BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में SP के लिए प्रचार करेंगी ममता बनर्जी◾भाजपा का दामन थाम सकती हैं मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव - सूत्र◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : राजनाथ ने ममता को बंगाल की झांकी न होने की बताई ये वजह !◾पंजाब : कांग्रेस के 4 नेताओं ने मंत्री को पार्टी से निकालने की मांग की, सोनिया गांधी को लिखा पत्र ◾विधानसभा चुनावों में डिजिटल माध्यम से रैलियां करेगी BJP◾केरल : कोविड के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पाबंदियों पर बृहस्पतिवार को फैसला लेगी राज्य सरकार ◾कांग्रेस ने PM मोदी पर साधा निशाना - प्रधानमंत्री और भाजपा ने इकलौते दलित मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रतिशोध की कार्रवाई की◾UAE के विदेश मंत्री ने जयशंकर से की बात, आतंकी हमले में भारतीयों की मौत पर दुख जताया ◾ मुंबई : INS रणवीर में हुआ ब्लास्ट, तीन जवानों की मौत, कई घायल ◾यूपी : प्रियंका गांधी ने महिला कार्यकर्ताओं से की अपील, जहां कांग्रेस की महिला प्रत्याशी वहां करें समर्थन ◾ दिल्ली में मिले IED की हर कोण से जांच कर रही है पुलिस, अधिकारी ने दी जानकारी ◾दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 11,684 नए मामले आए सामने, 38 की हुई मौत ◾आजम खान जेल में रहकर लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव, रामपुर से सपा के उम्मीदवार घोषित◾पंजाब : ED ने मारा सीएम चन्नी के परिजनों पर छापा, कांग्रेस बोली ईडी है भाजपा का चुनाव विभाग◾BJP ने यूपी चुनाव के लिए उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी , इन नामों पर लगी मुहर◾बसपा ने भी किया 10 छोटे दलों से गठबंधन का ऐलान, यूपी चुनाव से पहले BSP ने चल दिया बड़ा दांव◾उत्तराखंड: दिल्ली में कल होगी BJP की चुनाव समिति की अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम की सूची पर होगा मंथन ◾देवास-एंट्रिक्स डील को लेकर वित्त मंत्री ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- यह धोखाधड़ी का सौदा था◾सुल्ली डील्स और बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप बना रही महिलाओं को निशाना, DCW ने भेजा पुलिस को नोटिस ◾हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने वालों को प्रोत्साहित करने की स्पर्धा है कांग्रेस, SP में: BJP◾

जानें इंटरनेट बंद होने की वजह से हर घंटे कितने करोड़ रुपए का होता है नुकसान

संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर देशभर में रोजाना कोई न कोई हंगामा होता रहता है। वहीं इस दौरान यूपी के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुए हैं जिसको देखते हुए सरकार ने एहतियातन इन जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी है। यूपी के अलावा असम सहित पूर्वोत्तर के कई सारे राज्यों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गइ थी। बता दें कि इंटरनेट सेवा बंद होने से केवल आम लोगों को ही नहीं बल्कि टेलीकॉम कंपनियों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

टेलीकॉम कंपनियों को झेलना पड़ा भारी नुकसान

दरअसल फर्जी तस्वीरों और फर्जी खबरों की रोकथाम के लिए हिंसा प्रभावित जगहों पर इंटरनेअ सेवाएं को रद्द किया गया। वहीं मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर्स के संगठन सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने बताया कि इंटरनेट सेवा बंद होने की वजह से प्रतिघंटे के हिसाब से तकरीबन 2.5 करोड़ रुपए का नुकसान होता है। सीओएआई के एक अधिकारी का कहना है कि इस संबंध में केंद्र को चिट्ठी भी लिखी गई है। जबकि सरकार की ओर से अब तक भी इसपर कोई जवाब नहीं आया है। 

राजन मैथ्यू का कहना है कि इंटरनेट सेवा बंद करने से पहले इसकी लागत पर भी विचार किया जाना चाहिए। सीओएआई के महासचिव का ये बयान उस समय आया जब संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर हिंसक प्रदर्शन के बाद यूपी के बहुत सारे जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई। जम्मू-कश्मीर में भी सरकार ने आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी थी। सीओएआई के अधिकारियों के मुतबिक इंटरनेट बंद करने के पीछे कई और अन्य कमियां हैं। 

करीब 100 बार अलग-अलग इलाकों में बंद हुआ इंटरनेट 


सीओएआई के अधिकारियों का यह भी कहना है कि 8 अगस्त 2017 के गजट नोटिफिकेशन में भी इन खामियों को लिस्टेड कर दिया गया है और सरकार का ध्यान इस ओर आकर्षित कर लिया गया। क्योंकि बताया गया है कि आमतौर पर इंटरनेट सेवा बंद करने संबंधी नोटिफिकेशन पर सचिव स्तर के अधिकारी के सिग्नेचर नहीं होते हैं। 

इसके साथ ही इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश की जानकारी बार-बार सीओएआई को नहीं दी जाती। वहीं महासचिव राजन मैथ्यू ने बताया कि इस साल तकरीबन 100 बार देश के अलग-अलग इलाकों में इंटरनेट सेवा को बंद किया गया है। मगर इसे नियंत्रित करने की कोशिश जरूर करनी चाहिए।