BREAKING NEWS

मुझे उन अधिकारियों की सूची दें जो भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं की बात नहीं सुनते : योगी आदित्यनाथ ◾भारत के लिए प्रदूषण बना बड़ी चिंता! दिल्ली में हर साल हजारों की जाती है जान ◾जम्मू-कश्मीरः मुठभेड़ के बाद फरार आतंकवादियों की तलाश में जुटी पुलिस, हाई अलर्ट पर सुरक्षाबल ◾हिमाचल प्रदेश : कांग्रेस के दो विधायकों ने की भाजपा की सदस्यता ग्रहण, मुख्यमंत्री जयराम ने किया स्वागत◾थाईलैंड के विदेश मंत्री के साथ एस. जयशंकर ने की खास बातचीत, जानिए किन मुद्दों पर हुई चर्चा ◾दिल्ली में रोहिंग्या मुसलमानों को फ्लैट देने का नहीं दिया कोई निर्देश : केंद्रीय गृह मंत्रालय ◾दिल्ली के बक्करवाला के अपार्टमेंट में भेजे जाएंगे रोहिंग्या शरणार्थी, पुलिस सुरक्षा भी कराई जाएगी मुहैया : हरदीप सिंह पुरी◾अब रोहिंग्या शरणार्थियों के पास होगा रहने का ठिकाना, केंद्र के फैसले पर AAP हमलावर, BJP नाखुश◾उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक ने किया ब्याज दरों में इजाफा, वरिष्ठ नागरिकों के लिए दर 0.50 प्रतिशत से बढ़कर 0.75◾MP मंत्री तुलसीराम की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, बाल-बाल बचा परिवार ◾उत्तर प्रदेश की 10 हजार बेटियों को दी जाएगी 'Self Defense' की ट्रेनिंग : यूपी सरकार ◾राजस्थान : रामदेवरा मेले में आने लगे श्रद्धालु, 35 लाख से अधिक भक्तों के आने की उम्मीद◾बीजेपी ने पार्टी के संसदीय बोर्ड में किया बड़ा बदलाव, गडकरी और चौहान को हटाकर इन नोताओं को किया शामिल ◾गुजरातः चुनावों से पहले कांग्रेस के दो नेता भाजपा में शामिल, बीजेपी ने किया भगवा अंगवस्त्र और टोपियां देकर स्वागत ◾CM केजरीवाल ने की ‘मेक इंडिया नंबर 1’ अभियान की शुरुआत, कहा-इसका राजनीति से कोई संबंध नहीं◾कचरा बनी बागमती, मानी जाती है नेपाल की सबसे पवित्र नदी ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- भारत ने रूस से तेल खरीदने के अपने रुख का कभी बचाव नहीं किया◾राजस्थान में बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए कौन जिम्मेदार? जानिए क्या कहती है जनता◾कार्तिकेय सिंह के अरेस्ट वारंट पर बोले CM नीतीश, मुझे मामले की जानकारी नहीं◾Mann Ki Baat :PM मोदी ने 'मन की बात' की 28वीं कड़ी के लिए मांगे सुझाव, 28 अगस्त को होगा प्रसारण◾

UP चुनाव में अखिलेश और अपर्णा में होगी आमने-सामने की टक्कर? जानिए करहल सीट का यादव फैक्टर

कुछ वक्त पहले ही समाजवादी पार्टी (सपा) छोड़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुई मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव के खिलाफ मैनपुरी की करहल सीट से मैदान में उतर सकती हैं। बता दें कि कल सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव अपना नामांकन पत्र भरेंगे, करहल को सपा का गढ़ भी मन जाता है। वहीं भाजपा ने अब तक करहल सीट पर अपने प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है। यही कारण है कि ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि इस सीट से भाजपा अपर्णा यादव को टिकट दे सकती है।

