BREAKING NEWS

केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾CM चन्नी के भाई को टिकट न देने से सिद्ध होता है कि कांग्रेस ने दलित वोटों के लिए उनका इस्तेमाल किया : राघव चड्ढा◾उत्तराखंड : हरीश रावत बोले-हरक सिंह मांग लें माफी तो कांग्रेस में उनका स्वागत◾इस साल 75वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर 75 एयरक्राफ्ट उड़ान भरेंगे,आसमान से दिखेगी भारत की ताकत◾पंजाब : AAP की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए उम्मीदवार की घोषणा कल करेंगे केजरीवाल◾सम्राट अशोक की तुलना मामले ने बढ़ाई BJP-JDU में तकरार, जायसवाल ने पढ़ाया मर्यादा का पाठ◾पीएम की सुरक्षा में चूक की जांच कर रहीं जस्टिस इंदु मल्होत्रा को मिली खालिस्तानियों की धमकी◾

बिल्व पत्र का उपयोग कितने दिनों तक किया जा सकता है, जानें क्या है भोलेनाथ की पूजा में इसका विशेष महत्व

हिंदू धर्म में हर भगवान की पूजा-अर्चना के लिए हफ्ते का एक दिन बताया गया है। ऐसे में भगवान शिव की पूजा के लिए सोमवार का दिन है। कई वस्तुएं अर्पित भोलेनाथ को करते हैं। शिव भगवान को पूजा में भांग, धतूरा, दूध आदि यह होती हैं। इनमें से एक बिल्व पत्र होता है जो पूजा में भोलेनाथ को अर्पित किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कितने दिनों तक बिल्व पत्र को वृक्ष पर से तोड़ने के बाद भगवान शिव को अर्पित किया जा सकता है। इसके अलावा क्या फायदा इसका वृक्ष लगाने से है और औषधिय महत्व इसका क्या होता है। 

बिल्व पत्र भोलेनाथ को बहुत प्रिय है। इसलिए भगवान शिव की पूजा में बिल्व पत्र चढ़ाया जाता है। बिल्ब पत्र के बारे में शिव पुराण में भी बताया गया है। पूजा में एक ही बिल्व पत्र को दोबारा से धोकर चढ़ाया जा सकता है। छह माह तक बिल्व पत्र वृक्ष से टूटने के बाद भी बासी नहीं माना जाता। मान्यताओं के अनुसार पूजा करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति वहां पर होती जहां पर इसका पेड़ होता है। 

ये है इसका औषधिय महत्व

क्षार तत्व की मात्रा बिल्व पत्र में भरपूर होती है। ऐसा कहा जाता है कि इसका उपयोग कई रोगों के इलाज में किया जाता है। 

कई स्वास्थ समस्याएं व्यक्ति को  चातुर्मास में होती है और उनमें बहुत लाभदायक बिल्व पत्र होता है। 

यह बहुत लाभकारी गैस कफ और अपच की समस्या में होता है और यह फायदेमंद मधुमेह वालों को नहीं होता है। 

 ताजे बिल्व पत्र पीसकर चोट पर लगाने से घाव जल्दी भरता है। 

ये है इसका वास्तु महत्व 


घर के उत्तर-पश्चिम कोण में बेल के पौधे को लगाना शुभ माना गया है। अगर संभव न हो सके तो इसे उत्तर दिशा में भी लगा सकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि सदैव सकारात्मकता उस जगह पर बनी रहती है जहां पर बिल्व का पेड़ होता है। 

इन योग्य बातों का ध्यान बिल्व पत्र तोड़ते समय रखें 

बिल्व पत्र को सोमवार के दिन नहीं तोड़ना चाहिए। 

बिल्व पत्र को अष्टमी, चतुदर्शी, अमावस्या और संक्रांति के पर्व पर भी नहीं तोड़ना चाहिए। 

बिल्व पत्र भगवान शिव जी को चढ़ाते समय याद रहे वह एक दम साफ़ सुथरा होना चाहिए। 

जल की धारा शिवलिंग पर चढ़ाते बिल्व पत्र चढ़ाते समय रहें।