BREAKING NEWS

NCP नेता नवाब मलिक बोले- शिवसेना को किया गया अपमानित, निश्चित रूप से CM उनका ही होगा◾SC ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में शिवकुमार की जमानत के खिलाफ ED की याचिका की खारिज◾5 साल की बात क्यों, हम चाहते हैं 25 साल रहे शिवसेना का CM : संजय राउत◾दिल्ली-NCR में आज भी प्रदूषण की स्थिति गंभीर, आसमान में छाई धुंध की चादर◾ऑड-ईवन योजना का अंतिम दिन आज, स्कीम को आगे बढ़ाने पर संशय बरकरार◾तीस हजारी कांड : पथराव करने वाले वकील ही थे, क्या गारंटी?◾INX मीडिया मामला: चिदंबरम की जमानत याचिका पर आज आ सकता है कोर्ट का फैसला◾महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के गठबंधन के खिलाफ SC में याचिका दायर◾चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾

उत्तर प्रदेश

धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आए है उद्धव ठाकरे : इकबाल अंसारी

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के पक्षकार मोहम्मद इकबाल अंसारी ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे पर नाराजगी जताते हुए कहा कि यह एक राजनेता की धर्म यात्रा नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से राजनीति है। इकबाल अंसारी रविवार को कहा कि रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। 

इसलिए दोनों पक्षों को कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा पूर्ण रूप से राजनीति से प्रेरित है। अयोध्या धर्मनगरी है। यहां सरयू स्नान, हनुमानगढ़ और रामलला का दर्शन करना अच्छी बात है लेकिन 18 सांसदों के साथ अयोध्या आना, यह धर्म नहीं बल्कि राजनीति है। 

उन्होने कहा कि बाबरी मस्जिद एवं रामजन्मभूमि की राजनीति न करें तो बेहतर है। इस मामले को हल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने पैनल बनाया है। वहीं पैनल हिन्दू और मुसलमान पक्षकारों को बुला रहे हैं। अयोध्या एक धार्मिक स्थल है लेकिन नेता यहां केवल राजनीति करने आते हैं। अपने मकसद के लिये वो रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद की राजनीति करते हैं। 

बाबरी के पक्षकार ने कहा कि अयोध्या साधु-संतों का शहर है और जहां साधु-संत होते हैं वहां शांति होती है। मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो दोनों पक्षों को कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए। लेकिन हिन्दू पक्ष को कोर्ट पर विश्वास नहीं है। यह वही लोग हैं जो संविधान को नहीं मानते हैं। 

सुप्रीम कोर्ट ने समस्या के समाधान के लिए मध्यस्थता पैनल बनाया है और इस मामले पर अपना काम कर रहा है। इन लोगों को थोड़ा दिन का और सब्र करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंदिर-मस्जिद पर कोई ऐसा बयानबाजी नहीं होना चाहिए जिससे किसी एक पक्ष पर ठेस पहुंचे बल्कि ऐसा बयान होना चाहिए जो हिन्दुस्तान एक सौहार्द वातावरण के रूप में जाना जा सके।