BREAKING NEWS

'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾जेपी नड्डा का RJD पर तंज- नौकरी छीनने वाले आज कर रहे हैं नौकरी देने की बात ◾अनुराग कश्यप पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष अठावले की पार्टी में हुईं शामिल ◾IPL-13 : KXIP vs KKR, प्लेऑफ की दौड़ में पंजाब को बने रहने के लिए बनानी होगी जीत में निरंतरता ◾पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने पर भड़के नड्डा, कहा- राहुल गांधी निर्देशित है यह ड्रामा◾महबूबा के बयान के खिलाफ लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश, हिरासत में लिए गए BJP कार्यकर्ता◾कृषि बिल पर राहुल गांधी की नसीहत- गुस्साए किसानों की बात सुनें पीएम मोदी◾बिहार चुनाव में आलू और प्याज की एंट्री, 60 घोटालों के आरोप में तेजस्वी ने CM नीतीश को घेरा ◾Bihar Election : एक बार फिर नीतीश के खिलाफ हुए चिराग, बोले- CM हो या कोई अधिकारी, जेल भेजा जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पूरे देश में एनआरसी लागू करने के फैसले पर पुनर्विचार करे केंद्र सरकार : शिया बोर्ड

देश में शिया मुसलमानों के प्रमुख संगठन ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने केंद्र सरकार से राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) जैसी व्यवस्था पूरे देश में लागू करने के फैसले पर पुनर्विचार की मांग की है। 

बोर्ड ने अपने वार्षिक अधिवेशन में प्रस्ताव पारित कर कहा कि बोर्ड केंद्र सरकार से गुजारिश करता है कि वह पूरे देश में एनआरसी जैसी व्यवस्था लागू करने के मामले पर पुनर्विचार करें, ताकि वे शिया मुसलमान जो हिंदुस्तान के वफादार नागरिक तो हैं मगर किसी कारणवश वे कोई संपत्ति नहीं खरीद सके या उनका कोई शैक्षिक रिकॉर्ड नहीं है तो उन्हें कोई समस्या न हो। 

बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने बताया कि बोर्ड ने नागरिकता संशोधन विधेयक में शिया मुस्लिमों का ख्याल रखने की मांग करते हुए कहा कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान में जुल्म का शिकार हो रहे शिया मुसलमानों को भी गैर मुस्लिमों की तरह हिंदुस्तान की नागरिकता देने की व्यवस्था की जाए। 

इस वार्षिक अधिवेशन में पारित प्रस्ताव में केंद्र सरकार से यह भी मांग की गई कि केंद्र सरकार शिया मुसलमानों को शैक्षणिक संस्थानों में दाखिले और नौकरियों में आरक्षण दे। साथ ही मरकजी हज कमेटी में भी शियाओं को उचित नुमाइंदगी देने के साथ-साथ उनकी धार्मिक रीति के अनुसार सहूलियत भी मुहैया कराए। 

प्रस्ताव में भीड़ हिंसा के खिलाफ कड़े कानून के लिए भी केंद्र सरकार से मांग की गई है। 

इसमें यह भी कहा गया कि केंद्र सरकार और राज्य सरकारें शिया मुसलमानों को उनकी आबादी के अनुपात में संसद और विधानसभाओं में प्रतिनिधित्व दें और कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में शियाओं के लिए उसी तरह सीट आरक्षित की जाएं जैसे दलितों और महिलाओं के लिए की जाती हैं, नहीं तो शिया इसे अपने प्रति भेदभाव मानेंगे। 

बोर्ड ने केंद्र सरकार से यह भी मांग की है कि हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम को शिक्षण पाठ्यक्रमों में शामिल किया जाए क्योंकि हिंदुस्तान के करोड़ों लोग उनके प्रति श्रद्धा रखते हैं और उनकी शहादत की याद भी मनाते हैं।

इसने अपने प्रस्ताव में यह भी कहा है कि उत्तर प्रदेश में शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को एक करने की कोशिशों का वह विरोध करता है और मांग करता है कि शिया वक्फ बोर्ड का अलग वजूद बना रहे। 

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के इस जलसे में देश के तमाम हिस्सों से बड़ी संख्या में पहुंचे शिया धर्मगुरुओं ने हिस्सा लिया।