BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾

यूपी में जापानी बुखार के मामलों में आई काफी कमी : सरकार

उत्तर प्रदेश सरकार ने मंगलवार को बताया कि प्रदेश में जापानी इंसेफलाइटिस (जेई) और एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रॉम (एईएस) से मरने वाले बच्चों की संख्या में काफी कमी आई है। प्रदेश में 2019 में जेई के 229 मामले आए और इससे 18 बच्चों की मौत हुई है। वहीं इसी अवधि में एईएस के 2,026 मामले आए जिनमें से करीब 100 की मौत हुई है। 

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में पिछले एक साल के दौरान दिमागी बुखार से पीड़ित बच्चों का गलत इलाज होने का आरोप लगाते हुए इसकी जांच किसी मौजूदा न्यायाधीश से कराने की मांग की थी। 

उन्होंने सोमवार को कहा था कि गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में जनवरी 2019 से अक्टूबर 2019 के बीच खून की जांच से पता चला कि करीब 1,800 बच्चे दिमागी बुखार से पीड़ित हैं। लेकिन सरकार ने ‘अपने आंकड़े सही रखने के लिए इनकी संख्या मात्र 500 बतायी है।’ 

सपा अध्यक्ष ने कहा था कि उनकी जानकारी के अनुसार, गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में जनवरी-अक्टूबर, 2019 के बीच करीब 1,500 बच्चों की मौत हुई है। इस पर सरकार के प्रवक्ता सिद्घार्थनाथ सिंह ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सपा अध्यक्ष बच्चों की मौत पर राजनीति कर रहे हैं। वह जो आंकड़े बता रहे हैं, वह पूरी तरह गलत हैं। 

सिंह ने कहा कि 2016 के मुकाबले अब बच्चों के मरने की घटनाओं में 65 से 70 प्रतिशत तक कमी आयी है। यहां तक कि दोनों बीमारियों के संक्रमण में भी 70 से 80 फीसदी कमी आयी है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के के कारण जेई के मामलों में काफी कमी आयी है। 2017 से 2019 के बीच करीब डेढ. करोड़ टीके लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि एईएस में कोई टीकाकरण नहीं होता है। उससे बचाव का एकमात्र तरीका घर और आसपास स्वच्छता रखना है।