गुजरात विधानसभा स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और संविधान निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर को ‘ब्राह्मण’ कहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कृष्ण भगवान ओबीसी थे, जिन्हें ऋषि संदीपनी ने भगवान बनाया था। ये बातें उन्होंने गांधी नगर में आयोजित मेगा ब्राह्मण बिजनेस समिट में लोगों को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि विद्वान ब्राह्मण समुदाय कभी शक्ति का भूखा नहीं है। ब्राह्मणों ने भगवान राम और कृष्ण जैसे देवताओं तथा चंद्रगुप्त मौर्य की सफलता में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि ब्राह्मण देवता बनाते हैं।

मैं हमेशा कहता हूं कि भगवान राम क्षत्रिय थे, मगर यह ऋषि और मुनी थे, जिन्होंने उन्हें भगवान बनाया। समस्तत गुजरात ब्राह्मण समाज की ओर से महात्मा मंदिर पर आयोजित इस बिजनेस समिट कम जॉब फेयर मेले में वे बोल रहे थे।गोकुल के ओबीसी चरवाहे को भगवाव बनाने वाले ब्राह्मण संदीपनी ऋषि थे। त्रिवेदी ने कहा कि भगवान व्यास मत्स्य कन्या के पुत्र थे, मगर उन्होंने ब्राह्मणों ने भगवान बनाया। 2017 में बीजेपी के टिकट पर वड़ोदरा की राओपुरा सीट से चुनाव जीतने वाले विधानसभा स्पीकर ने यह बातें मुख्यमंत्री विजय रुपानी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल की मौजूदगी में कही। त्रिवेदी ने ब्राह्मणों की तुलना उबले हुए दूध के ऊपर जमने वाली मलाई से की।

अपने भाषण के अंत में उन्होंने कहा कि हर पढ़ा-लिखा इंसान ब्राह्मण होता है। उन्होंने कहा, ‘मुझे यह कहने में कोई झिझक नहीं है कि अंबेडकर भी एक ब्राह्मण थे। वह अपने सरनेम की वजह से ब्राह्मण थे जो उनके एक ब्राह्मण टीचर ने दिया था। मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी ब्राह्मण हैं।’ उन्होंने अपने भाषण में बताया कि ब्राह्मण समुदाय ने देश को पांच राष्ट्रपति, सात प्रधानमंत्री , 50 मुख्यमंत्री, 50 से ज्यादा राज्यपाल, 27 भारत रत्न विजेता और सात नोबल पुरस्कार विजेता दिए हैं। इस सम्मेलन में रोजगार की तलाश में आए हजारों युवा शामिल हुए थे।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।