BREAKING NEWS

Rajasthan: विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी बोले- सदन में दिए जाने वाले उत्तर की अच्छे से पड़ताल करें मंत्री ◾आप सांसद संजय सिंह ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, कहा- 'अदाणी समूह के खिलाफ निष्पक्ष जांच का आदेश दिया जाए'◾आम बजट पर 12 फरवरी तक बीजेपी चलाएगी देशव्यापी अभियान, जानें इसके पीछे की वजह ◾ब्रिटेन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को ‘लाइफ टाइम अचीवमेंट ऑनर’ से सम्मानित किया गया◾अहमदाबाद में सीरियल ब्लास्ट की धमकी देने वाला व्यक्ति गिरफ्तार◾चिराग पासवान बोले- ‘इस्तेमाल करो और छोड़ो’ की प्रवृत्ति नीतीश कुमार की कार्य संस्कृति में शामिल◾कर्नाटक के चुनावी रण में AAP की एंट्री, सभी 224 सीटों पर उतारेगी उम्मीदवार ◾गुटखा पर प्रतिबंध हटाने के मद्रास हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ SC का रूख करेगी तमिलनाडु सरकार ◾गांधीनगर कोर्ट ने आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई, 2013 में दो बहनों ने दर्ज कराया था रेप केस ◾सिसोदिया ने LG सक्सेना को पत्र लिख शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए फिनलैंड भेजने के प्रस्ताव पर मंजूरी मांगी◾Budget session 2023 : राष्ट्रपति के अभिभाषण की 10 अहम बातें◾मोरबी पुल मामला: ओरेवा समूह के MD जयसुख पटेल ने कोर्ट में किया सरेंडर, जारी हुआ था अरेस्ट वारंट ◾Rajasthan: उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव, सदन में मचा कोहराम ◾राष्ट्रपति के भाषण पर मायावती की टिप्पणी, कहा- सांत्वना देने के लिहाज से बहुत कमतर रहा अभिभाषण◾ यूएई के अल मिन्हाद जिले का नाम बदलकर किया गया 'हिन्द सिटी', प्रवासी भारतीयों में ख़ुशी की लहर ◾आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी का बड़ा ऐलान, विशाखापट्टनम होगी राज्य की नई राजधानी◾SC ने धन शोधन मामले में राणा अय्यूब की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा, PMLA कोर्ट से जारी समन को दी है चुनौती◾नब किशोर दास हत्याकांड : ASI गोपाल दास का मंत्री की हत्या का ‘‘साफ इरादा’’ था, FIR में खुलासा ◾Pakistan Mosque blast: संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस व सुरक्षा परिषद ने पेशावर हमले की निंदा की◾मीडिया रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा, 'अभी जारी रहेगी पाकिस्तानी रुपये की कमजोरी'◾

आजम खान के परिवार की बढ़ती मुश्किलें! फर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में अब्दुल्ला को सुप्रीम झटका

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान और उनके परिवार की मुश्किलें दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। इस बार उनके बेटे और स्वार सीट से सपा विधायक अब्दुल्ला आजम को फर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में उच्चतम न्यायालय से झटका लगा है। शीर्ष कोर्ट ने अब्दुल्ला की याचिका खारिज कर दी है।

उच्चतम न्यायालय ने 2019 के इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश को बरकरार रखा है। हाई कोर्ट ने फर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में अब्दुल्ला के विधायक के तौर पर चुनाव को रद्द करने के ऑर्डर दिए थे।  उन्होंने स्वार सीट से चुनाव लड़ा था।उच्चतम न्यायालय की न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी और न्यायमूर्ति बीवी नागरत्न की पीठ ने अब्दुल्ला की याचिका को खारिज कर दिया है। बता दें की उच्च न्यायालय ने अब्दुल्ला की तरफ से पेश किए गए जन्म प्रमाण पत्र को फर्जी पाया था, जिसके चलते उनका चुनाव रद्द कर दिया गया था। अदालत ने पाया था कि 2017 में चुनाव लड़ने के दौरान अब्दुल्ला की आयु 25 वर्ष से कम थी।  

नवाब काजम अली खान ने याचिका दायर कर दी थी चुनौती

हाई कोर्ट ने कहा था कि 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान अब्दुल्ला ने उम्र संबंधी फर्जी दस्तावेज पेश किए थे। इस चुनाव को बहुजन समाज पार्टी (BSP) के नेता रहे नवाब काजम अली खान ने याचिका दायर कर चुनौती दी थी। नवाब ने बाद में कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। उन्होंने याचिका में आरोप लगाए थे कि शिक्षा से जुड़े प्रमाण पत्रों के मुताबिक, सपा नेता के बेटे का जन्म 1 जनवरी 1993 में हुआ है। जबकि, जन्म प्रमाण पत्र के अनुसार, वह 30 सितंबर 1990 को पैदा हुए। उन्होंने दावा किया कि 2017 चुनाव में उन्हें सहायता पहुंचाने के लिए सर्टिफिकेट जारी कराया गया था। साथ ही यह भी दावा किया था कि अब्दुल्ला को वर्ष 2015 से पहले आधार कार्ड तथा पैन कार्ड नहीं मिले थे।