BREAKING NEWS

PM मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच फोन पर हुई बात, ट्रंप ने मोदी को G-7 सम्मेलन में शामिल होने का दिया न्योता◾चक्रवात निसर्ग : राहुल गांधी बोले- महाराष्ट्र और गुजरात के लोगों के साथ पूरा देश खड़ा है ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,287 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 72 हजार के पार ◾वित्त मंत्रालय में कोरोना वायरस ने दी दस्तक, मंत्रालय के 4 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव ◾कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच, सरकार ने कहा- भारत महामारी से लड़ाई के मामले में अन्य देशों से बेहतर स्थिति में ◾जेसिका लाल हत्याकांड : उपराज्यपाल की अनुमति पर समय से पहले रिहा हुआ आरोपी मनु शर्मा ◾बाढ़ से घिरे असम के 3 जिलों में भूस्खलन, 20 लोगों की मौत, कई अन्य हुए घायल◾दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी का हुआ पत्ता साफ, आदेश गुप्ता को सौंपा गया कार्यभार◾दिल्ली हिंसा मामले में ताहिर हुसैन समेत 15 के खिलाफ दायर हुई चार्जशीट◾Covid-19 : अब घर बैठे मिलेगी अस्पतालों में खाली बेड की जानकारी, CM केजरीवाल ने लॉन्च किया ऐप◾कारोबारियों से बोले PM मोदी-देश को आत्मनिर्भर बनाने का लें संकल्प, सरकार आपके साथ खड़ी है◾ ‘बीएए3’ रेटिंग को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा-अभी तो स्थिति ज्यादा खराब होगी ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर तंज, कहा- 6 साल का बदलाव, मूडीज का डाउनग्रेड अब कहां गए मोदी जी?◾महाराष्ट्र और गुजरात में 'निसर्ग' चक्रवात का खतरा, राज्यों में जारी किया गया अलर्ट, NDRF की टीमें तैनात◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से 5598 लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 लाख के करीब ◾Covid-19 : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, मरीजों की संख्या 62 लाख के पार पहुंची ◾डॉक्टर ने की जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या की पुष्टि, कहा- गर्दन पर दबाव बनाने के कारण रुकी दिल की गति◾अमेरिका में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी जारी, मरीजों की आंकड़ा 18 लाख के पार हुआ ◾भारत में कोविड-19 से ठीक होने की दर पहुंची 48.19 प्रतिशत,अब तक 91,818 लोग हुए स्वस्थ : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,361 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 70 हजार के पार, अकेले मुंबई में 40 हजार से ज्यादा केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

19 साल की बेटी ने अपने पिता की जान बचाने के लिए किया अपना 65 प्रतिशत लीवर दान

बेटियों को आज भी भले समाज में एक वर्ग बोझ मानता हो और उनके जन्म पर अफसोस जताता है। लेकिन कोलकाता की एक 19 साल की बेटी ने अपने बीमार पिता के लिए कुछ ऐसा किया है जिससे इस सोच को बदलने में मदद जरूर मिलेगी। इस बहादुर बेटी ने जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहे अपने बीमार पिता को अपने लीवर का 65 फीसदी हिस्सा दान कर दिया है।

बेटी ने दी अपने पिता को नई जिंदगी

सुदीप दत्ता की दो बेटियां हैं जिनका नाम रूबी और राखी दत्ता है। उन्हें अपनी बेटियों पर बहुत गर्व हैं और वह खुद को भाग्यशाली पिता मानते हैं जो दो बेटियों के पिता है। बता दें कि हाल ही में सुदीप दत्ता हेपेटाइटिस बी पॉजिटिव से पीडि़त थे और डॉक्टरों ने उन्हें लिवर चेंज करने की सलाह दी थी। उन्हें करीब 20 दिनों के लिए कोलकाता के नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

\"\"

ये अस्पताल लीवर ट्रांसप्लांट के लिए 35 लाख रुपए ले रहा था। वहीं 20 दिनों तक अस्पताल में इलाज होने के बाद भी सुदीप के स्वास्थ्य में कोई भी सुधार देखने को नहीं मिला था वहीं अस्पताल वाले भी एक लीवर डोनर को खोजने में काफी ज्यादा समय लगा रहे थे। इसलिए सुदीप दत्ता की बड़ी बेटी रूबी ने अपने पिता को तभी अस्पताल से छुट्टी देने के लिए मेडिकल बांड पर हस्ताक्षर किए।

मुस्कराते हुए ऑपरेशन थियेटर गईं दोनों बहने

सुदीप की दोनों बेटियां रूबी और राखी अपने पिता के अच्छे इलाज के लिए उन्हें हैदराबाद के गाचीबोवली में एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी में ले गई। वहीं मेडिकल चेकअप होने के बाद सुदीप को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया और इलाज शुरू होने के बाद रूबी ने अपने पिता को अपना लीवर दान करने के लिए कहा डॉ राजेंद्र प्रसाद को कहा। वो एक ही बार में तैयार हो गई फिर उनका मेडिकल चेकअप किया गया। लेकिन हुआ कुछ ऐसा जब चेकअप के बाद मेेडिकल रिपोर्टस आई तो मालूम हुआ कि रूबी का लीवर का ढांचा बिल्कुल अलग था। अगर रूबी 65 प्रतिशत से ज्यादा अपना लीवर ट्रंसफर करती हैं तो उनके लिए वह जोखिम भरा सिद्घ हो सकता है।

\"\"

उसके बाद राखी को लीवर ट्रांसप्लांट के लिए बोला गया और उसके बाद उनके मेडिकल टेस्ट भी किए गए और उनके लीवर की संरचना उसके पिता के साथ मैच हो गई थी। राखी अपने बीमार पिता को ठीक करने के लिए अपना 65 प्रतिशत ट्रांसफर करने के लिए तैयार हो गई थी।

\"\"

सुदीप दत्ता का बचना 80 प्रतिशत तय जबकि राखी का 0.5 प्रतिशत जोखिम में था। लेकिन दोनों बेटियों ने बिना अपनी परवाह किए पिता की भलाई के अलावा किसी और चीज के लिए नहीं सोचा ताकि उनके पिता अच्छे से स्वास्थ होकर घर वापस लौट आएं।

बता दें कि राखी 19 साल की हैं और रूबी 25 साल की हैं। इन दोनों बहनों ने अपने पिता को जल्द से जल्द ठीक करने की सारी कोशिशे की और सारी जिम्मेदारी भी संभाली और 4 महीने तक ये दोनों बहने अपने पिता के साथ हैदराबाद में ही रहीं। करीब दो हफ्तों बाद पिता को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह उन्हें हैदराबाद से कोलकाता लेकर आई। साथ ही राखी जिन्होंने अपने पिता को लीवर दान किया वह इस लड़ाई में सफल हो गई।