BREAKING NEWS

'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾Bihar Election : कृषि मंत्री ने कमल निशान वाला मास्क पहन वोट डालने पहुंचे, दर्ज होगा मामला ◾बिहार चुनाव : 11 बजे तक 18.48 फीसदी मतदान,जानिए कहां कितने प्रतिशत हुई वोटिंग◾दरभंगा रैली में बोले PM मोदी, पूर्व की सरकारों का मंत्र रहा, पैसा हज़म-परियोजना खत्म◾मुंगेर मामला : तेजस्वी ने कहा- पुलिस ने लोगों को ढूंढ-ढूंढ कर पीटा, कांग्रेस ने सरकार से बर्खास्तगी की मांग की ◾देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना के 43,893 नए मामलों की पुष्टि और 508 मरीजों ने गंवाई जान◾JDU ने चिराग को बताया RJD की 'बी' टीम, कहा-रील लाइफ के साथ रियल लाइफ में भी असफल◾बिहार में कोरोना काल के बीच मतदान जारी, शुरुआती 2 घंटे में 6.74 प्रतिशत हुआ मतदान ◾Bihar Election : राहुल गांधी और जेपी नड्डा ने लोगों से वोट करने की अपील की, कही ये बात ◾जम्मू-कश्मीर के बडगाम में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ के दौरान 2 आतंकवादियों को मार गिराया ◾बिहार चुनाव : कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 71 सीटों के लिए मतदान जारी, पीएम मोदी ने लोगों से की ये अपील ◾बिहार चुनाव : पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर मतदान आज, 1066 प्रत्याशियों के भविष्य का होगा फैसला◾बिहार विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए आज PM मोदी और राहुल की कई रैलियां◾आज का राशिफल ( 28 अक्टूबर 2020 )◾अर्थव्यवस्था में सुधार, पर 2020-21 में वृद्धि दर नकारात्मक या शून्य के करीब रहेगी : सीतारमण ◾SRH vs DC ( IPL 2020 ) : साहा, वॉर्नर और राशिद ने सनराइजर्स को दिलाई दिल्ली पर जीत◾पोम्पियो के दौरे से भड़का बीजिंग, कहा : 'भारत - चीन' के बीच कलह के बीज बोना बंद करें अमेरिका◾उमर अब्दुल्ला बोले- नया भूमि कानून स्वीकार नहीं, इस छल से जम्मू-कश्मीर बिकने के लिए तैयार◾अगर आरजेडी सत्ता में आयी तो विकास के कटोरे में छेद हो जायेगा, इनका चरित्र ही अराजक है : जेपी नड्डा ◾भ्रष्टाचार का वंशवाद बड़ी चुनौती, कई राज्यों में राजनीतिक परंपरा का हिस्सा बना: पीएम मोदी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Happy Friendship Day 2019 : सच्ची दोस्ती की ये कहानियां दुनिया के लिए बन गईं मिसाल

कहावत तो सुनी होगी हर एक दोस्त जरूरी होता है लेकिन हमारी जिंदगी में कई ऐसे दोस्त होते हैं जो महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाते हैं। इस खास मौके पर आज हम आपको दनिया भर में उन दोस्तों की दोस्ती की मिसालें सुनाते हैं जिसने दोस्ती को खास बना दिया। 

1. बिल गेट्स और वॉरेन बफे

जब भी रूपया और शोहरत आती है तो दोस्ती कहीं पीछे छूट जाती है। लेकिन बिल गेट्स और वॉरेन बफे ने इस बात को गलत साबित कर दिया है। दुनिया के दूसरे और तीसरे सबसे अमीर बिजनेस मैन की दोस्ती की बात करें तो 28 साल पुरानी है। 5 जुलाई अपनी दोस्ती की सालगिरह मइक्रोसॉफट के सहसंस्‍थापक बिल गेट्स और बर्कशायर हैथवे के चेयरमैन वॉरेन बफे मनाएंगे। 5 जुलाई 1991 में दोनों की मुलाकात एक औपचारिक बैठक के दौरान हुई थी। 

उस समय दोनों ने ज्यादा एक दूसरे से बात नहीं की थी। बता दें कि गेट्स और बफे में 25 साल का अंतर है। बफे 88 के हैं और गेट्स 63 के लेकिन कभी भी दोनों की दोस्ती में उम्र का फासला नहीं आया। एक बार बिल गेट्स ने बताया था कि किसी भी संकट में जब वह होते हैं तो वह यही सोचते हैं कि अगर बफे होते तो क्या करते ऐसे उन्हें परेशानी का हल अच्छे से मिल जाता है। 

2. सचिन तेंदुलकर- अतुल रानाडे

फिल्म थ्री इडियट्स का एक डॉयलोग है दोस्त अगर फेल हो जाए तो बुरा लगता है और अगर टॉप कर जाए तो सबसे ज्यादा बुरा लगता है यह गुदगुदाता जरुर है। लेकिन असलियत में जब दोस्त को सफलता मिलती है तो सच्चा दोस्त हमेशा खुश होता है। सचिन तेंदुलकर और अतुल रानाडे की दोस्ती यह मिसाल पेश करती है। स्‍कूूल के दिनों में सचिन और अतुल दोनों ने बल्ला एक साथ चलाना सीखा था। इसके साथ ही मुंबई की साहित्य सहवास कॉलोनी में भी दोनों का परिवार रहता था। क्रिकेट की क्लास दोनों ने गुरु रमाकांत आचरेकर से लेनी शुरु की थी।

सचिन और अतुल दोनों ने एक साथ क्रिकेट का सफर शुरु किया था जिसमें सचिन ने कई बड़ी बुलंदियां हासिल की लेकिन अतुल अपना कैरियर इसमें नहीं बना पाए। सचिन ने अपनी बचपन की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा था, हमारी दोस्ती आज भी वैसी ही है जैसी बचपन में थी। रानाडे सचिन के साथ अपनी दोस्ती पर कहते हैं कि हम दोनों की दोस्ती का अहम पहलु आपसी सच्चाई है और सचिन अपनी बात के पक्के हैं इसलिए हमारी दोस्ती के बीच में कभी परेशानी नहीं आती है। 

3. अटल बिहारी वाजपेयी-लालकृष्‍ण आडवाणी

अटल-आडवाणी ऐसे दो नेता हैं जिन्हें एक मकसद ने सबसे अच्छा दोस्त बनाया। दोनों की दोस्ती समय के साथ मजबूत होती गई। भारतीय जनता पार्टी को जनसंघ के इन दोनों नेताओं ने बनाया है और दोनों ने अपनी राजनीतिक विचारधारा को देश की मुख्यधारा बनाया। वाजपेयी अब इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन इन दोनों राजनेताओं की दोस्ती को सदियों तक याद किया जाएगा। 

50 के दशक में दोनों की मुलाकात हुई थी। लोकसभा का चुनाव जीत कर वाजपेयी संसद पहुंचे थे तो अब जन संघ के विजयी सांसदों की मदद से आडवाणी को दिल्‍ली बुलाया था। उस दौरान दोनों करीब आए और उनकी दोस्ती मजबूत हुई। दोनों एक साथ कई समय बीताते थे।