BREAKING NEWS

हिमंत बिस्व सरमा ने असम के 15वें मुख्यमंत्री के रूप में ली शपथ, समारोह में शामिल हुए जेपी नड्डा◾CWC मीटिंग में चुनावी हार पर बोलीं सोनिया- हमें चीजों को करना होगा दुरुस्त, केंद्र से की फ्री वैक्सीन की मांग ◾अमेरिका के हाथ लगी विस्फोटक रिपोर्ट, कोरोना के जरिए जैविक युद्ध लड़ने के लिए चीन ने 2015 में की थी जांच◾देश में कोरोना से हालत ख़राब, 10 राज्यों से आए महामारी के 73 प्रतिशत से अधिक केस◾विधानसभा चुनाव नतीजों पर CWC मीटिंग में मंथन, कोरोना संकट को लेकर भी होगी चर्चा ◾विदेशी सहायता लेने पर राहुल ने की आलोचना, कहा- केंद्र ने अपना काम किया होता तो ये नौबत नहीं आती◾देश में कोरोना मामलों में आई मामूली गिरावट, पिछले 24 घंटे में 3 लाख 66 हजार नए केस, 3748 लोगों की मौत ◾देशभर में कोरोना का कहर बरकरार, जानिये किस राज्य में है सख्त कर्फ्यू और कहां पर लॉकडाउन जैसी पाबंदियां◾राज्यपाल के सामने सरकार के गठन का दावा पेश करने के बाद हिमंत बिस्व सरमा आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾विश्वभर में कोरोना का कहर जारी, संक्रमित मामलों की संख्या 15.79 करोड़ के पार, अमेरिका बना सबसे प्रभावित देश ◾कोरोना महामारी से जूझ रहा भारत, संकट से उबरने के लिए लोगों का वैक्सीनेशन ही एकमात्र समाधान : फाउची◾पश्चिम बंगाल : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का कैबिनेट शपथ ग्रहण आज, 43 विधायक लेंगे शपथ ◾महाराष्ट्र में नीचे आ रहा कोरोना का ग्राफ, 24 घंटे में संक्रमण से 572 मरीजों की मौत, 48 हजार नए केस ◾थरूर ने हर्षवर्धन पर साधा निशाना, कहा- देश की सांस फूल रही है और स्वास्थ्य मंत्री को कुछ और हकीकत दिख रही है◾पश्चिम बंगाल : राज्‍यपाल धनखड़ ने TMC के 4 नेताओं के खिलाफ केस चलाने की दी मंजूरी◾काबुल के स्कूल में हुए आतंकी हमले की भारत ने की निंदा, कहा- आतंकवादियों के अभयारण्यों को ध्वस्त करने की तत्काल जरूरत◾हरियाणा में बढ़ाया गया 1 हफ्ते का लॉकडाउन, 17 मई तक जारी रहेंगी पाबंदियां◾CM केजरीवाल ने हर्षवर्धन को लिखा पत्र, दिल्ली को प्रतिमाह 60 लाख वैक्सीन उपलब्ध कराने की मांग की◾कोविड19 की सामग्री पर जीएसटी हटाने से महंगी होंगी दवाएं : वित्त मंत्री सीतारमण ◾पंजाब: अमरिंदर ने PM मोदी से ऑक्सीजन का कोटा, वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ाने का किया अनुरोध◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अगर आप भी मानसिक तनाव से जूझ रहे हैं तो अपनाएं आयुर्वेद के ये चार अचूक तरीके

मानसिक तनाव से हर कोई दूर रहना पसंद करता है। कोई नहीं चाहता उसे मानसिक तनाव की समस्या हो। लेकिन कई ऐसे लोग हैं जो अपने आपको पूरे दिन कुछ भी सोचकर परेशान कर लेते हैं। अगर किसी भी विषय पर आप जरूरत से ज्यादा सोचते हैं तो उससे आपका स्वास्‍थ्य खराब हो जाता है। जिसकी वजह से आपको अवसाद हो सकता है। 

शरीर के वात दोष से चिंता होती है। ये दोष ज्यादा काम, अनियतित आहार और ठंडे वातावरण की वजह से बिगड़ना शुरु हो जाता है। किसी भी काम में व्यक्ति का मन चिंता की वजह से नहीं लगता है और नींद भी कम आने लगती है। चलिए आपको मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाने के आयुर्वेदिक तरीके हम आपको बताएंगे।

स्नान करें गुनगुने पानी से


व्यक्ति का मन ज्यादा चिंता करने से अशांत हो जाता है। ऐसे में व्यक्ति अगर गुनगुने पानी से नहा लेता है तो बहुत राहत मिलती है। गर्म पानी में आप एक तिहाई कप पिसी हुई अदरक और बेकिंग सोडा मिला लें। इन दोनों चीजों को अपने पानी में 10 से 15 मिनट तक भीगने दें। उसके बाद आप इस पानी से नहा लें। ऐसा करने से आपको बहुत राहत मिलेगी। मन में कई सारी बातें और चिंता ऐसा करने से कम हो जाएगी। 

बादाम का दूध


रात में 10 से 12 बादाम भिगो दें। बादाम का छिलका अगले दिन उतार कर उसे पिस लें। बाद में पिसे हुए बादामों को गर्म दूध में दूसरे मेवों के साथ मिला लें। इस दूध में आप अदरक और केसर भी मिला दें उसके बाद इसका सेवन कर लें। यह पीने से आपको दिमाग शांत होगा और चिंता भी कम होंगी। इस दूध को आप रोज पी सकते हैं। इससे वात दोष कम होता है। 

सुगंध चिकित्सा


अक्सर देखा गया है कि व्यक्ति के मन पर अच्छी खुशबू अच्छा प्रभाव डालती है। इससे व्यक्ति हल्का महसूस करता है। वात दोष पर कुछ सुगंधों का असर अच्छा होता है। वात दोष को यह सुगंधें कम करने में सहायक होती हैं। तुलसी, नारंगी, लौंग और लैवेंडर का तेल आप अपने नहाने के पानी में मिलाकर स्नान कर सकते हैं। इतना ही नहीं इस सुगंध को आप अपने कमरे भी इस्तेमाल कर सकते हैं यह बहुत मददगार होती हैं।

वैकल्पिक नाक श्वास


व्यक्ति के दोषों को वैकल्पिक नाक श्वास शांत करती है। साथ ही यह चिंता को भी कम करने में सहायक होता है। मस्तिष्क को भी योग संतुलित करता है साथ ही मन को सही ऊर्जा प्रदान करता है। इसका प्रयास अगर आप किसी शांत जगह पर करते हैं तो लाभ मिलता है। एक बात का ध्यान रखें बल का प्रयोग सांस लेते समय न करें। सांस लेते समय मुंह से सांस न लें और थोड़ा आराम बीच-बीच में कर लें।