BREAKING NEWS

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भारत को एक बहुत बड़ी शक्ति, वक्त की कसौटी पर खरा उतरा मित्र बताया◾पंजाब के मुख्यमंत्री ने पाकिस्तान के साथ सीमा व्यापार खोलने की वकालत की◾महाराष्ट्र में आए ओमिक्रॉन के 2 और नए केस, जानिए अब कितनी हैं देश में नए वैरिएंट की कुल संख्या◾देश में 'ओमिक्रॉन' के बढ़ते प्रकोप के बीच राहत की खबर, 85 फीसदी आबादी को लगी वैक्सीन की पहली डोज ◾बिहार में जाति आधारित जनगणना बेहतर तरीके से होगी, जल्द बुलाई जाएगी सर्वदीय बैठक: नीतीश कुमार ◾कांग्रेस ने पंजाब चुनाव को लेकर शुरू की तैयारियां, सुनील जाखड़ और अंबिका सोनी को मिली बड़ी जिम्मेदारी ◾दुनिया बदलीं लेकिल हमारी दोस्ती नही....रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात में बोले PM मोदी◾UP चुनाव को लेकर प्रियंका ने बताया कैसा होगा कांग्रेस का घोषणापत्र, कहा- सभी लोगों का विशेष ध्यान रखा जाएगा◾'Omicron' के बढ़ते खतरे के बीच MP में 95 विदेशी नागरिक हुए लापता, प्रशासन के हाथ-पांव फूले ◾महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾

कलेक्‍टर साहब ने नौकरी मांगने आए 12 दिव्‍यांग जनों के लिए खुलवाया कैफे

इन दिनों तमिलनाडु के थूथुकुडी जिला कलेक्ट्रेट ने कुछ ऐसा कर दिखाया जिसके बारे में सुनकर अब हर कोई तारीफ करते नहीं थक रहा है। कलेक्ट्रेट परिसर में एक कैफे है जिसे दिव्यांग जनों की टीम हैंडल कर रही है। इस कैफे की शुरूआत का श्रेय जिला कलेक्टर संदीप नंदूरी को जाता है। उन्होंने नौकरी मांगने यहां पर आए दिव्यांग जनों के लिए ना केवल कैफे खुलवाएं हैं बल्कि काम करने वाले लोगों को 45 दिनों की होटल मैनेजमेंट की ट्रेनिंग भी दी है। 

यहां केवल सभी दिव्यांग जन है

खबरों के अनुसार ये कैफे एबल नाम से चल रहे हैं इस छोटे से कैफे की कमाई हर दिन 10 हजार रुपए की है। यहां पर काम करने वाले 12 लोगों में से 11 लोग लोकोमोटर दिव्यांग है। यानि उनके पैर चलने-फिरने की हालत में नहीं है। जबकि इनमें से एक व्यक्ति बहरा है। इस कैफे में हेड शेफ से लेकर सफाईकर्मी तक सभी दिव्यांग हैं।

संभव नहीं था सरकारी नौकरी देना

जिला कलेक्टर संदीप नंदूरी का कहना है कि मुझे अक्सर अलग-अलग दिव्यांग जनों से नौकरियों की याचिकाएं मिलती थीं। लेकिन हर किसी को सरकारी नौकरी दे पाना थोड़ा मुश्किल है। इसलिए हमने एक कैफे खोलने के विचार के साथ ही उन्हें अपना उद्यम चलाने में सक्षम बनाने का फैसला किया। 

ऐसे शुरूआत करते हुए दी सभी को ट्रेनिंग 

इस नेक काम की शुरूआत आईएएस संदीप नंदूरी ने खुद से की है। उन्होंने एक सहायता समूह गठन बनाया जिसमें उन्होंने दिव्यांग जनों को शामिल किया है जिन्होंने नौकरी के लिए अनुरोध किया था। पहले दिव्यांग जनों को 45 दिनों के होटल मैनेजमेंट ट्रेनिंग कोर्स में दाखिला दिलाया गया। इसके बाद तीन निजी कंपनियों के सीएसआर फंड और जिला प्रशासन द्वारा धन जुटाकर कलेक्ट्रेट परिसर में ही ‘कैफे’ की शुरुआत की गई।

जिला प्रशासन ने बताया कि नौकरी का अनुरोध लेकर आए इन सभी दिव्यांग जनों की ऐसी हालात नहीं थी कि ये कैफे का किराया दे पाएं और प्रशासन का मकसद इन्हें आत्मनिर्भर बनाना था। इसी वजह से कलेक्ट्रेट परिसर में ही कैफे खोलने का फैसला किया गया। कैफे एबल में आने वाले ग्राहकों को दक्षिण भारतीय नाश्ते,दोपहर और रात के भोजन के साथ ही गर्म पेय पदार्थों और जूस आदि दिया जाता है। कलेक्‍टर संदीप नंदूरी ने केवल कैफे खोलकर ही नहीं दिया बल्कि वह दिव्‍यांग जनों के प्रति लोगों की सोच बदलने के लिए खुद भी अक्‍सर कैफे में बैठते हैं। 

बैंक से मिलता है वेतन

बता दें कि कैफे से जो कमाई होती है उसका आधा हिस्सा बैंक में जमा किया जाता है। जिसके बाद दिव्यांग कमचारियों को वेतन मिलता है। बाकी के पैसों से सामान खरीद लिया जाता है। कलेक्टर साहब कहते हैं एक महीने से ज्यादा समय हो गया है और कैफे सही तरीके से चल रहा है। जब हमने दिव्यांग जनों की ट्रेनिंग  शुरू करवाई तब इनमें आत्मविश्वास की कमी थी लेकिन अब उन्हें खुद पर भरोसा है।