BREAKING NEWS

राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾CWC की बैठक खत्म, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर शाम 4 बजे होगा फैसला◾कांग्रेस का महाराष्ट्र पर मंथन, संजय निरुपम ने जल्द चुनाव की जताई आशंका◾महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-NCP ने नहीं खोले पत्ते, प्रफुल्ल पटेल ने दिया ये बयान◾BJP अगर वादा पूरा करने को तैयार नहीं, तो गठबंधन में बने रहने का कोई मतलब नहीं : संजय राउत◾महाराष्ट्र सरकार गठन: NCP ने बुलाई कोर कमेटी की बैठक, शरद पवार ने अरविंद के इस्तीफे पर दिया ये बयान ◾संजय राउत का ट्वीट- रास्ते की परवाह करूँगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी◾शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा की◾

उत्तर प्रदेश

कीमत कम होना अवैध शराब के प्रचलन की वजह : अनुसंधान दल

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में कच्ची शराब के सेवन से लोगों की मौत की जांच के लिये राज्य सरकार द्वारा गठित अनुसंधान दल के अनुसार राज्य में अवैध शराब के प्रचलन का मुख्य कारण सरकारी देशी मदिरा से उसकी कीमत करीब-करीब आधी और उससे कम होना है। 

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने विभिन्न जिलों में कच्ची शराब के सेवन से हुई मौतों की जांच के लिए एक विशेष अनुसंधान दल का गठन किया था। प्रवक्ता के अनुसार, ‘‘दल ने जांच के बाद अपनी संस्तुतियां गृह विभाग को सौंप दीं। इन संस्तुतियों के आधार पर गृह विभाग ने सम्बंधित विभागों को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।’’ 

गठित विशेष अनुसंधान दल की संस्तुतियों में बताया गया, ''प्रदेश में अवैध शराब के प्रचलन का मुख्य कारण सरकारी देशी मदिरा से उसकी कीमत करीब-करीब आधी एवं उससे कम होना पाया गया है।''अनुसंधान दल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में देशी शराब एवं विदेशी मदिरा दोनों का निर्माण ईएनए (एक्स्ट्रा नेचुरल एल्कोहल) से किया जा रहा है। ईएनए का तुलना में रेक्टीफाइट स्प्रिट प्रतिलीटर लगभग पांच रुपये सस्ती होती है।

दल ने सुझाव दिया, ‘‘देशी शराब के अन्य अलग ब्राण्ड का निर्माण रेक्टीफाइट स्प्रिट से करते हुए 28 प्रतिशत वी/वी का एक अलग ब्राण्ड का पाउच बनाये जाने पर विचार किया जाये। इस पाउच का दाम कम होगा, जिस कारण अवैध स्रोतों से खरीदी जाने वाली मदिरा के प्रचलन में अपने आप कमी आयेगी। ऐसा करने पर सरकारी मदिरा की बिक्री की मात्रा में वृद्धि होगी।’’ इसके साथ ही रिपोर्ट में बताया गया है कि जहरीली शराब के सेवन से प्रभावित व्यक्तियों के उपचार के दौरान किस प्रकार का उपचार (ट्रीटमेन्ट) किया जाना चाहिए, इस संबंध में चिकित्सालयों की स्थिति स्पष्ट नहीं है। 

दल ने कहा, ''इसलिए यह आवश्यक है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा जहरीली शराब के सेवन की दशा में उपचार के संबंध में एसओपी बनाकर जनपदों को निर्देश प्रसारित किये जायें ताकि जनहानि में कमी हो सके।'' साथ ही दल ने संस्तुति दी कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में अवैध शराब के विरूद्ध व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाये एवं अवैध शराब के सेवन से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों को विस्तार से लोगों को बताया जाये। 

दल ने कहा कि इस कार्य में स्वयंसेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाये। प्रत्येक ग्राम में स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति, जिसके पास कुछ बजट का प्राविधान भी उपलब्ध होता है, के माध्यम से भी अवैध शराब के विरूद्ध जागरूकता अभियान को उपयोगी बनाने की जरूरत है।