BREAKING NEWS

प्रशांत किशोर ने सुशील मोदी पर साधा निशाना, कहा- लोगों को चरित्र प्रमाणपत्र देने में इनका कोई जोड़ नहीं ◾देश में घुसे पाक और बांग्लादेशी घुसपैठियों को निकालो : शिवसेना ◾राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर PM मोदी और उपराष्ट्रपति नायडू ने दी बधाई, देशवासियों से की ये अपील◾मौलाना कल्बे सादिक बोले- देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा◾तुर्की में 6.8 तीव्रता का भूकंप, 18 लोगों की मौत◾...जब दिल्ली में चुनाव प्रचार खत्म कर कार्यकर्ता के घर पहुंचे अमित शाह, खाया खाना◾केंद्र सरकार ने भीमा कोरेगांव मामले की जांच NIA को सौंपी, महाराष्ट्र के गृहमंत्री देशमुख ने की निंदा◾पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी बोले- SCO बैठक के लिए भारत के आमंत्रण का है इंतजार◾फांसी टलवाने के लिए सभी हथकंडे आजमा रहे निर्भया के दोषी, तिहाड़ जेल प्रशासन के खिलाफ आज होगी सुनवाई◾रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ PMLA मामला : प्रवासी कारोबारी थम्पी की हिरासत 4 दिनों के लिए बढ़ी ◾3-4 दिनों में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा : बी एस येदियुरप्पा◾CAA के बाद देश से वापस लौटने वाले बांग्लादेशी प्रवासियों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है : BSF◾TOP 20 NEWS 24 January : आज की 20 सबसे बड़ी ◾विजयवर्गीय के पोहे वाले बयान पर जावड़ेकर बोले- मैं भी पोहा खाता हूं ◾मुख्यमंत्री केजरीवाल बोले- चुनाव काम के आधार पर लड़ा जाएगा, न कि जाति या धर्म के आधार पर◾कांग्रेस, आप ने वोट बैंक की राजनीति की, भाजपा जो कहती है, वह करती है : नड्डा ◾प्रधानमंत्री मोदी बोले- भारत सिर्फ 130 करोड़ लोगों का घर ही नहीं बल्कि एक जीवंत परंपरा है◾भारत ने न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-0 से आगे ◾कोरोना वायरस : मुंबई में मिले दो संदिग्ध मरीज, कस्तूरबा अस्पताल में बनाया गया विशेष वार्ड◾महाराष्ट्र : राकांपा नेता नवाब मलिक बोले- मोदी सरकार ने पवार के दिल्ली स्थित आवास से सुरक्षा हटाई◾

मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचे बलात्कार के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर, बोले- हर जांच को तैयार 

उन्नाव में बलात्कार के आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर आज शाम मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचे लेकिन उन्होंने इस बात से इंकार किया कि मुख्यमंत्री योगी ने उन्हें इस कथित बलात्कार मामले में तलब किया है। बाद में सेंगर ने पत्रकारो से बातचीत में कहा कि उन्हें उनके विरोधियों की साजिश के तहत फंसाया जा रहा है और वह मांग करते है कि इस मामले की उच्च स्तरीय जांच कराई जायें। जो भी दोषी हो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाये।' उनसे पूछा गया कि जिस तरह से इस मामले में उनका नाम आ रहा है, क्या वह इस मामले की जांच के लिये इस्तीफा देंगे।

इस पर उन्होंने कहा, "नाम किसी का आने पर क्या कोई इस्तीफा दे देता है। आप का नाम कहीं कोई ले ले तो क्या आप इस्तीफा दे दोगे। यह घटना पूरी तरह से गलत है। इस घटना के पीछे मंशा केवल पूरी तरह से मेरी बदनामी की है। मैं चाहता हूं कि इस मामले की पूरी तरह से जांच हो।'

उनसे पूछा गया कि क्या वह इस मामले में किसी विपक्षी दल की राजनीतिक साजिश मानते है। इसके जवाब में उन्होंने कहा कि 'मैं पिछले काफी समय से राजनीति में हूं मेरे खिलाफ कई बार साजिश की जा चुकी है, एक बार फिर मुझे बदनाम करने की साजिश की जा रही है लेकिन मैं किसी मामले से घबराने वाला नही हूं। मैं हर तरह की उच्च स्तरीय जांच को तैयार हूं।' उनसे पूछा गया कि क्या मुख्यमंत्री ने उन्हें तलब किया है। इस पर उन्होंने कहा कि नहीं वह यूं ही मुख्यमंत्री कार्यालय आये है, उन्हें किसी ने तलब नही किया गया है।

Kuldeep Singh Sengar

गौरतलब है कि भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री आवास के पास आत्मदाह की कोशिश करने वाली युवती के जेल में बंद पिता की संदिग्ध हालात में मौत हो चुकी है। पीड़ित पक्ष ने विधायक पर जेल में हत्या कराने का आरोप लगाया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि सरकार और कानून इस घटना के दोषियों के साथ कोई रियायत नहीं करेगा। इस मामले में चार नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, लापरवाही बरतने के आरोप में सम्बन्धित थाना प्रभारी समेत छह पुलिसकर्मियों को निलम्बित कर दिया गया है।

पुलिस सूत्रों ने आज बताया कि भाजपा विधायक सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली माखी थाना क्षेत्र के एक गांव की निवासी 18 वर्षीय एक लड़की के पिता को रविवार रात को जेल में पेट दर्द के साथ खून की उल्टियां शुरू हुई थीं। इस पर उसे तुरंत जिला अस्पताल के एमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया। मगर तड़के लगभग तीन बजे उसकी मौत हो गयी। उसकी उम्र करीब 50 वर्ष थी।

मृतक के परिजन ने आरोपी भाजपा विधायक पर जेल में हत्या कराने का आरोप लगाया है। उनका इल्जाम है कि मुकदमा वापस ना लेने पर गत तीन अप्रैल को विधायक के भाई अतुल सिंह ने पीड़िता के पिता को मारापीटा था। पुलिस ने इसका मुकदमा दर्ज करने के बजाय पांच अप्रैल को पीड़ित के खिलाफ ही शस्त्र अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज करके उसे जेल भेज दिया।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।