BREAKING NEWS

मोटेरा स्टेडियम का नाम PM मोदी के नाम पर रखना उनकी दूरदृष्टि को सम्मान देने का प्रयास : जे पी नड्डा ◾CM योगी आदित्यनाथ से नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने मुलाकात की ◾दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 8वीं तक के छात्रों को नहीं देनी होगी परीक्षा : शिक्षा निदेशालय ◾एसकेएम राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, गिरफ्तार किसानों की बिना शर्त रिहाई की मांग की ◾25 फरवरी को पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे जे पी नड्डा , कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत ◾स्टेडियम का नाम बदलने को लेकर राहुल का केंद्र पर तंज, कहा- नरेंद्र मोदी स्टेडियम में एक अडाणी छोर- रिलायंस छोर ◾राजनाथ सिंह को मिले किसानों से बात करने की आजादी, तो हो जाएगा सम्मानजनक फैसला : नरेश टिकैत◾भारत और चीन की सीमा पर सैनिकों का पीछे हटना दोनों पक्षों के लिए लाभकारी : थल सेना प्रमुख ◾'बनावटी' जानकारी वाले नेता है राहुल, भारतीयों का अपमान करना पसंदीदा शगल है : जावड़ेकर ◾इशांत को 100वें टेस्ट की उपलब्धि मैच में राष्ट्रपति और गृहमंत्री द्वारा सम्मान के साथ मिला ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ ◾सरकार का काम व्यवसाय करना नहीं, उसका ध्यान जन कल्याण पर होना चाहिए : PM मोदी ◾अक्षर की जादुई फिरकी के आगे ढेर हुई रुट कंपनी, पहली पारी में महज 112 रन पर सिमटा इंग्लैंड ◾CM योगी का राहुल का तीखा हमला- देश को इतना खतरा आतंकवादियों से नहीं जितना ऐसी मानसिकता से है ◾1 मार्च से होगा शुरू कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण, 60 साल से अधिक उम्र वालों को लगेगा टीका◾ममता बनर्जी ने PM मोदी को बताया सबसे बड़ा दंगाबाज,कहा- उनकी किस्मत डोनाल्ड ट्रंप से भी बुरी होगी◾नरेंद्र मोदी स्टेडियम के नाम से जाना जायेगा मोटेरा स्टेडियम, अमित शाह ने खासियतें बताते हुए किये ये ऐलान ◾गिरिराज का राहुल पर तंज, जो काम आपके नाना जी से नहीं हुआ, वो PM मोदी ने किया ◾विश्व के सबसे बड़े मोटेरा स्टेडियम का रामनाथ कोविंद ने किया उद्घाटन, भारत-इंग्लैड के बीच आज होगा मैच ◾Rajasthan : CM गहलोत ने विधानसभा में पेश किया बजट, ‘राइट टु हेल्थ’ विधेयक लाएगी राज्य सरकार◾राहुल गांधी के दक्षिण भारत वाले बयान पर स्मृति ईरानी ने उन्हें बताया 'एहसान फरामोश' ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आखिर क्यों कोरोना वायरस से पुरुषों की मौत महिलाओं की तुलना में ज्यादा हो रही है, जानिए और किन को है इसका खतरा

देश में लगातार कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। दिन ब दिन इस वायरस से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। भारत में 7000 से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं जबकि 600 से ज्यादा लोग ठीक हुए हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कोरोना वायरस से मरने वालों में पुरुषों की संख्या महिलाओं के मुकाबले ज्यादा है। इस पर एक्सपर्ट्स ने भी कहा है कि कोरोना वायरस का खतरा पुरुषों में महिलाओं की तुलना में उतना अधिक है जितना बुजुर्गों में।

