नयी दिल्ली/मोगा : चुनाव आयोग पर ‘पक्षपात’ का आरोप लगाते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पूछा कि क्यों आयोग ने पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों खत्म होने के बाद चुनाव प्रचार रोकने का आदेश दिया।

भारत के इतिहास में पहली बार चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल के नौ क्षेत्रों में 19 मई को होने वाले चुनाव का प्रचार बृहस्पतिवार को 10 बजे के बाद रोकने के लिए संविधान के अनुच्छेद 324 को लागू किया। दरअसल चुनाव प्रचार तय समय सीमा से एक दिन पहले रोक दिया गया है।

भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच मंगलवार को हुई हिंसा के बाद आयोग ने यह निर्णय लिया।

चुनाव आयोग अपनी स्वतंत्रता खो चुका है, नियुक्ति प्रक्रिया की समीक्षा हो : सुरजेवाला

पंजाब के मोगा में चुनाव प्रचार के दौरान केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा कि वह चुनाव आयोग के ‘रवैये’ की कड़ाई से निंदा करते हैं।

आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने कहा, ‘‘ हम चुनाव आयोग के रवैये की कड़ाई से निंदा करते हैं। मोदीजी की रैली के बाद चुनाव प्रचार रोकने के आदेश क्यों दिए गए। हमने भारत के इतिहास में पक्षपात रवैया वाला चुनाव आयोग नहीं देखा।’’