BREAKING NEWS

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य सरकारों की तारीफ की◾कांग्रेस ने सुरजेवाला ने कहा- राजस्थान का ‘विश्वासमत’ प्रजातंत्र के लिए नई रोशनी लेकर आया है◾चीन से तनातनी के बीच बोले रक्षामंत्री - अगर दुश्मन हम पर हमला करता है तो मुंहतोड़ जवाब देंगे◾विधानसभा कार्यवाही के बाद बोले पायलट-पहले मैं सरकार का हिस्सा था, लेकिन अब नहीं◾गृहमंत्री अमित शाह ने कोरोना को दी मात, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव ◾गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾जम्मू-कश्मीर : स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले श्रीनगर में आतंकवादी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद◾सुशांत मामले में बदले संजय राउत के सुर, कहा-अभिनेता के परिवार को मिले न्याय◾कोरोना वैक्सीन बनाने वाले देशों में से एक होगा भारत, सरकार को वितरण रणनीति बनाने की जरूरत : राहुल गांधी◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 64 हजार 533 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख के करीब◾दुनियाभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 करोड़ 7 लाख के पार, 7 लाख 52 हजार लोगों की मौत ◾LAC विवाद पर US ने दिया भारत का साथ, चीनी आक्रामकता की आलोचना करने वाला प्रस्ताव अमेरिकी सीनेट में पेश◾राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, BJP के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विश्वास प्रस्ताव◾स्वतंत्रता दिवस : कोरोना महामारी के बीच हर साल से अलग होगा समारोह, दिल्ली में की गई बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था ◾राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत के इन प्रसिद्ध मंदिरों में आज भी महिलाओं के जाने पर है प्रतिबंध

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता ऐसा हिंदू धर्म में कहते हैं। इस मंत्र का मतलब होता है कि जहां नारी की पूजा होती है वहीं पर देवताओं का वास होता है। हालांकि भारत में ऐसी कई जगह हैं जहां भगवान के घर मंदिरों में महिलाओं का जाना मना है। भारत के सबरीमाला मंदिर के साथ कई ऐसी भी मंदिर हैं जहां पर महिलाओं को जाने नहीं दिया जाता है। उनके जाने की वहां पर पाबंदी है। चलिए जानते हैं इन मंदिरों के बारे में-

शनि शिंगणापुर मंदिर, अहमदनगर, महाराष्ट्र

महिलाओं का इस मंदिर में प्रवेश करना बैन है। ऐसा कहते हैं कि शनिदेव खतरनाक तंरग महिलाओं के निकट जाने से छोड़ना शुरु कर देते हैं। लगभग 500 साल से महिलाएं मंदिर में प्रवेश नहीं कर रही हैं। 

कार्तिकेय मंदिर, पिहोवा, हरियाणा


इस मंदिर में भगवान कार्तिकेय की स्‍थापना हुइ है और वह ब्रह्मचारी हैं। इसी वजह से महिलाओं का इस मंदिर में आना बैन है। महिलाओं को श्राप का भय दिखाकर उन्हें इस मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जाता है। 

घटई देवी मंदिर, सतारा, महाराष्ट्र

महिलाएं इस मंदिर में भी प्रवेश नहीं कर सकती हैं। वैसे तो मंदिर के बाहर जो महिलाओं के प्रवेश न करने का बोर्ड था उसे हटा दिया गया है लेकन उसके बाद भी मंदिर में जाने से महिलाओं को रोकते हैं। 


कीर्तन घर, बरपेटा सत्र, बरपेटा, असम


असम के बरपेटा में यह मंदिर स्थित है यहा पर भी महिलाओं के जाना वर्जित है। यह मंदिर एक वैष्‍णव मठ है। भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भी इस मंदिर में जाने से मना किया गया था। 

मंगल चांडी मंदिर, बोकारो, झारखंड


इस मंदिर में महिलाओं को प्रवेश करनी की अनुमति 100 फीट की दूरी पर है। ऐसा कहा जाता है कि महिलाएं 100 फीट के घेरे के अंदर प्रवेश करती हैं तो उनपर कोई बड़ी समस्या आ सकती है। 

मावली माता मंदिर, धमतरी, छत्तीसगढ़


इस मंदिर को लेकर ऐसी मान्यता है कि मंदिर के एक पुजारी  को एक बार रात में सपना आया था कि महिलाएं देवता को नहीं पसंद हैं। इसी वजह से मंदिर में महिलाओं के जाने पर प्रतिबंध लगा दिया। 

बिमला माता मंदिर, पुरी, ओडिशा


इस मंदिर की मान्यता है कि काली मां के अवतार के रूप में महिलाओं को देखा जाता है। पुरी के जगन्नाथ मंदिर परिसर के बिमला माता मंदिर में जब दुर्गा पूजा होती है तो महिलाओं के 16 दिनों तक जाने पर प्रतिबंध लगा होता है। 

कामाख्या देवी, कामाख्या, असम


इस मंदिर में महिलाओं का आना उस दौरान मना होता है जब उन्हें पीरियड्स होते हैं। वैसे तो रजस्वला खुद यहां की देवी हैं। लेकिन मंदिर में रजस्वला महिलाओं के जाने पर वर्जित है। 

अवधूत देवी मंदिर, कोवलम, केरल


इस मंदिर के बाहर नीले रंग का बोर्ड है और उस पर लिखा है कि मंदिर में प्रवेश मासिक धर्म के दौरान करना मना है। ऐसा करना संस्कृति के खिलाफ होता है। 

सबरीमाला श्री अयप्पा मंदिर, पथानामथिट्टा, केरल


देवता अयप्पा के बारे में कहते हैं कि वह ब्रह्मचारी हैं। यही वजह है कि इस मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं का जाना वर्जित है। इस मंदिर में महिलाओं के जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने भी आदेश दिए हैं उसके बाद भी उनका जाना वर्जित है।