BREAKING NEWS

रामपुर में पहले नहीं होते थे चुनाव, थानों और बूथों पर रहता था सपा के गुंडों का कब्जा : बृजेश पाठक ◾J&K : आजाद बोले- धार्मिक राजनीति ने देश को पहुंचाया गहरा नुकसान, वोट डालने से पहले जांचे 'ट्रैक रिकॉर्ड'◾पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- विनिर्माण की दुनिया में लगातार आगे बढ़ रहा है भारत◾Assam: सीएम शर्मा ने कहा- डिब्रूगढ़ विवि ने रैगिंग की घटना छिपाने की कोशिश की या नहीं, जांच पुलिस करेगी◾'मोदी सरकार' पर निशाना साधते हुए राहुल बोले- नोटबंदी, GST ने लोगों और छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ी◾Gujarat: गुजरात में मिली जहरीली शराब पर भड़के राहुल गांधी- राज्य में फैल हुआ 'मोदी मॉडल'◾ लड़की के साथ दरिंदगी, तीन लोगों ने मिलकर किया दुष्कर्म, पुलिस ने आरोपियों को दबोचा, जानें पूरा मामला ◾Goa: सीएम प्रमोद सांवत ने कहा- ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर इफ्फी के जूरी प्रमुख का बयान कश्मीरी हिंदुओं का अपमान◾Air India: एयर इंडिया-विस्तारा के विलय को मिली मंजूरी...सिंगापुर एयरलाइंस की होगी इतनी हिस्सेदारी◾सोशल मीडिया ने देश को आगे बढ़ाया... लेकिन फेक न्यूज का भी तेजी से हुआ चलन, बोले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ◾BWF Rankings: बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग में छठे स्थान पर पहुंचे लक्ष्य सेन, टॉप-20 में गायत्री-त्रिशा ◾MCD पर केजरीवाल का चुनावी एजेंडा, कहा- 'आप पार्टी' को वोट दें.....राजधानी को बनाएंगे स्वच्छ और सुंदर ◾Digital Rupee: RBI का बड़ा ऐलान- 1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रूपया ◾भाजपा के गुजरात मॉडल पर योगी मॉडल की छाप, छात्राओं को देंगे तमाम तोहफे◾Corruption case: देशमुख की जमानत याचिका पर अदालत ने सुनवाई को 2 दिसंबर तक किया स्थगित ◾10वीं छात्रा के साथ दुष्कर्म, पांच सहपाठियों ने लड़की को दबोचा, किया गैंगरेप, वीडियो बनाकर कर रहे थे blackmail ◾ Akhilesh Yadav: भाजपा के विवादित बयान पर 'सपा' का पलटवार , अखिलेश का ट्वीट- पिक्चर अभी बाकी है ◾Gujarat Assembly Election: सोशल मीडिया पर ‘आप’ सबसे ज्यादा सक्रिय, BJP और कांग्रेस पीछे◾PM मोदी पर मल्लिकार्जुन खरगे ने कसा तंज कहा, आपके रावण के जैसे 100 सिर हैं क्या?◾हैरतअंगेज करने वाला वीडियो, महिला के ऊपर से गुजरी ट्रेन...फिर भी फोन पर करती रही बात, यूजर्स की फट गई आंखे◾

कौन हैं वो तीन खिलाड़ी, जिनके साथ-साथ रिटायर हुई उनकी जर्सी नंबर भी

हम खिलाड़ी के रिटायरमेंट के बारे में तो सुनते रहते हैं. लेकिन खिलाड़ियों के जर्सी के रिटायरमेंट के बारे में तो बहुत कम ही सुना होगा. जी हां, कुछ ऐसे खिलाड़ी होते हैं, जो क्रिकेट जगत में अपनी ऐसी छाप छोड़ जाते है, जिससे उनको याद रखने के लिए उनके टी शर्ट यानि कि जर्सी नंबर रिटायर कर दिया जाता है, मतलब उस महान खिलाड़ी के जर्सी नंबर को कोई और खिलाड़ी नहीं पहन सकता.

तो अब तक वैसे तीन खिलाड़ी हुए हैं जिनका जर्सी नंबर अब कभी भी उनके टीम का कोई भी खिलाड़ी नहीं पहन सकता.

तो ऐसे में सबसे पहले खिलाड़ी का नाम है दिवंगत क्रिकेटर फिलिप ह्यूज का, जिनका जर्सी नंबर था 64. वो ऑस्ट्रेलिया टीम के खिलाड़ी थे. घरेलू क्रिकेट खेलते वक्त उनके सिर पर सिन एबोट की एक बाउंसर जा लगी थी, जिसके बाद वो वही क्रिज पर बेहोश हो गए थे, और फिर उसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, पर अपने जन्मदिन से तीन दिन पहले 27 नवंबर को अस्पताल में उनकी मौत हो गई.  इस दुखद घटना के बाद उनकी याद में उनके जर्सी नंबर 64 को भी रिटायर कर दिया गया. अब कोई भी खिलाड़ी 64 नंबर की जर्सी पहनकर मैदान पर नहीं उतर सकता.

इसके बाद नाम आता है उस खिलाड़ी का, जिससे आप सब बिल्कुल ही अंजान हैं, जिसका नाम आपने शायद ही सुना होगा, जी हां, नेपाल के कप्तान पारस खड़का ने पिछले ही साल अगस्त में क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की थी. जिसके बाद क्रिकेट बोर्ड ने फैसला किया कि उनके 77 नंबर जर्सी को उनके याद में रिटायर कर दिया जाए. तभी से यह फैसला लिया गया अब कोई भी नेपाल का खिलाड़ी 77 नंबर की जर्सी पहनकर नहीं खेलेगा.

इसके बाद आता है नाम मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का, जिन्हें लोग क्रिकेट का भगवान भी कहते है. उनके बारे में क्या ही कहना, उनकी पहचान से तो पूरी दुनिया रूबरू है. जब तक क्रिकेट खेला जाएगा, तब तक उनका नाम इतिहास के पन्नों में सबसे ऊपर सुनहरे अक्षरों में रहेगा. एक वक्त था जब सचिन क्रीज पर होते थे  तभी तक लोगों के टीवी भी ऑन रहते थे. सचिन आउट तो टीवी भी बंद. उन्होंने जितना क्रिकेट से पहचान बनाया उतना ही उनसे क्रिकेट की पहचान है. उनके जर्सी नंबर 10 को अब भारत का कोई भी खिलाड़ी नहीं पहन सकता क्योंकि सचिन के सम्मान में उसके साथ-साथ उनके जर्सी को भी रिटायर कर दिया गया. हालांकि उनके संन्यास लेने के तुरंत बाद उनके जर्सी को रिटायर नहीं किया गया, बल्कि उनके बाद भारत के ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर ने अपने करियर की शुरुआत में 10 नंबर की जर्सी पहली शुरू की मगर आलोचनाओं की वजह से उन्हों अपनी जर्सी नंबर 10 से 54 करना पड़ा और तभी क्रिकेट बोर्ड ने सचिन के इस 10 नंबर के जर्सी को रिटायर करने का फैसला किया.