BREAKING NEWS

अब 5 राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों में ही बची कांग्रेस की सरकार ◾अब से विकास के नये युग की होगी शुरुआत : येदियुरप्पा◾‘किंगमेकर’ माने जाने वाले कुमारस्वामी बने ‘किंग’, लेकिन राजगद्दी जल्दी ही हाथ से निकली ◾कर्नाटक में गिरी कुमारस्वामी सरकार, विश्वास प्रस्ताव के पक्ष पड़े 99 वोट , BJP पेश करेगी सरकार बनाने का दावा ◾येदियुरप्पा के शपथ लेने के बाद मुम्बई से लौटेंगे कर्नाटक के बागी विधायक◾कश्मीर के बारे में ट्रंप के प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया से चकित हूं : इमरान खान ◾खुशी से पद छोड़ने को तैयार हूं : कुमारस्वामी ◾बोरिस जॉनसन बने ब्रिटेन के नए PM, यूरोपीय संघ से देश को बाहर निकालना होगी बड़ी चुनौती◾कश्मीर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी और इमरान खान को मिलकर करनी चाहिए पहल - फारुख अब्दुल्ला◾Top 20 News 23 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भाजपा ने ट्रंप के दावे पर विपक्ष के रूख को गैर जिम्मेदाराना बताया ◾कर्नाटक संकट: भाजपा ने कुमारस्वामी पर करदाताओं का पैसा बर्बाद करने का लगाया आरोप◾गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, चिराग पासवान समेत कई बड़े नेताओं की सुरक्षा◾SC ने NRC प्रकाशन की समय सीमा बढ़ाई, 20 फीसदी नमूनों के पुन: सत्यापन का अनुरोध ठुकराया◾PM मोदी देश को बताएं कि उनकी ट्रंप से क्या बात हुई थी : राहुल गांधी◾SC ने आम्रपाली समूह का रेरा पंजीकरण किया रद्द, NBCC को लंबित परियोजनाएं पूरी करने का निर्देश◾ट्रंप के दावे पर लोकसभा में विपक्षी सदस्यों का हंगामा, PM से जवाब देने की मांग की◾ट्रंप के बयान पर संसद में हंगामा, जयशंकर ने कहा- मोदी ने नहीं की मध्यस्थता की बात◾RTI कानून खत्म करना चाहती है सरकार, हर नागरिक होगा कमजोर : सोनिया गांधी ◾कश्मीर पर मध्यस्थता की ट्रंप की पेशकश का इमरान खान ने किया स्वागत, कहा- इसे दो पक्ष नहीं सुलझा सकते◾

उत्तर प्रदेश

कीमत कम होना अवैध शराब के प्रचलन की वजह : अनुसंधान दल

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में कच्ची शराब के सेवन से लोगों की मौत की जांच के लिये राज्य सरकार द्वारा गठित अनुसंधान दल के अनुसार राज्य में अवैध शराब के प्रचलन का मुख्य कारण सरकारी देशी मदिरा से उसकी कीमत करीब-करीब आधी और उससे कम होना है। 

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने विभिन्न जिलों में कच्ची शराब के सेवन से हुई मौतों की जांच के लिए एक विशेष अनुसंधान दल का गठन किया था। प्रवक्ता के अनुसार, ‘‘दल ने जांच के बाद अपनी संस्तुतियां गृह विभाग को सौंप दीं। इन संस्तुतियों के आधार पर गृह विभाग ने सम्बंधित विभागों को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।’’ 

गठित विशेष अनुसंधान दल की संस्तुतियों में बताया गया, ''प्रदेश में अवैध शराब के प्रचलन का मुख्य कारण सरकारी देशी मदिरा से उसकी कीमत करीब-करीब आधी एवं उससे कम होना पाया गया है।''अनुसंधान दल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में देशी शराब एवं विदेशी मदिरा दोनों का निर्माण ईएनए (एक्स्ट्रा नेचुरल एल्कोहल) से किया जा रहा है। ईएनए का तुलना में रेक्टीफाइट स्प्रिट प्रतिलीटर लगभग पांच रुपये सस्ती होती है।

दल ने सुझाव दिया, ‘‘देशी शराब के अन्य अलग ब्राण्ड का निर्माण रेक्टीफाइट स्प्रिट से करते हुए 28 प्रतिशत वी/वी का एक अलग ब्राण्ड का पाउच बनाये जाने पर विचार किया जाये। इस पाउच का दाम कम होगा, जिस कारण अवैध स्रोतों से खरीदी जाने वाली मदिरा के प्रचलन में अपने आप कमी आयेगी। ऐसा करने पर सरकारी मदिरा की बिक्री की मात्रा में वृद्धि होगी।’’ इसके साथ ही रिपोर्ट में बताया गया है कि जहरीली शराब के सेवन से प्रभावित व्यक्तियों के उपचार के दौरान किस प्रकार का उपचार (ट्रीटमेन्ट) किया जाना चाहिए, इस संबंध में चिकित्सालयों की स्थिति स्पष्ट नहीं है। 

दल ने कहा, ''इसलिए यह आवश्यक है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा जहरीली शराब के सेवन की दशा में उपचार के संबंध में एसओपी बनाकर जनपदों को निर्देश प्रसारित किये जायें ताकि जनहानि में कमी हो सके।'' साथ ही दल ने संस्तुति दी कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में अवैध शराब के विरूद्ध व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाये एवं अवैध शराब के सेवन से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों को विस्तार से लोगों को बताया जाये। 

दल ने कहा कि इस कार्य में स्वयंसेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाये। प्रत्येक ग्राम में स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति, जिसके पास कुछ बजट का प्राविधान भी उपलब्ध होता है, के माध्यम से भी अवैध शराब के विरूद्ध जागरूकता अभियान को उपयोगी बनाने की जरूरत है।