BREAKING NEWS

शेख हसीना के साथ बैठक सौहार्दपूर्ण रही : ममता ◾राजनाथ ने डीआरडीओ और घरेलू रक्षा उद्योगों के बीच सामंजस्य बनाने की अपील की ◾चुनावी बॉन्ड पर सरकार के पास जवाब नहीं : प्रियंका गांधी वाड्रा◾ कांग्रेस नेता अहमद पटेल बोले- बैठक अभी अधूरी है, कल हम फिर करेंगे बैठक ◾BHU में प्रो. फिरोज खान नियुक्ति विवाद पर छात्रों का धरना समाप्त,विरोध जारी◾राज्यसभा में उठा जेएनयू में फीस बढ़ोतरी का मुद्दा ◾TOP 20 NEWS 22 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे◾मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं◾प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बोले-पानी और सीवर के नए कनेक्शन पर देने होंगे 2,310 रुपये ◾NCP ने ली भाजपा की चुटकी, कहा- 'शरद पवार ने राजनीति के चाणक्य को दी मात'◾महाराष्ट्र : सरकार गठन को लेकर मुंबई में शाम 4 बजे होगी शिवसेना, NCP और कांग्रेस की बैठक◾संसद परिसर में कांग्रेस ने 'Electoral Bond' के खिलाफ किया प्रदर्शन◾गठबंधन पर संजय निरुपम तंज, कहा- 'तीन तिगाड़े काम बिगाड़े' वाली सरकार चलेगी कब तक?◾महाराष्ट्र में 5 साल के लिए शिवसेना का ही होगा मुख्यमंत्री : संजय राउत◾इजराइल के PM बेंजामिन नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और विश्वासघात मामले में आरोप तय◾सत्यपाल मलिक बोले- अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में केवट-शबरी की भी हों मूर्तियां, ट्रस्ट को लिखूंगा चिट्ठी◾झारखंड चुनाव: भाजपा के 'बागी' सरयू राय के बहाने नीतीश ने 'तीर' से साधे कई निशाने◾अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा : विदेश मंत्रालय◾

उत्तर प्रदेश

लखनऊ में गंदगी एवं कूड़े को लेकर न्यायालय का कड़ा रुख

 458

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने शहर की साफ-सफाई एवं कूड़े मुक्त किये जाने के मामले में नगर निगम सहित लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए), आवास विकास परिषद और अन्य संबंधित विभागों के आला अफसरों के द्वारा पेश रिपोर्ट पर अंसतोष जताते हुए फिर से कड़ा रुख अपनाया है। न्यायालय ने कहा कि सभी विभागों के अफसर फिर से स्पष्ट करे कि कितने ठेकेदार, एनजीओ और कर्मचारियों को सफाई का काम दिया गया।

अदालत ने कहा कि आम जनता की गाढ़ कमाई का दुरुपयोग मिलने पर बहुत सख्त कदम उठाया जाएगा। इसी के बावत न्यायालय ने सभी विभागों से फिर से विस्तृत हलफनामें मांगे है। न्यायमूर्ति मुनीस्वर नाथ भंडारी और न्यायमूर्ति सौरभ लावानिया की पीठ ने नगर निगम की ओर से दायर याचिका पर स्वयमेव संज्ञान लेकर दर्ज याचिका पर सोमवार को यह आदेश दिए।

अदालत ने एक अन्य याचिका को भी साथ मे सूचीबद्ध किया है याची की ओर से आरोप लगाए गए कि लखनऊ शहर में जगह-जगह कूड़ इक्टठा करने से आम आदमी का जीना दूभर हो गया है। शहर में धड्डल्ले से पॉलीथीन का प्रयोग हो रहा है। पॉलीथीन के रोकने का शासनादेश ठंडे बस्ते में चला गया है। पॉलीथीन कूड़ कचरा बढ़ रही है। नालो एवं नालियों में सफाई नहीं की जा रही है। नालो से निकला कचरा सड़को पर ढेर लगा है। छुट्टा जानवर सड़को पर है। पूरे शहर में अतिक्रमण से जाम की स्थिति है।

अदालत में सुनवाई के समय नगर आयुक्त एवं अन्य अधिकारियों की के रिपोर्ट पर संतुष्टि जाहिर नही की। अदालत ने कहा कि लखनऊ में कोई सफाई नहीं है जगह-जगह कूड़ सडको पर बिखरा पड़ है तथा ढ़र लगे है। अदालत ने कहा कि ऐसा लगता है कि महज कुछ लोगों और ठेकेदारो को लाभ देने के लिए केवल कागजों पर कार्रवाई दिखाई जा रही है।

अदालत ने नगर आयुक्त से पूछा कि सलाना कितना बजट आता है इस पर बताया कि बारह सौ करोड़ का बजट आता है। न्यायालय ने सख्त लहजे में कहा कि इस बजट का उपयोग आम जनता के लये होना चाहिये। कहा कि महज ठेकेदारो को लाभ देने के लिए इसका उपयोग न किया जाए। यह भी कहा कि हर विभाग में ठेकेदारो और चहेतो को लाभ देने संबंधी भ्रष्टाचार बन्द होना चाहिए।

अदालत ने नगर निगम सहित अन्य विभागों के साथ-साथ लखनऊ के जिलाधिकारी (डीएम) और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को भी निर्देश दिए है कि शहर की गंदगी अतिक्रमण, छुट्टा जानवरो एवं साड़ के बावत अपनी भूमिका निभाएंगे। अदालत ने कहा कि सड़कों को खोदाई एवं नालो की सफाई के बाद कचरे को तत्काल हटाया जाय। पॉलिथीन पर रोक के बावजूद भी प्रयोग हो रहा है इसपर अदालत ने नाराजगी जाहिर की। अदालत ने जिला प्रशासन से भी कहा कि तत्काल अवैध पॉलीथीन की बिक्री पर रोक लगाए और इसके लिए शासनादेश का कड़ई से पालन कराया जाए। मामले की अगली सुनवाई 22 मई को होगी।