BREAKING NEWS

G-7 शिखर सम्मेलन : समिट में बोले PM मोदी - भारत जी-7 का स्वाभाविक सहयोगी है◾नफ्ताली बेनेट ने ली इजराइल के प्रधानमंत्री पद की शपथ ,नेतन्याहू का 12 साल का कार्यकाल खत्म◾LJP में टूट की खबर : पार्टी के 5 सांसदों ने छोड़ा चिराग पासवान का साथ, JDU में हो सकते हैं शामिल ◾दिल्ली और तमिलनाडु में ‘अनलॉक’ प्रक्रिया को मिली गति, दूसरे राज्यों में भी प्रतिबंधों में छूट◾राहुल ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - Modi सरकार में झूठ और खोखले नारों का मंत्रालय सबसे कुशल◾गोवा सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 21 जून तक बढ़ाया गया कर्फ्यू◾मिल्खा सिंह की पत्नी का कोरोना से निधन, अंतिम संस्कार में नहीं हो पाए शामिल◾मुख्यमंत्री पद 5 साल के लिए शिवसेना के पास ही रहेगा, नहीं हो सकता कोई समझौता : राउत◾अगर किसी को भाजपा में रहना है तो उसे बलिदान देना होगा : दिलीप घोष◾राम जन्मभूमि ट्रस्ट पर लगे भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप, 'AAP' ने की सीबीआई व ईडी से जांच कराने की मांग◾कांग्रेस जड़ता की स्थिति में नहीं, यह दिखाने के लिये पार्टी में व्यापक सुधार की जरूरत : कपिल सिब्बल◾कोटकपूरा गोलीकांड : SIT ने पंजाब के पूर्व CM प्रकाश सिंह बादल को किया तलब◾महाराष्ट्र : संजय राउत का बड़ा आरोप- पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में शिवसेना के साथ किया जाता था ‘गुलामों’ की तरह व्यवहार ◾अगले 3 दिनों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 4 लाख से अधिक कोरोना वैक्सीन मिलेगी ◾केजरीवाल का ऐलान- कल से खुलेंगे मॉल और बाजार, 50 प्रतिशत क्षमता के साथ मिली रेस्तरां खोलने की अनुमति ◾उत्तराखंड : कांग्रेस की वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश का निधन, दिल्ली में ली अंतिम सांस◾अमित मित्रा के आरोपों पर बोले अनुराग ठाकुर-वित्त मंत्री ने कभी अनसुनी नहीं की किसी की बात◾कोरोना आंकड़ों पर राहुल गांधी ने उठाए सवाल, पूछा- भारत सरकार का सबसे कुशल मंत्रालय कौन सा है◾यमुना एक्सप्रेस-वे पर भीषण सड़क हादसा, ट्रक में जा घुसी कार, 3 की मौत ◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 80834 नए मामलों की पुष्टि, 3303 लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

इस बड़ी वजह से तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार नहीं खेलना चाहते हैं टेस्ट क्रिकेट

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की इंजरी के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट में भले ही वापसी हो गयी है और वह आइपीएल 2021 में अपनी टीम हैदराबाद का प्रतिनिधित्व करते हुए भी दिखाई नजर दिए थे। लेकिन इस बीच इंग्लैंड में न्यूजीलैंड के विरुद्ध वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले और फिर इसके बाद मेजबान टीम के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का नाम टीम में शामिल नहीं किया गया है।

यही नहीं भुवी को टेस्ट टीम में नहीं चुने जाने को लेकर खूब सारी बातें भी हुई लेकिन बाद में ये बात सामने आई कि, वो टेस्ट मैच में गेंदबाजी के लिए पूरी तरह से फिट नहीं थे। हालांकि अब बड़ी खबर ये सामने आ रही है कि, भुवी खुद टेस्ट क्रिकेट से किनारा करना चाहते हैं। 

जारी की गयी एक रिपोर्ट के मुताबिक, भुवनेश्वर अब अपना ध्यान टेस्ट क्रिकेट में नहीं बल्कि लिमिटेड ओवर क्रिकेट में लगाना चाहते हैं। जो भी लोग गेंदबाज को करीब से जानते हैं, उन्हें ये मालूम है कि पिछले कुछ समय से उनके वर्क ड्रिल में बहुत बदलाव आया है। साथ ही हैवी वेट ट्रेनिंग, व्हाइट बॉल क्रिकेट का कम्फर्ट जोन और टेस्ट क्रिकेट के लंबे स्पैल से लंबे समय से दूरी भी इस फैसले की बड़ी वजहों में शामिल है। अब भले ही भुवनेश्वर टेस्ट टीम में शामिल नहीं है, लेकिन खबर है कि उन्हें शायद श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय वनडे व टी20 टीम में जगह दी जा सकती है। 

साल 2013 में  भारत की तरफ से टेस्ट में डेब्यू करने वाले भुवनेश्वर ने 21 टेस्ट मैच में उन्होंने 63 विकेट अपने नाम किये हैं, इस दौरान उन्होंने 4 बार 5 या उससे अधिक शिकार किए हैं।  बात अगर 117 वनडे मैच की करें, तो उन्होंने 138 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है। इस फॉर्मेट में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 42/5 रहा। वहीं 48 अंतर्राष्ट्रीय टी20 मैचों में भुवी 45 विकेट झटक चुके हैं। वैसे वैसे तो भारत के श्रीलंका दौरे में उनका चुना जाना लगभग तय है। भारतीय टीम श्रीलंका में तीन वनडे और तीन टी-20 मैचों की सीरीज खेलने जाएगी। उन्हें इस सीरीज में टीम इंडिया की कमान भी सौंपी जा सकती है।

टेस्ट क्रिकेट करियर की बात करें तो भुवनेश्वर कुमार ने  जनवरी 2018 के बाद से प्रथम श्रेणी मैच नहीं खेला है। उन्होंने आखिरी बार जनवरी 2018 में जोहानसबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच खेला था। इसके बाद भुवनेश्वर को लिमिटेड ओवरों के फॉर्मेट के लिए चुना गया, लेकिन टेस्ट मैचों के लिए उन्हें फिट नहीं समझा गया।