयुक्त राज्य अमेरिका में लगे थे। इसके बाद दुनिया के कोने-कोने में ट्रैफिक लाइट का इस्तेमाल किया जाने लगा। ट्रैफिक सिग्नल में लाल, पीले और हरे रंग के इस्तेमाल होने के बारे में हम आपको बताते हैं। 


बाकी रंगों की अपेक्षा में लाल रंग बहुत गाढ़ा होता है। दूर से ही लाल रंग दिखाई दे जाता है। आगे खतरा होने का संकेत भी लाल रंग देता है जिसे देखकर आप रूक जाते हैं। इसी वजह से लाल रंग का इस्तेमाल किया गया। 

पीले रंग का इस्तेमाल ट्रैफिक लाइट में इसलिए भी करते हैं क्योंकि इसे ऊर्जा और सूर्य का प्रतीक भी मानते हैं। इसका यह भी अर्थ होता है कि आप पहले अपनी सारी ऊर्जा समेट लें फिर सड़क पर चलने के लिए अपने आपको तैयार करें। 

प्रकृति और शांति का प्रतीक हरे रंग को माना जाता है। हरे रंग को ट्रैफिक लाइट में इसलिए इस्तेमाल किया गया है क्योंकि वहां पर इसका अर्थ बिल्कुल उलट है। आंखों को हरा रंग सुकून देता है और आप किसी भी खतरे के बिना आगे सड़क पर चल सकते हैं।