BREAKING NEWS

मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾कोरोना से जंग में ब्रह्मास्त्र बनी वैक्सीन, टीकाकरण को पूरा हुआ 1 साल, करीब 156.76 करोड़ लोगों को दी खुराक ◾यूपी चुनाव: अखिलेश ने चला सामाजिक न्याय का दांव, भाजपा जनकल्याणकारी योजनाओं और हिंदुत्व के भरोसे◾CBSE की तैयारी, कोरोना लहर बीतने के बाद बोर्ड परीक्षा की बारी,शिक्षा मंत्रालय तैयारियों को लेकर सतर्क◾

शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम

उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया है और औपचारिक रूप से हिंदू धर्म अपना लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोमवार को डासना मंदिर के महंत नरसिम्हा आनंद सरस्वती ने रिजवी को औपचारिक रूप से हिंदू धर्म में परिवर्तित कर दिया।

वसीम रिजवी बोले- इस्लाम को हम धर्म ही नहीं समझते

इस्लाम छोड़कर हिन्दू बनने के बाद जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी (वसीम रिजवी) ने कहा, ''धर्म परिवर्तन की यहां कोई बात नहीं है, जब मुझे इस्लाम से निकाल दिया गया तो फिर मेरी मर्जी है कि मैं कौन सा धर्म स्वीकार करूं। सनातन धर्म दुनिया का सबसे पहला धर्म है जितनी उसमें अच्छाइयां पाई जाती हैं, और किसी धर्म में नहीं है। इस्लाम को हम धर्म ही नहीं समझते। 

रिजवी ने वसीयत में कहा- हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार हो अंतिम संस्कार 

बता दें कि वसीम रिजवी ने अपनी वसीयत में कहा था कि उनके शव का पारंपरिक हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अंतिम संस्कार किया जाना चाहिए, न कि उनकी मृत्यु के बाद दफनाया जाना चाहिए। रिजवी ने यह भी उल्लेख किया था कि उनकी अंतिम संस्कार की चिता गाजियाबाद के डासना मंदिर के एक हिंदू संत नरसिंह आनंद सरस्वती द्वारा जलाई जानी चाहिए।

26 आयतों को हटाने के लिए SC में दायर की थी याचिका 

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व प्रमुख ने कुरान से 26 आयतों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर करने के बाद विवादों में घिर गए, जिसमें उन्होंने आतंकवाद और जिहाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था। रिजवी ने कभी-कभी एक वीडियो जारी किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें अपने जीवन के लिए डर है क्योंकि कई कट्टरपंथी इस्लामी संगठनों ने उनके सिर काटने का आह्वान किया था। 

रिजवी ने अपनी याचिका में दावा किया था कि पवित्र कुरान में आपत्तिजनक आयतें काफी बाद में जोड़ी गई हैं। रिजवी ने अपनी याचिका में उल्लेख किया था, "इन आयतों को पहले तीन खलीफाओं द्वारा इस्लाम के विस्तार में सहायता के लिए कुरान में जोड़ा गया था।"

रिजवी के मुताबिक जिहाद को सही ठहरती हैं ये आयतें 

रिजवी के अनुसार कट्टरपंथी इस्लामवादी और आतंकी समूह कुरान की इन आयतों का इस्तेमाल जिहाद को सही ठहराने के लिए करते हैं। रिजवी ने यह भी कहा कि इन आयतों का इस्तेमाल अशिक्षित मुस्लिम युवाओं को गुमराह करने के लिए किया जा रहा है, उन्हें जिहाद के लिए राजी किया जा रहा है।

SC ने याचिका को तुच्छ करार दिया 

हालांकि, सुप्रीम कोर्ट  ने याचिका को तुच्छ बताया था और उस पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया था। आधिकारिक तौर पर कुरान से आतंक-समर्थक छंदों को हटाने में विफल रहने के बाद, वसीम रिज़वी ने कुरान से उक्त 26 छंदों को हटाकर, एक नई इस्लामी पवित्र पुस्तक लिखी थी।

ओवैसी ने रिजवी के खिलाफ दर्ज कराई थी FIR

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने 17 नवंबर को वसीम रिजवी के खिलाफ पैगंबर के खिलाफ कथित अपमानजनक बयान देने के लिए शिकायत दर्ज कराई थी। हैदराबाद के पुलिस आयुक्त को संबोधित शिकायत में, ओवैसी ने आरोप लगाया कि रिजवी ने हिंदी में एक किताब लिखी है जिसमें उन्होंने पैगंबर मोहम्मद को बदनाम किया और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया।

ओवैसी ने रिजवी द्वारा लिखी गई नवीनतम पुस्तक 'मुहम्मद' के खिलाफ अपनी आपत्ति जताई थी, जिसे 4 नवंबर को गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर से नरसिंह आनंद सरस्वती की उपस्थिति में जारी किया गया था।

इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह