BREAKING NEWS

चीन से तनातनी के बीच बोले रक्षामंत्री - अगर दुश्मन हम पर हमला करता है तो मुंहतोड़ जवाब देंगे◾विधानसभा कार्यवाही के बाद बोले पायलट-पहले मैं सरकार का हिस्सा था, लेकिन अब नहीं◾गृहमंत्री अमित शाह ने कोरोना को दी मात, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव ◾गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾जम्मू-कश्मीर : स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले श्रीनगर में आतंकवादी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद◾सुशांत मामले में बदले संजय राउत के सुर, कहा-अभिनेता के परिवार को मिले न्याय◾कोरोना वैक्सीन बनाने वाले देशों में से एक होगा भारत, सरकार को वितरण रणनीति बनाने की जरूरत : राहुल गांधी◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 64 हजार 533 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख के करीब◾दुनियाभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 करोड़ 7 लाख के पार, 7 लाख 52 हजार लोगों की मौत ◾LAC विवाद पर US ने दिया भारत का साथ, चीनी आक्रामकता की आलोचना करने वाला प्रस्ताव अमेरिकी सीनेट में पेश◾राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, BJP के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विश्वास प्रस्ताव◾स्वतंत्रता दिवस : कोरोना महामारी के बीच हर साल से अलग होगा समारोह, दिल्ली में की गई बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था ◾राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾कोविड-19 : राहुल का PM मोदी पर वार, कहा- कोरोना की यह ‘संभली हुई स्थिति’ है तो ‘बिगड़ी स्थिति’ किसे कहेंगे ◾कोविड-19 : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में मृत्यु दर घटकर 1.96 % हुई, कुल 27 प्रतिशत लोग ही संक्रमित◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

30 साल बाद एक बार फिर से दिखाई दी हिरण की ये दुर्लभ प्रजाति, दिखता है चूहे जैसा

हिरण की एक सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन प्रजाति है। इस प्रजाति के हिरण आकार में छोटे होते हैं जिसकी वजह से इन्हें माउस हिरण के नाम से भी जाना जाता है। हालांकि हिरण की यह प्रजाति अब डायनासोर की तरह विलुप्त होने वाली है। यह हिरण आगे से बिल्‍कुल चूहे जैसे दिखते हैं और चांदी जैसा रंग इनकी पीठ का होता है। 

इसी वजह से इन्हें सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन या माउस हिरण भी कहते हैं। एक अध्ययन नेचर इकोलॉती एंड इवोल्यूशन जर्नल में छपा है उसके मुताबिक,लगभग 30 साल पहले इस जानवर को देखा गया था। वियतनाम के उत्तर पश्चिमि जंगल में इस जानवर को दोबारा से देखा गया है। 

जिन जानवरों की प्रजातियां खतरे में हैं उसकी रेड लिस्ट यानी विलुप्त होने वाली श्रेणी में इस जानवर को रखा गया है। प्रकृति को जो संरक्षण इंटरनेशनल लेवल पर रखती है। उसने इस जानवर को रेड लिस्ट में रखा है। साल 1910 में पहली बार सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन की जानकारी हुई थी। वियतनाम के हो ची मिन्ह सिटी से लगभग 450 किलोमीटर दूर न्हा ट्रांग के पास कुछ जानवरों के साथ हिरण मिला था। 

इस प्रजाति के बारे में साल 1990 के बाद से विशेषज्ञों को कुछ भी पुष्टि नहीं हुई थी जिसके बाद उन्होंने यह सोच लिया था कि इन जानवरों को अवैध शिकार हो गया होगा जिसकी वजह से यह विलुप्त हो गए। जंगली जानवरों के विलुप्त होने की दो कारण हैं। पहला की जंगलों को अंधाधूंध काटा गया जिससे उन्हें जमीन मिल सके इसकी वजह से जानवरों का स्‍थाल ही बदल गया। दूसरा कारण यह है कि कुछ प्रजातियां ऐसी हैं जो अब पृथ्वी पर नहीं दिखाई देती क्योंकि उनका अवैध तरीके से शिकार कर दिया गया। 

सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन के मामले में एन नगुयेन ने कहा था कि वह अभी भी पृथ्वी पर हैं वो विलुप्त नहीं हुए हैं। स्‍थानीय ग्रामीणों के साथ नगुयेन उस जगह पर विशेषज्ञों को लेकर गए जहां  पर इस प्रजाति के हिरण को देखा गया था। इस हिरण के बारे में किसी तरह की जानकारी हासिल करने के लिए मोशन-एक्टिवेटिड कैमरे उस जंगल में 30 से ज्यादा लगा दिए। 

इस मामले में नगुयेन ने बताया कि इसकी जांच के लिए जब हमने अपना कैमरा ट्रैप किया तो हम हैरान रह गए। कैमरे में हमने सिल्वर फ्लैक्स के साथ सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन की तस्वीरें भी देखीं। अवैध शिकार का व्यापार दक्षिण एशिया खासतौर पर वियतनाम में फैला हुआ है। सिल्वर-बैकेड चेवरोटाइन की आबादी अवैध शिकार की वजह से विलुप्त होने की कगार पर आ चुकी है।