BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में SP के लिए प्रचार करेंगी ममता बनर्जी◾भाजपा का दामन थाम सकती हैं मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव - सूत्र◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : राजनाथ ने ममता को बंगाल की झांकी न होने की बताई ये वजह !◾पंजाब : कांग्रेस के 4 नेताओं ने मंत्री को पार्टी से निकालने की मांग की, सोनिया गांधी को लिखा पत्र ◾विधानसभा चुनावों में डिजिटल माध्यम से रैलियां करेगी BJP◾केरल : कोविड के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पाबंदियों पर बृहस्पतिवार को फैसला लेगी राज्य सरकार ◾कांग्रेस ने PM मोदी पर साधा निशाना - प्रधानमंत्री और भाजपा ने इकलौते दलित मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रतिशोध की कार्रवाई की◾UAE के विदेश मंत्री ने जयशंकर से की बात, आतंकी हमले में भारतीयों की मौत पर दुख जताया ◾ मुंबई : INS रणवीर में हुआ ब्लास्ट, तीन जवानों की मौत, कई घायल ◾यूपी : प्रियंका गांधी ने महिला कार्यकर्ताओं से की अपील, जहां कांग्रेस की महिला प्रत्याशी वहां करें समर्थन ◾ दिल्ली में मिले IED की हर कोण से जांच कर रही है पुलिस, अधिकारी ने दी जानकारी ◾दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 11,684 नए मामले आए सामने, 38 की हुई मौत ◾आजम खान जेल में रहकर लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव, रामपुर से सपा के उम्मीदवार घोषित◾पंजाब : ED ने मारा सीएम चन्नी के परिजनों पर छापा, कांग्रेस बोली ईडी है भाजपा का चुनाव विभाग◾BJP ने यूपी चुनाव के लिए उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी , इन नामों पर लगी मुहर◾बसपा ने भी किया 10 छोटे दलों से गठबंधन का ऐलान, यूपी चुनाव से पहले BSP ने चल दिया बड़ा दांव◾उत्तराखंड: दिल्ली में कल होगी BJP की चुनाव समिति की अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम की सूची पर होगा मंथन ◾देवास-एंट्रिक्स डील को लेकर वित्त मंत्री ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- यह धोखाधड़ी का सौदा था◾सुल्ली डील्स और बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप बना रही महिलाओं को निशाना, DCW ने भेजा पुलिस को नोटिस ◾हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने वालों को प्रोत्साहित करने की स्पर्धा है कांग्रेस, SP में: BJP◾

अनिल राजभर ने मायावती पर साधा निशाना, बोले- ब्राह्मण सम्मेलन आयोजित करना अवसरवादी राजनीति का उदाहरण

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर राजनीतिक पार्टियों में जुबानी जंग का माहौल बनता जा रहा है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने आज ब्राह्मण वोटरों को साधने के लिए एक बड़ा राजनीतिक दांव चला तो उनकी इस चाल पर कई राजनीतिक दलों ने सवाल उठा दिए।

उत्तर प्रदेश सरकार के दिव्यांग जन सशक्तिकरण मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता अनिल राजभर ने रविवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्‍यक्ष मायावती पर वातानुकूलित कमरे से ट्विटर व सोशल मीडिया पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि ‘‘मायावती अपने राजनीतिक अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही हैं और बसपा का ब्राह्मण समाज का सम्मेलन आयोजित करना अवसरवादी राजनीति का उदाहरण है।’’ दिव्यांग जन सशक्तिकरण मंत्री राजभर ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में बसपा मुखिया मायावती पर निशाना साधा।

उन्होंने बसपा के ब्राह्मण सम्मेलन आयोजित करने से जुड़े सवाल के जबाब में दावा किया कि ब्राह्मण समाज बसपा को वर्ष 2022 में जबाब देगा। बसपा प्रमुख मायावती ने रविवार को यहां मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘मुझे पूरा भरोसा है कि अब ब्राह्मण समाज के लोग भाजपा के किसी भी तरह के बहकावे में नहीं आएंगे और अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा को वोट नहीं देंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ब्राह्मण समाज को फिर से जागरूक करने के लिए बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र के नेतृत्व में 23 जुलाई को अयोध्या से एक अभियान शुरू किया जा रहा है और ब्राह्मणों को भरोसा दिया जाएगा कि बसपा शासन में ही उनका हित सुरक्षित है।'' मायावती पर पलटवार करते हुए राजभर ने कहा कि बसपा का ब्राह्मण समाज का सम्मेलन आयोजित करना अवसरवादी राजनीति का उदाहरण है।

उन्होंने इसके साथ ही यह भी कहा कि बसपा को चुनाव के कारण ब्राह्मण याद आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि ''बसपा मुखिया मायावती को न तो धरती की जानकारी है और न आसमान की। उन्हें जनता की समस्याओं पर कभी संघर्ष नहीं करना है और न किसानों पर कभी बात करनी है। दलितों की हालत देखने के लिए भी वह कभी नहीं निकलती। वह वातानुकूलित बंद कमरे से ट्विटर व सोशल मीडिया पर राजनीति करती हैं।''
उन्होंने सवाल किया कि क्या वह (मायावती) कभी सड़क पर उतरी हैं, सड़क पर उतरकर कभी कोई आंदोलन करते दिखाई दीं, वह इतिहास हो गई हैं तथा अब अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही हैं। राजभर ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा के आगामी चुनाव में साढ़े तीन सौ सीट पर जीत का दावा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनने पर राज्य मंत्रिपरिषद की पहली बैठक में किसानों का कर्जा वापस लिया जाता है तो सपा की सरकार बनने पर राज्य मंत्रिपरिषद की पहली बैठक में आतंकवादियों के विरुद्ध मुकदमे वापस लिये जाते हैं।

उन्होंने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर को धोखेबाज करार देते हुए कहा कि राजभर महाराजा सुहेलदेव के नाम पर पार्टी बनाते हैं तथा जिन मूल्यों को लेकर महाराजा सुहेलदेव ने जीवनपर्यंत लड़ाई लड़ी, ओम प्रकाश राजभर उन मूल्यों को तिलांजलि दे देते हैं। उन्होंने दावा किया कि विधानसभा के आगामी चुनाव के बाद ओम प्रकाश राजभर का राजनीतिक अस्तित्व समाप्त हो जायेगा।