करहल विधानसभा सीट को लेकर अपर्णा यादव ने दिए यह संकेत 

इन अटकलों के बीच अपर्णा यादव ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अगर पार्टी चाहेगी तो वो मैनपुरी की करहल सीट से भी चुनाव लड़ेंगी। लखनऊ कैंट में लोगों की सेवा कर रही हूं। अगर पार्टी कहेगी तो अखिलेश भैया के खिलाफ भी चुनाव लड़ूंगी। पार्टी तय करेगी कि मुझे क्या करना है। साथ सपा छोड़ बीजेपी में जाने पर मुलायम की प्रतिक्रिया को बताते हुए अपर्णा ने कहा कि मेरे ससुर मुलायम सिंह यादव नाराज नहीं है और उन्होंने मुझे आशीर्वाद भी दिया। बीजेपी नेता अपर्णा यादव ने चाचा शिवपाल को लेकर कहा कि उन्होंने हमेशा मुझे आगे बढ़ाया है। चाचा आज नसीहत दे रहे हैं फिर अलग दल क्यों बनाया, चाचा यह नसीहत खुद मानते तो नया दल नहीं बनाते।

जानें मैनपुरी की करहल सीट पर किस पार्टी से कौन है प्रत्याशी?

करहल विधानसभा क्षेत्र में 20 फरवरी को होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में मतदान होगा। करहल विधानसभा सीट, जिसे समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता है, मैनपुरी जिले में स्थित है। इस सीट का प्रतिनिधित्व समाजवादी पार्टी (सपा) के सोबरन सिंह यादव 2007 से कर रहे हैं। इस बार समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में करहल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस ने करहल विधानसभा सीट पर अखिलेश यादव के खिलाफ ज्ञानवती यादव को मैदान में उतारा है, जबकि मायावती की अगुवाई वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने पहली बार कुलदीप नारायण को मैदान में उतारा है।

BSP नेता कुलदीप नारायण पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव

बसपा के एक नेता ने कहा कि जाटव समुदाय से ताल्लुक रखने वाले कुलदीप नारायण पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। कुलदीप नारायण जाटव समुदाय से हैं और पार्टी के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं, मैनपुरी में पार्टी के जनाधार को मजबूत कर रहे हैं। 2017 के यूपी चुनाव में, समाजवादी पार्टी के सोबरन सिंह यादव ने भाजपा नेता राम शाक्य को हराकर 38,405 मतों के अंतर से करहल विधानसभा सीट जीती।

मैनपुरी की करहल सीट पर यादव फैक्टर

करहल विधानसभा क्षेत्र मैनपुरी संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है। करहल एक समाजवादी गढ़ है और मुलायम सिंह यादव लोकसभा में मैनपुरी संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। करहल में 1.44 लाख से अधिक यादव मतदाता हैं और इसे समाजवादी नेतृत्व के लिए 'सुरक्षित' माना जाता है।

अखिलेश यादव पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। मंडल आंदोलन के बाद यादव समुदाय ने मुलायम सिंह यादव और फिर समाजवादी पार्टी के पीछे रैली की। विकासशील समाजों के निष्कर्षों के अध्ययन के लिए केंद्र लोकनीति के अनुसार, 2017 और 2019 में, लगभग 26-27 प्रतिशत यादवों ने भाजपा का समर्थन किया।

अखिलेश यादव ने आजमगढ़ की जगह करहल सीट को क्यों चुना?

करहल की तरह आजमगढ़ विधानसभा सीट भी समाजवादी पार्टी का गढ़ है। करहल वह सीट थी जहां 1957 के चुनावों में मुलायम सिंह यादव के संरक्षक नाथुआ सिंह यादव जीते थे। सूत्रों ने कहा कि शुरुआत में पार्टी नेतृत्व ने अखिलेश यादव को आजमगढ़ की गोपालपुर सीट से चुनाव लड़ने का संकेत दिया था। इससे पहले अखिलेश यादव ने यहां तक ​​कि संकेत भी दिया था कि वह आजमगढ़ से चुनाव लड़ सकते हैं, जो उनका संसदीय क्षेत्र भी है। अखिलेश यादव ने कहा, "मैं आजमगढ़ में लोगों की अनुमति लूंगा और फिर वहां से चुनाव लड़ूंगा।"

हालांकि, अखिलेश यादव ने बाद में आगामी उत्तर प्रदेश चुनावों में करहल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने के लिए सौदे पर मुहर लगा दी। राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि अखिलेश यादव करहल के साथ गए क्योंकि इसे समाजवादी पार्टी के लिए एक 'सुरक्षित सीट' माना जाता है, जिसका विधानसभा क्षेत्र के साथ एक लंबा इतिहास रहा है।

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि, राहुल बोले- हिंदुत्ववादी ने मारी थी बापू को गोली