कोरोना वायरस से संक्रमित चीन और इटली में होने वालों और मरने वालों में महिलाओं की तुलना में पुरुषों की संख्या ज्यादा है। एक्सपर्ट का कहना है कि महिलाओं का इम्यून सिस्टम पुरुषों की तुलना में ज्यादा मजबूत होता है। कोरोना वायरस से जितनी भी मौतें हुईं हैं आपको जानकार हैरानी होगी कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या बहुत कम है। लेकिन इस आंकड़ों से बिल्कुल भी वैज्ञानिक हैरान नहीं हैं। ऐसा ही कुछ फ़्लू सहित दूसरे संक्रमणों में भी देखने को मिला है।

इसके पीछे पुरुषों का लाइफस्टाइल भी मुख्य वजह है। दरअसल महिलाओं की तुलना में पुरुषों का स्वास्थ्य ज्यादा खराब होता है। धूम्रपान और शराब महिलाओं की तुलना में उनके लाइफस्टाइल में ज्यादा होती है।

ज्यादा सक्रिय होता है प्रतिरक्षा तंत्र 

यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंगलिया के एक प्रोफेसर ने इस पर बताया है कि, आंतरिक रूप से महिलाओं में प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाएं पुरुषों से अलग होती हैं, ऑटो-इम्यून डिज़ीज़िस (प्रतिरक्षा तंत्र के अति सक्रिय होने के कारण होने वाली बीमारियां) महिलाओं में ज्यादा होने की संभावना होती है। इस बात कि पुष्टि भी हुई है कि बेहतर एंटीबॉडी महिलाएं फ़्लू के टीकों के लिए का उत्पादन करती हैं।

इसका जवाब आधिकारिक रूप से न है, लेकिन इसे लेकर संदेह विशेषज्ञों को है. शरीर में बहुत कुछ गर्भवस्था में होता है।इस दौरान कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली भी होती है। इसकी वजह से संक्रमण होने का खतरा महिलाओं में बढ़ जाता है। गर्भवती महिलाओं की फ़्लू से मरने की संभावना समान उम्र की दूसरी महिलाओं की तुलना में अधिक होती है। इसपर ब्रिटेन की सरकार का कहना है कि कोई स्पष्ट संकेत इस बात के नहीं है कोरोना वायरस से गर्भवती महिलाओं को ज्यादा प्रभावित करेगा।

कोरोना वायरस का खतरा बच्चों में 

कोरोना वायरस का संक्रमण बच्चों को भी हो सकता है। कोरोना संक्रमित का बच्चों में अभी तक का मामला जो सामने आया है वह एक दिन के बच्चे को हुआ। कोविड-19 के लक्षणों के बारे में बच्चों के अंदर बहुत कम ही जानकारी सामने आयी है।बच्चों में हल्के-फुल्के बुखार जैसे, नाक बहना और खांसी यही कोरोना वायरस के लक्षण बच्चों में दिखाई देते हैं। इससे बीमार छोटे बच्चे भी हो सकते हैं। 

ऐसा ही फ़्लू में होता है जिसमें पांच साल से कम उम्र दो साल से कम उम्र के बच्चों में होता है। इस पर एक्सपर्ट्स ने कहा है कि, ज्यादा बीमार उम्र बढ़ने पर लोग बीमार होते हैं क्योंकि कम उनकी प्रतिरोधक क्षमता हो जाती है। जिन लोगों को अस्थमा की समस्या गंभीर होती है या उम्रदराज़ लोग या जिनका प्रतिरोधक क्षमता पहले से कमजोर होती है उन्हें संक्रमण का ज्यादा खतरा होता है। लेकिन वायरस का असर बच्चों में हल्का पाया गया है।

अंतर होता है बच्चे और व्यस्क की प्रतिरक्षा प्रणाली में


प्रतिरक्षा प्रणाली अपरिपक्व बचपन में होती है और अति प्रतिक्रिया वह कर सकती है। इसलिए कहते हैं कि सामान्य बात बुखार बच्चों में होता है। अति सक्रिय होना भी  प्रतिरक्षा प्रणाली का सही नहीं है क्योंकि शरीर के बाक़ी हिस्सों को नुक़सान इससे हो सकता है। ये भी एक कारण कोरोना वायरस के घातक होने का भी है।