BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

एक ऐसा शिक्षक जिसे नम आंखों के साथ पूरे गांव ने दी विदाई, देखें तस्वीरें

हम सभी ने अपने स्कूल के दिनों में मेरे पसंदीदा शिक्षक पर जरूर निबंध लिखे हैं। हम में से कुछ ने इस विषय पर बेमन से निबंध लिखा तो कुछ ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने पसंदीदा टीचर के बारे में मन से बताया। 

एक अच्छे टीचर की चाहत हर किसी को होती है लेकिन हम में से ऐसे कई लोग हैं जिनकी यह सपना ही बन कर रह गया। वहीं कुछ लोगों की जिंदगी में ऐसे भी टीचर आए जिन्होंने उनकी जिंदगी को एक नया मोड़ दे दिया। उन टीचरों में आशीष डंगवाल का भी नाम शामिल हो गया है। 

ढोल-नगाड़ों के बीच बही आंसुओं की धारा


आशीष डंगवाल का स्वभाव सरल, मिलनसार जिसने बच्चों के साथ बड़ांे का दिल भी जीत लिया। उत्तरकाशी के भंकोली गांव में एक सरकारी स्कूल में 3 साल बाद आशीष डंगवाल जा रहे थे जहां पर उत्सव के साथ माहौल बहुत दुखथ था। लोगों ने अपने टीचर को जुलूस निकाल कर विदाई दी और सबकी आंखें नम नजर आईं। 

आशीष ने जीआईसी, भंकोली में सेवा दीं


सरकारी स्कूल में आशीष टीचर हैं। आशीष की विदाई का जब समय आया तो पूरा गांव ही आ गया। उस जुलूस में बुजुर्ग, पुरुष और महिलाएं सब थे। आशीष के जाने पर जहां बच्चे रो रहे थे वहीं कुछ अभिभावक भी थे जो रो पड़े। उन सभी के पास शब्द नहीं थे। जीआईसी भंकोली में आशीष टीचर के तौर पर काम करते थे। अब वहां से उनका ट्रांसफर हो चुका है। 

आशीष ने कहा, मेरे शब्द फीके हैं


आशीष की विदाई की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। फेसबुक पर आशीष डंगवाल ने पोस्ट लिखकर अपने दिल का हाल बताया है। एक ऐसा टीचर जब उसके जाने का समय आया तो बच्चे लिपट-लिपटकर कर रोए। अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट लिखते हुए आशीष ने कहा, मेरी प्यारी, केलसु घाटी, आपके लगाव, आपके सम्मान, आपके अपनेपन के आगे मेरे सारे शब्द फीके हैं। सरकारी आदेश को मानना मेरी मजबूरी थी, इसलिए जाना पड़ा। मुझे इस बात का बहुत दुख है। आपके साथ बिताए 3 साल मेरे लिए यादगार हैं। 

आज भी हम सब दावों में ही उलझे हुए हैं



पिछले 72 साल से ज्यादा समय हो चुका है लेकिन आज भी हम शिक्षा में सुधार पर ही अटके हुए हैं। कई बार हमें सरकार के उन बड़े नेताओं को कहते हुए सुना हैं कि देश का भविष्य बच्चे और युवा हैं। 

हर स्कूल में आशीष जैसे टीचर क्यों नहीं हैं?


बेरोजगारी हमारे देश में चरम सीमा पर आ चुकी है और इसके पीछे का बड़ा कारण अच्छी शिक्षा नहीं मिल पाना है। आशीष डंगवाल जैसे महान टीचर हर स्कूल में नहीं हैं लेकिन यह सवाल हम आप सब से पूछे रहे हैं कि आखिर क्यों नहीं हैं होना चाहिए। 

फेसबुक पोस्ट पढ़ें आशीष डंगवाल का