BREAKING NEWS

ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾गुजरात को PM मोदी का एक और तोहफा, अहमदाबाद-सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास◾कृषि कानून को लेकर 55वें दिन प्रदर्शन जारी, आंदोलन तेज करते हुए अन्नदाता आज मनाएंगे 'महिला किसान दिवस' ◾सूट-बूट वाले दोस्तों का कर्ज माफ करने वाली मोदी सरकार अन्नदाताओं की पूंजी साफ करने में लगी है : राहुल गांधी ◾देश में पिछले 24 घंटे में 13788 नए कोरोना मामलों की पुष्टि, 145 लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर बरकरार, मरीजों का आंकड़ा 9.5 करोड़ तक पहुंचा ◾पीएम मोदी आज अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे चरण और सूरत मेट्रो रेल परियोजना का करेंगे भूमि पूजन ◾कृषि कानूनों और किसान प्रदर्शनों संबंधी याचिकाओं पर SC आज करेगा सुनवाई ◾आज का राशिफल (18 जनवरी 2021)◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ में LoC पर की गोलाबारी, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब !◾कोविड-19 : देश में दो दिन में 2.24 लाख लोगों को लगाया गया टीका, प्रतिकूल प्रभाव के 447 मामले आए सामने ◾शाह ने लोगों से अपील की - कोरोना टीकाकरण के खिलाफ अफवाहों पर ध्यान ना दें◾तांडव विवाद : सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय ने अमेजन प्राइम वीडियो से मांगा स्पष्टीकरण ◾सिंघु बॉर्डर : 'किसान गणतंत्र दिवस परेड' में दिखेगी कई राज्यों की कृषि-दशा◾कोरोना के खिलाफ जंग में भारत का कड़ा प्रहार, 224301 लाभार्थियों को कोविड-19 का टीका लगाया गया : स्वास्थ्य मंत्रालय◾ममता के गढ़ में शिवसेना भी कूदी, संजय राउत ने कहा- हम जल्द ही कोलकाता पहुंच रहे हैं ◾अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को आईसीयू में भर्ती कर दिया ◾मोदी सरकार ने पाकिस्तान के भीतर दो बार ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ की, आतंकवादियों का किया खात्मा : शाह◾औरंगाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस में हुई तीखी बहस◾पाक ने आक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 टीके के आपातकालीन इस्तेमाल की दी मंजूरी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अमेरिका ने World War II के दौरान जर्मनी की नदी में गिराया था बम,जो फटा अब जाकर

रविवार के दिन जर्मनी के शहर फ्रैंकफर्ट माइन नदी में दूसरे विश्वयुद्घ का एक बम बरामत किया गया है। सूत्रो के अनुसार इस बम को World War II के दौरान अमेरिकी विमानों ने गिराया था। हैरान कर देने वाली बात ये है कि इतने सालो बाद भी बम जिंदा था। इसलिए बम निरोधक दस्ते ने नियंत्रित विस्फोट के जरिए बम में धमाका कर उसे निष्क्रिय कर दिया है। यह धमाका इतना ज्यादा जोरदार था कि नदी का पानी करीब 30 मीटर की ऊंचाई तक उछला गया। वैसे फैंकफर्ट को जर्मनी की वित्तीय राजधानी भी कहा जाता है।

\"\"

इलाके को धमाके से पहले ही करवाया खाली

इस जोरदार धमाके से पहले करीब 600 स्थानीय लोगों को उनकेघर से निकालकर सुरक्षित जगह पर ले जाया गया। इस पूरे अभियान के दौरान करीब 350 फायर ब्रिगेड,पुलिस और रेड क्रॉस अधिकारियों की सहायता ली गई ।

\"\"

इस बम के बारे में कैसे पता चला

रिपोर्ट के अनुसार 9 अप्रैल को फायर ब्रिगेड की टीम नदी में गोताखोरी की प्रैक्टिस कर रही थी। उसी समय इस बम के बारे में पता लगा। उन्होंने शुरूआत में तो बम को डिफ्यूज करने की भी कोशिश करी लेकिन आशंका जताई गई कि यह 250 किलोग्राम का बम डिफ्यूज के दौरान अपनी पूरी ताकत से फट सकता है।

\"\"

पानी में और नीचे तक लेकर गए बम को

बता दें कि गोताखोरों की टीम बम को नदी में करीब साढ़े पांच से छह मीटर की गहराई तक ले गई। जिसके बाद नियंत्रित धमाका किया गया। नदी में रह रहे जीवों को नुकसान ना पहुंचे इसके लिए बड़े धमाके से पहले कुछ धीमे विस्फोट किए गए हैं जलीय जीव उस क्षेत्र से दूर भाग जाएं।

 

अब एक भी मिल जाते हैं जर्मनी में बम

भले ही द्वितीय विश्वयुद्घ को 70 साल हो गए हो लेकिन इसके बावजूद भी जर्मनी में उस दौर के जिंदा बम बरामत हो जाते हैं। World War II साल 1945 में खत्म हुआ था। इस दौरान भारी संख्या में सैनिक मारे गए थे। खबरों के अनुसार जब उस दौरान जर्मनी पर बम बरसाए गए तो कुछ बम फटे नहीं थे। ऐसे में अब उन्हीं बम का फटने का खतरा बना रहता है। इसलिए जब कभी भी कोई बम मिलता है तो उसके आस-पास के क्षेत्र को तभी खाली करा दिया जाता है।