BREAKING NEWS

क्रूज ड्रग्स पार्टी मामले में जेल में बंद आर्यन से मिलने पहुंचे सुपरस्टार शाहरुख खान ◾Petrol-Diesel Price : नहीं थम रही महंगाई, पेट्रोल-डीजल के दामों में आज फिर हुई 35 पैसे की बढ़ोतरी◾दुनियाभर में जारी है कोरोना महामारी का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 24.19 करोड़ से अधिक ◾उत्तराखंड बारिश : रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 52 हुई◾हिरासत में मृत सफाई कर्मचारी के परिजनों से प्रियंका गांधी ने की मुलाकात◾नोएडा में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल; जान‍िए क्‍या है मामला◾J-K: शोपियां के बाद कुलगाम में भी 2 आतंकी ढेर, बिहार के दो मजदूरों की हत्या में थे शामिल◾चीन के बढ़ते दुस्साहस को मिलेगा करारा जवाब, भारतीय सेना ने अरूणाचल प्रदेश में LAC के पास तैनात किए बोफोर्स तोप ◾येदियुरप्पा की कर्नाटक BJP चीफ को सलाह, बोले- राहुल गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने से बचें ◾पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर PM मोदी की तेल कंपनियों के साथ बैठक, क्या कीमतों पर पड़ेगा असर?◾यूपी: कोरोना कर्फ्यू को किया गया समाप्त, सरकार ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर लिया फैसला◾ पाकिस्तान के पीएम इमरान पर दूसरे देशों के प्रमुखों से मिले उपहार को बेचने का आरोप◾जीतन राम मांझी का बड़ा आरोप, बोले- फर्जी जाति के प्रमाणपत्र पर पांच सांसद लोकसभा के लिए चुने गए ◾पंजाब: डिप्टी CM रंधावा का अमरिंदर पर हमला, बोले- कैप्टन अवसरवादी है, जनता को धोखा दिया◾क्रूज ड्रग्स मामला: आर्यन खान की जमानत याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट में दाखिल, क्या अब मिलेगी बेल? ◾अमरिंदर को भाजपा का खुला समर्थन, दुष्यंत गौतम बोले- राष्ट्र को सर्वोपरि रखने वालों के साथ गठबंधन को तैयार ◾SP-SBSP ने मिलाया हाथ, क्या योगी शासन के अंत की हो रही शुरुआत, राजभर बोले- अबकी बार BJP साफ ◾यूपी: सफाई कर्मी की पुलिस कस्टडी में हुई मौत, परिवार से मिलने आगरा जा रहीं प्रियंका को पुलिस ने लिया हिरासत में◾अखिलेश के तंज पर PM मोदी का पलटवार, कहा- ‘समाजवाद’ से ‘परिवारवाद’ के रास्ते पर उतर आई है सपा ◾आर्यन खान को लगा झटका, जमानत याचिका हुई खारिज, अब क्या करेंगे शाहरुख खान ?◾

जानिये हर साल पदकों की झड़ी लगाकर चीन कैसे बनता है ओलंपिक सुपरपावर और भारत क्यों रह जाता है पीछे

जापान की राजधानी टोक्यो में चल रहे ओलंपिक खेलों में चीन पदक तालिका में शीर्ष पर बना हुआ है। चीन पहले दिन से ही सर्वाधिक पदक जीतने के साथ ही नंबर वन स्थान पर काबिज है। वहीं, भारत की बात करें तो अभी भारत की झोली में केवल 2 पदक ही आये हैं। खैर, भारत की स्वर्ण पदक पाने की उम्मीद अभी भी बनी हुई है। 

वास्तव में, इस बार का रुझान पिछले ओलंपिक मुकाबलों की तरह ही नजर आ रहा है, जहां चीन पदक तालिका में शीर्ष पांच देशों में शामिल है। टोक्यो में भी अब तक इसका प्रदर्शन ओलंपिक सुपर पावर की तरह रहा है। चीन ने दिखा दिया है कि उसे पदक हासिल करने की जबरदस्त भूख है। लेकिन सवाल यह है कि क्या भारत को पदक हासिल करने की भूख कम है? 

