BREAKING NEWS

माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾शपथ लेते ही BJP पर बरसे नीतीश, कहा-2014 में जीतने वालों को 2024 की करनी चाहिए चिंता ◾60 वर्ष से अधिक उम्र की बहनों और माताओं के लिए बसों में निःशुल्क यात्रा योजना जल्द आएगी : CM योगी ◾

कृषि क़ानून : किसानों के समर्थन में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, कई हिरासत में

केंद्र के नए कृषि क़ानूनों के विरोध में किसानों के एक दिन के उपवास के समर्थन में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश के अनेक जिलों में प्रदर्शन किया। कई स्थानों पर उन्हें हिरासत में भी लिया गया। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने यहां जारी एक बयान में कहा, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने सभी जिलों में शांतिपूर्ण धरना दिया। पुलिस ने हालांकि बर्बर लाठीचार्ज किया और पार्टी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। 

कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई पर अखिलेश ने कहा, शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन को रोककर भाजपा सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। भाजपा सरकार के अत्याचारों के बावजूद, पार्टी 'सड़क से सदन' तक अपना विरोध जारी रखेगी।’’ उन्‍होंने कहा, ''2022 में सपा की सरकार बनने के बाद हम किसानों के हित में कार्य करेंगे और उन्हें उचित सम्मान और सुरक्षा मिलेगी।'' 

इस संदर्भ में बातचीत करने पर अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्‍यवस्‍था प्रशांत कुमार पे कहा, पुलिस सुनिश्चित कर रही है कि शरारती तत्व किसान आंदोलन में घुसपैठ ना करें। हम किसान नेताओं के संपर्क में हैं और किसी को भी राज्य की कानून-व्यवस्था बिगाड़ने का अवसर नहीं दिया जाएगा।

सपा मुख्‍यालय से जारी बयान के अनुसार नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी ने पुलिस द्वारा घर में नज़र बंद किए जाने का विरोध करते हुए किसानों के समर्थन में गौतमपल्ली लखनऊ, स्थित अपने आवास के बाहर धरना दिया। सीतापुर में एमएलसी आनंद भदौरिया, हरदोई में राजपाल कश्यप, उन्नाव में सुनील सिंह साजन, प्रयागराज में रामबृक्ष यादव सहित कई प्रमुख नेताओं को पुलिस ने गिरफ़्तार किया। 

राजधानी लखनऊ के कैसरबाग इलाके में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की हुई। सपा कार्यकर्ता जिलाधिकारी कार्यालय जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक लिया। महिला कार्यकर्ताओं समेत पार्टी के कई कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सपा के विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप ने बताया, ‘‘समाजवादी पार्टी किसानों की मांगों का समर्थन करती है और उसकी सहानुभूति किसानों के साथ है। समाजवादी पार्टी की किसान यात्रा सात दिसंबर को आरंभ हुई थी और आज 14 दिसंबर को पार्टी के कार्यकर्ताओं का धरना प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर है। पार्टी के बहुत से नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है।’’ 

आगरा में पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हल्का बल प्रयोग किया। गोरखपुर में पुलिस ने सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को उस समय हिरासत में ले लिया जब सोमवार को वे नगर निगम परिसर में धरना प्रदर्शन करने जा रहे थे। सपा के जिला अध्यक्ष राम नगीना साहनी और पूर्व अध्यक्ष जियाउल इस्लाम को हिरासत में लिया गया। साहनी ने कहा, ‘‘पुलिस और सरकार शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन का संवैधानिक अधिकार छीन रही है। फर्जी मुकदमे लगाये जा रहे हैं और हमें धरना प्रदर्शन नहीं करने दिया जा रहा है।

गोरखपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेंद्र कुमार ने बताया, ‘‘जिले में धारा 144 पहले से लागू है और महामारी के कारण बिना सामाजिक दूरी के एक स्थान पर लोगों का एकत्र होना सुरक्षित नहीं है। प्रदर्शन से पहले लोगों को मजिस्ट्रेट से इजाजत लेनी होगी, फिर कोई आपत्ति नहीं है।’’ फतेहपुर से मिली खबर के अनुसार जिले में नए कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए सपा के 152 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने देर शाम रिहा कर दिया। 

जिले के अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) राजेश कुमार ने बताया कि फतेहपुर जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सोमवार को सपा के 152 स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया था, जिन्हें देर शाम निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। समाजवादी पार्टी के फतेहपुर जिला अध्यक्ष विपिन सिंह यादव ने कहा था, ‘‘करीब डेढ़ सौ सपा कार्यकर्ता नहर कालोनी परिसर में जुटे और धरना पर बैठ गये थे, जिन्हें पुलिस ने जबरन हिरासत में ले लिया।