BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- ढील दिए जाने के बाद 5 राज्यों में बढ़े कोरोना मामले◾राजनाथ सिंह ने CDS और तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक, सड़क का निर्माण कार्य रहेगा जारी ◾राहुल गांधी के वार पर BJP का पलटवार, नकवी ने कांग्रेस को बताया राजनीतिक पाखंड की प्रयोगशाला◾चीन और नेपाल से जुड़े मुद्दों पर पारदर्शिता की जरूरत, केंद्र को करना चाहिए स्पष्ट : राहुल गांधी◾कोविड-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 412 लोगों में संक्रमण की पुष्टि, पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 14 हजार 465◾बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, 96.20 प्रतिशत अंक के साथ टॉपर बने हिमांशु राज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को बताया विफल, बोले-आगे की रणनीति बताएं प्रधानमंत्री ◾तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस ने 83 विदेशी नागरिकों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट◾उद्धव ठाकरे और शरद पवार की मुलाकात पर बोले राउत-सरकार मजबूत, चिंता करने की जरूरत नहीं◾कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, US कंपनी ने 131 लोगों पर शुरू किया ह्यूमन ट्रायल◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर लगा भयंकर जाम, सिर्फ पास वालों को मिल रही है जाने की इजाजत◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का खौफ जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 55 लाख के करीब ◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

क्या हो पाएगा दिल्ली की फुटबॉल का कायाकल्प

नई दिल्ली : पिछले 50 सालों से भी अधिक समय से अपनी पहचान बनाने के लिए प्रयासरत दिल्ली की फुटबॉल अब पटरी पर आती नज़र आ रही है। अध्यक्ष शाजी प्रभाकरण की अगुवाई में डीएसए ने पहली कार्यसमिति की बैठक में कई ऐसे फैसले लिए हैं जिनको अमली जामा पहनाना आसान नहीं होगा, लेकिन युवा पदाधिकारियों को साथ लेकर नये-नवेले अध्यक्ष कहां तक कामयाब हो पाएंगे यह तो वक्त ही बताएगा। डीएसए ने अपनी पहली बैठक मे ऐसा बहुत कुछ करने का दम भरा है जैसा आज तक संभव नहीं हो पाया। मसलन राजधानी के दीनहीन क्लबों को आर्थिक सहायता देना और उनकी माली हालत को सुधारना।

सांस्थानिक फुटबॉल की बर्बादी रोकना, खिलाड़ियों, कोचों और रेफरियों को ऐसी सुविधा और माहौल देना जैसा अब तक संभव नहीं हो पाया। पिछली समितियों ने जिन खास बातों की तरफ ध्यान नहीं दिया उन पर नये खून की नज़र पड़ी है। इसमे दो राय नहीं कि पिछले अध्यक्ष महोदय ने सिर्फ वादे किए और कुछ खास लोगों को ढाल बना कर स्थानीय फुटबॉल को गिरावट की हद तक पहुंचाया। कुछ पूर्व अधिकारी और अवसरवादी ही नई टीम मे घुसपैठ करने में कामयाब रहे हैं। कई चेहरे बदले हैं किंतु कुछ पुराने और अवसरवाद के लिए कुख्यात लोग नये जोश और जुनून को हैरान परेशान करते रहेंगे। देखना यह होगा कि बदलाव का नारा देने वाले बगल मे बैठे पुराने शातिरों से कैसे पार पाते हैं। हालांकि नये पदाधिकारियों ने कई अच्छे कदम उठाने का एलान किया है। जिनमें राष्ट्रीय आयोजनों के लिए पहले से ही पुरुष और महिला कोचों की नियुक्ति करना।

सीजन का संपूर्ण केलेंडर बनाना, खिलाड़ियों और रेफरियों को सुरक्षा, विभिन्न सूत्रों से धन जुटाना और बड़े-छोटे आयोजनों के लिए प्रायोजकों को जोड़ना जैसे फैसले शामिल हैं। यह सब तब ही संभव हो पाएगा जब शाजी और उनकी टीम का जोश बना रहेगा और उसके प्रगतिशील कार्यक्रम को अंदर बाहर से सपोर्ट मिलेगा। सिर्फ नई तकनीक और कोरे नारों से काम नहीं चलने वाला। पुरानी बीमारियों से निपटने का साहस ही दिल्ली की फुटबॉल को नयापन दे सकता है। ध्यान रहे जोश ठंडा नहीं पड़ना चाहिए।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।