BREAKING NEWS

लॉकडाउन-5 में अनलॉक हुई दिल्ली, खुलेंगी सभी दुकानें, एक हफ्ते के लिए बॉर्डर रहेंगे सील◾PM मोदी बोले- आज दुनिया हमारे डॉक्टरों को आशा और कृतज्ञता के साथ देख रही है◾अनलॉक-1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर बढ़ी वाहनों की संख्या, जाम में लोगों के छूटे पसीने◾कोरोना संकट के बीच LPG सिलेंडर के दाम में बढ़ोतरी, आज से लागू होगी नई कीमतें ◾अमेरिका : जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पर व्हाइट हाउस के बाहर हिंसक प्रदर्शन, बंकर में ले जाए गए थे राष्ट्रपति ट्रंप◾विश्व में महामारी का कहर जारी, अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 61 लाख के पार हुआ ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 90 हजार के पार, अब तक करीब 5400 लोगों की मौत ◾चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर गृह मंत्री शाह बोले- समस्या के हल के लिए राजनयिक व सैन्य वार्ता जारी◾Lockdown 5.0 का आज पहला दिन, एक क्लिक में पढ़िए किस राज्य में क्या मिलेगी छूट, क्या रहेगा बंद◾लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Happy Friendship Day 2019 : सच्ची दोस्ती की ये कहानियां दुनिया के लिए बन गईं मिसाल

कहावत तो सुनी होगी हर एक दोस्त जरूरी होता है लेकिन हमारी जिंदगी में कई ऐसे दोस्त होते हैं जो महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाते हैं। इस खास मौके पर आज हम आपको दनिया भर में उन दोस्तों की दोस्ती की मिसालें सुनाते हैं जिसने दोस्ती को खास बना दिया। 

1. बिल गेट्स और वॉरेन बफे

जब भी रूपया और शोहरत आती है तो दोस्ती कहीं पीछे छूट जाती है। लेकिन बिल गेट्स और वॉरेन बफे ने इस बात को गलत साबित कर दिया है। दुनिया के दूसरे और तीसरे सबसे अमीर बिजनेस मैन की दोस्ती की बात करें तो 28 साल पुरानी है। 5 जुलाई अपनी दोस्ती की सालगिरह मइक्रोसॉफट के सहसंस्‍थापक बिल गेट्स और बर्कशायर हैथवे के चेयरमैन वॉरेन बफे मनाएंगे। 5 जुलाई 1991 में दोनों की मुलाकात एक औपचारिक बैठक के दौरान हुई थी। 

उस समय दोनों ने ज्यादा एक दूसरे से बात नहीं की थी। बता दें कि गेट्स और बफे में 25 साल का अंतर है। बफे 88 के हैं और गेट्स 63 के लेकिन कभी भी दोनों की दोस्ती में उम्र का फासला नहीं आया। एक बार बिल गेट्स ने बताया था कि किसी भी संकट में जब वह होते हैं तो वह यही सोचते हैं कि अगर बफे होते तो क्या करते ऐसे उन्हें परेशानी का हल अच्छे से मिल जाता है। 

2. सचिन तेंदुलकर- अतुल रानाडे

फिल्म थ्री इडियट्स का एक डॉयलोग है दोस्त अगर फेल हो जाए तो बुरा लगता है और अगर टॉप कर जाए तो सबसे ज्यादा बुरा लगता है यह गुदगुदाता जरुर है। लेकिन असलियत में जब दोस्त को सफलता मिलती है तो सच्चा दोस्त हमेशा खुश होता है। सचिन तेंदुलकर और अतुल रानाडे की दोस्ती यह मिसाल पेश करती है। स्‍कूूल के दिनों में सचिन और अतुल दोनों ने बल्ला एक साथ चलाना सीखा था। इसके साथ ही मुंबई की साहित्य सहवास कॉलोनी में भी दोनों का परिवार रहता था। क्रिकेट की क्लास दोनों ने गुरु रमाकांत आचरेकर से लेनी शुरु की थी।

सचिन और अतुल दोनों ने एक साथ क्रिकेट का सफर शुरु किया था जिसमें सचिन ने कई बड़ी बुलंदियां हासिल की लेकिन अतुल अपना कैरियर इसमें नहीं बना पाए। सचिन ने अपनी बचपन की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा था, हमारी दोस्ती आज भी वैसी ही है जैसी बचपन में थी। रानाडे सचिन के साथ अपनी दोस्ती पर कहते हैं कि हम दोनों की दोस्ती का अहम पहलु आपसी सच्चाई है और सचिन अपनी बात के पक्के हैं इसलिए हमारी दोस्ती के बीच में कभी परेशानी नहीं आती है। 

3. अटल बिहारी वाजपेयी-लालकृष्‍ण आडवाणी

अटल-आडवाणी ऐसे दो नेता हैं जिन्हें एक मकसद ने सबसे अच्छा दोस्त बनाया। दोनों की दोस्ती समय के साथ मजबूत होती गई। भारतीय जनता पार्टी को जनसंघ के इन दोनों नेताओं ने बनाया है और दोनों ने अपनी राजनीतिक विचारधारा को देश की मुख्यधारा बनाया। वाजपेयी अब इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन इन दोनों राजनेताओं की दोस्ती को सदियों तक याद किया जाएगा। 

50 के दशक में दोनों की मुलाकात हुई थी। लोकसभा का चुनाव जीत कर वाजपेयी संसद पहुंचे थे तो अब जन संघ के विजयी सांसदों की मदद से आडवाणी को दिल्‍ली बुलाया था। उस दौरान दोनों करीब आए और उनकी दोस्ती मजबूत हुई। दोनों एक साथ कई समय बीताते थे।