देखिए एक समय था, जब भारत में खेलकूद को सिर्फ मनोरंजन का हिस्सा माना जाता था, लेकिन आज के दौर में बच्चे सिर्फ पढ़ाई से ही नहीं, बल्कि खेलकूद कर भी दुनिया भर में अपनी अलग पहचान बना रहे हैं। आज खेलों की संभावनाएं काफी बढ़ गई हैं। बहुत-से स्कूलों में खेल को जरूरी कर दिया गया है, यानी अगर पढ़ाई के साथ-साथ खेलना भी चाहते हैं, तो इसकी शुरूआत के लिए स्कूल सबसे अच्छी जगह है। खुद को फिट रखने के लिए खेलकूद एक उत्तम विकल्प भी है। 

हालांकि, यह सच है कि खेल और पढ़ाई साथ चलाने के लिए कुछ ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। ठीक वैसे ही जैसे चीन में छोटे-छोटे बच्चे करते हैं। चीन के स्कूलों में बच्चे 6 साल की उम्र से ही जिमनास्टिक्स, खेलकूद आदि की ट्रेनिंग लेना शुरू कर देते हैं। अधिकांश चीनी माता-पिता अपने बच्चों को स्पोर्ट्स स्कूल में भेजते हैं, जहां उन्हें सख्त ट्रेनिंग दी जाती है और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए तैयार किया जाता। 

चीनी माता-पिता को अपने बच्चों के लिए खेल एक सुनहरा करियर ऑपशन लगता है। वहीं, भारत में, खास तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में माता-पिता अपने बच्चों को पढ़ाने और बाद में नौकरी करवाने पर खासा ध्यान देते हैं। सब जानते हैं कि खेल की दुनिया में चीन ने ऐसा दबदबा कायम किया कि वह ओलंपिक खेलों में सुपरपावर बन गया। उसके लिए खेल का महत्व किसी युद्ध से कम नहीं है। उसकी सफलता के पीछे एक खास मिशन है, जिसके तहत वह लगातार आगे बढ़ता गया और अपनी पदक तालिका को मजबूत बनाता गया। 

दरअसल, 1980 के ओलंपिक खेलों के बाद से चीन की खेल प्रणाली काफी हद तक मजबूत हुई, और ओलंपिक खेलों में बहुत अधिक स्वर्ण पदक हासिल करने के बारे में चीन सरकार ने सोचना शुरू किया, और बहुत जल्दी सफलता हासिल करने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी की। चीनी खिलाड़ियों की ट्रेनिंग वैज्ञानिक और मेडिकल विज्ञान के आधार पर ज्यादा जोर देकर करवाई जाती है, जिससे वो पदक प्राप्त करने में कामयाब होते हैं। 

इतना ही नहीं, चीन खेल अकादमियों, टैलेंट स्काउट्स, मनोवैज्ञानिकों, विदेशी कोचों, और नवीनतम प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान पर लाखों डॉलर खर्च करता है। चीन उन खेलों में विकासशील कार्यक्रमों पर विशेष जोर देता है जिनमें बहुत अधिक इवेंट्स होते हैं और बहुत सारे पदक जीतने की संभावना होती हैं, जैसे शूटिंग, जिमनास्टिक, तैराकी, नौकायन, ट्रैक एंड फील्ड आदि। 

भारत में स्पोर्ट्स को हर सतह पर मुहिम की तरह आगे बढ़ने की जरूरत है और समाज के सभी वर्गों को इसे प्राथमिकता देनी होगी। भारत में खेल और खिलाड़ियों के स्तर को बेहतर करने के लिए उन्हें ऊंचे स्तर के परीक्षण और रोजगार दिलाना जरूरी है। हालांकि, भारत में धीरे-धीरे बेहतरी आ रही है, लेकिन वो गति वाकई बहुत धीमी है। 

लेकिन चीन के 96 प्रतिशत राष्ट्रीय चैंपियन सहित लगभग 3 लाख एथलीटों को चीन के 150 विशेष स्पोर्ट्स कैंप में ट्रेनिंग दी जाती है, जैसे वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकल एजुकेशन, चच्यांग फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स स्कूल और अन्य हजारों छोटे-बड़े ट्रेनिंग केंद्र। दक्षिण चीन के युन्नान प्रांत की राजधानी खुनमिंग में हैगन स्पोर्ट्स ट्रेनिंग बेस चीन का सबसे बड़ा खेल प्रशिक्षण कैंप है। अतिरिक्त 3,000 स्पोर्ट्स स्कूल टैलेंट की पहचान और उनका पोषण करने का जिम्मा संभालते हैं। 

इन स्पोर्ट्स स्कूल में कम उम्र के बच्चे बेहद कड़ी ट्रेनिंग से गुजरते हैं। इस तकलीफ को सहकर ही वे चैंपियन बनने की कला सीखते हैं। तभी तो ओलिंपिक हो या एशियन गेम्स, हर इवेंट्स में गोल्ड जीतने के लिए चीनी खिलाड़ी ऐड़ी-चोटी का जोर लगाते हैं। भले ही चीनी एथलेटिक्स अन्य देशों से आगे हों, लेकिन इस मुकाम को हासिल करने के लिए उन्हें कड़ी मेहनत और ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है। इसी कारण लगभग हर खेलों में चीनी खिलाड़ियों की धूम रहती है।