देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग की घटनाए और महिलाओं के खिलाफ अपराध की घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इस तरह की एक भी घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। हमारे समाज में शांति और एकता सुनिश्चित करने के लिए हर किसी को राजनीति से ऊपर उठना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरी पार्टी और मैंने कई मौकों पर ऐसी घटनाओं और ऐसी मानसिकता वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात साफ तौर पर कही है।

मॉब लिंचिंग की घटनाओं को अपराध करार देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस तरह की घटनाओं (मॉब लिंचिंग) को महज आंकड़ों तक सीमित रख कर राजनीति करना एक मजाक होगा। एक होकर इस तरह की घटनाओं का विरोध करने के बजाय अपराध और हिंसा जैसी घटनाओं का राजनीतिक फायदा उठाना एक विकृत मानसिकता का परिचायक है।

विपक्ष का महागठबंधन विकास का नहीं, बल्कि विरासत का महागठबंधन हैं : पीएम मोदी

वही, महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध पर पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री का कार्यभार ग्रहण करते ही उन्होंने लाल किले की प्राचीर से कहा था कि महिलाओं की मर्यादा की रक्षा करना सरकार, समाज, परिवार सभी की जिम्मेदारी है। सरकार के स्तर पर हमने महिलाओं के खिलाफ अपराध को रोकने के लिए सख्त कानून बनाए गए हैं जिसमें कुछ अपराधों के लिए फांसी की सजा का प्रावधान किया है।

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने NRC पर चुप्पी तोड़ी। उन्होंने भरोसा दिलाया कि किसी भी भारतीय नागरिक को देश नहीं छोड़ना पड़ेगा। पीएम मोदी ने आश्‍वस्त किया कि जिन लोगों का नाम लिस्ट में नहीं है उन्हें उनकी नागरिकता साबित करने का पूरा मौका दिया जाएगा।

लगातार विपक्ष की आलोचनाओं का सामना कर रहे पीएम ने रोजगार के मुद्दे पर कहा कि पिछले एक साल में ही एक करोड़ से ज्‍यादा रोजगार दिए गए, इसलिए ऐसा प्रचार करना कि रोजगार पैदा नहीं हो रहे, निश्‍च‍ित रूप से बंद होना चाहिए।

दलित अत्याचार को लेकर राहुल ने पीएम मोदी और अमित शाह पर साधा निशाना