BREAKING NEWS

विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾

दिलचस्प खबरें

एक ऐसा शिक्षक जिसे नम आंखों के साथ पूरे गांव ने दी विदाई, देखें तस्वीरें

हम सभी ने अपने स्कूल के दिनों में मेरे पसंदीदा शिक्षक पर जरूर निबंध लिखे हैं। हम में से कुछ ने इस विषय पर बेमन से निबंध लिखा तो कुछ ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने पसंदीदा टीचर के बारे में मन से बताया। 

एक अच्छे टीचर की चाहत हर किसी को होती है लेकिन हम में से ऐसे कई लोग हैं जिनकी यह सपना ही बन कर रह गया। वहीं कुछ लोगों की जिंदगी में ऐसे भी टीचर आए जिन्होंने उनकी जिंदगी को एक नया मोड़ दे दिया। उन टीचरों में आशीष डंगवाल का भी नाम शामिल हो गया है। 

ढोल-नगाड़ों के बीच बही आंसुओं की धारा


आशीष डंगवाल का स्वभाव सरल, मिलनसार जिसने बच्चों के साथ बड़ांे का दिल भी जीत लिया। उत्तरकाशी के भंकोली गांव में एक सरकारी स्कूल में 3 साल बाद आशीष डंगवाल जा रहे थे जहां पर उत्सव के साथ माहौल बहुत दुखथ था। लोगों ने अपने टीचर को जुलूस निकाल कर विदाई दी और सबकी आंखें नम नजर आईं। 

आशीष ने जीआईसी, भंकोली में सेवा दीं


सरकारी स्कूल में आशीष टीचर हैं। आशीष की विदाई का जब समय आया तो पूरा गांव ही आ गया। उस जुलूस में बुजुर्ग, पुरुष और महिलाएं सब थे। आशीष के जाने पर जहां बच्चे रो रहे थे वहीं कुछ अभिभावक भी थे जो रो पड़े। उन सभी के पास शब्द नहीं थे। जीआईसी भंकोली में आशीष टीचर के तौर पर काम करते थे। अब वहां से उनका ट्रांसफर हो चुका है। 

आशीष ने कहा, मेरे शब्द फीके हैं


आशीष की विदाई की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। फेसबुक पर आशीष डंगवाल ने पोस्ट लिखकर अपने दिल का हाल बताया है। एक ऐसा टीचर जब उसके जाने का समय आया तो बच्चे लिपट-लिपटकर कर रोए। अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट लिखते हुए आशीष ने कहा, मेरी प्यारी, केलसु घाटी, आपके लगाव, आपके सम्मान, आपके अपनेपन के आगे मेरे सारे शब्द फीके हैं। सरकारी आदेश को मानना मेरी मजबूरी थी, इसलिए जाना पड़ा। मुझे इस बात का बहुत दुख है। आपके साथ बिताए 3 साल मेरे लिए यादगार हैं। 

आज भी हम सब दावों में ही उलझे हुए हैं



पिछले 72 साल से ज्यादा समय हो चुका है लेकिन आज भी हम शिक्षा में सुधार पर ही अटके हुए हैं। कई बार हमें सरकार के उन बड़े नेताओं को कहते हुए सुना हैं कि देश का भविष्य बच्चे और युवा हैं। 

हर स्कूल में आशीष जैसे टीचर क्यों नहीं हैं?


बेरोजगारी हमारे देश में चरम सीमा पर आ चुकी है और इसके पीछे का बड़ा कारण अच्छी शिक्षा नहीं मिल पाना है। आशीष डंगवाल जैसे महान टीचर हर स्कूल में नहीं हैं लेकिन यह सवाल हम आप सब से पूछे रहे हैं कि आखिर क्यों नहीं हैं होना चाहिए। 

फेसबुक पोस्ट पढ़ें आशीष डंगवाल का