BREAKING NEWS

मिस्र के साथ भारत के नए सिरे से संबंध - 2 विकासशील देशों का एक परिप्रेक्ष्य◾कुश्ती विवाद में सूत्रों का दावा : खेल मंत्रालय निगरानी समिति में शामिल कर सकता है और सदस्य◾उपराष्ट्रपति धनखड़ ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी से की मुलाकात◾दिल्ली में अगले कुछ दिन भी छाये रहेंगे बादल, 29 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना◾गणतंत्र दिवस समारोह : कर्तव्य पथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर, नारी शक्ति का प्रदर्शन◾विश्व के नेताओं ने गणतंत्र दिवस की बधाई दी◾अभिनेता अन्नू कपूर गंगा राम अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर◾जम्मू-कश्मीर में जी20 की बैठक ‘मानवता के दुश्मनों के लिए संदेश’ : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा◾सुप्रीम कोर्ट पहुंची शैली ओबेरॉय, MCD मेयर चुनाव को लेकर दाखिल की याचिका◾मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतेह अल सीसी ने गणतंत्र दिवस पर देखी भारत की ताकत◾Republic Day 2023: पुतिन ने देश को गणतंत्र दिवस की दी बधाई, कहा- भारत का योगदान महत्वपूर्ण◾JNU में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर विदेश राज्य मंत्री का बयान, कहा- 'किसी को भी भारत की संप्रभुता को रौंदने की अनुमति नहीं'◾74th Republic Day: पाक रेंजर्स ने BSF को खिलाई मिठाइयां, अटारी वाघा बॉर्डर पर गणतंत्र दिवस का जश्न◾ BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन के फैसले पर अमेरिका ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'हम मीडिया की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं'◾Republic Day : कर्तव्य पथ पर भारत ने दिखाई अपनी ताकत, जमीन पर टैंकों की दहाड़, 'आसमान में गरजा राफेल'◾जेपी नड्डा के बेटे की जयपुर में हुई शादी, 28 जनवरी को बिलासपुर में होगा रिसेप्शन◾बिहटा में भीषण सड़क हादसा, स्कॉर्पियो ने 6 को रौंदा, दो की हुई मौत◾गणतंत्र दिवस परेड में दिखा स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी◾बसंत पंचमी 2023: इन तीन छात्रों पर बरसेगी मां सरस्वती की कृपा,मिलेगी सफलता,बना खास योग करें ये उपाय◾ रामचरित मानस विवाद पर आग बगूला हुए रामभद्राचार्य कहा - स्वामी प्रसाद सठिया गए ◾

बाबरी विध्वंस की बरसी पर, इकबाल अंसारी बोले- अयोध्या में होनी चाहिए अब विकास की बात

अयोध्या में 6 दिसंबर को देखते हुए हाई अलर्ट कर दिया गया है। छह दिसम्बर को बाबरी मस्जिद विध्वंस के तकरीबन 30 वर्ष पूरे हो रहे हैं। हालांकि इस मामले का सुप्रीमकोर्ट से निर्णय भी आ गया है, शीर्ष अदालत के निर्णय के बाद रामजन्मभूमि में मंदिर निर्माण शुरू है। उधर, मस्जिद के लिए अयोध्या जनपद में ही 5 एकड़ जमीन सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को दी जा चुकी है। मस्जिद निर्माण का भी पूरा खाका तैयार कर लिया गया है। अयोध्या विकास प्राधिकरण से नक्शा पास होने की प्रक्रिया अंतिम दौर में है।

सुप्रीमकोर्ट ने मस्जिद  के लिए दी जमीन 

इस पूरे मामले में बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी का कहना है कि न्यायालय से निर्णय आने के बाद अब इस मुद्दे के लिए कोई जगह नहीं है, हमें अब काला दिवस भी नहीं मनाना है और न ही कोई विरोध करना है। आईएएनएस से विशेष वार्ता में उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान यह मुद्दा जानबूझकर उछाला जाता है। इकबाल अंसारी ने कहा कि सुप्रीमकोर्ट ने मस्जिद के लिए जो जमीन दी है, उसे सुन्नी वक्फ बोर्ड सेन्ट्रल बोर्ड को उपलब्ध करा दी गई है। ऐसे में अब इस मुद्दे को लेकर पक्षकारों का कोई लेना देना नहीं है। 

लोगों को मंदिर मस्जिद छोड़कर विकास की बात करनी चाहिए

पुर्नविचार याचिका के सवाल पर उन्होंने कहा कि कुछ लोग जो इस कमेटी में नहीं है, वे यह मसला उछाल देते हैं। वैसे अब लोगों को मंदिर मस्जिद छोड़कर विकास की बात करनी चाहिए। सियासी लोग भी विकास को बात करें तो बेहतर होगा। उन्होंने कहा कि कोर्ट से जो भी निर्णय आया है, उससे हम संतुष्ट हैं। इस मामले को अब आगे नहीं खींचना चाहते हैं। एक दूसरे सवाल के जवाब में इकबाल अंसारी कहते हैं कि अब 6 दिसंबर को काला दिवस मनाने की जरूरत नहीं है और न ही ऐसा कुछ करना चाहिए। हिंदुस्तान में मंदिर और मस्जिद के नाम पर अब कोई बखेड़ा नहीं खड़ा होना चाहिए। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि जब भी चुनाव आता है तो लोगों को मंदिर और मस्जिद मुद्दे पर बरगलाया जाता है। इस तरह के चुनावी हथकंडे इस्तेमाल करने की जगह विकास और रोजगार के मुद्दे पर जोर होना चाहिए।

सर्वोच्च अदालत ने अपना फैसला 9 नवंबर को सुना दिया था 

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा, देश की सर्वोच्च अदालत ने अपना फैसला 9 नवंबर को सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या सहित पूरे हिंदुस्तान में सुकून रहा। हम यही चाहते हैं कि मुसलमानों की तरफ से अब कहीं भी कोई काला दिवस न मनाया जाए। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, हम यह चाहते हैं कि भारत में मंदिर और मस्जिद के नाम पर शांति होनी चाहिए। लोग विकास की बात करें, रोजगार की बात करें। अयोध्या में विकास की बहुत बड़ी कमी थी। आज भी है, इसलिए अब केवल विकास और रोजगार की ही बात होनी चाहिए। मंदिर-मस्जिद और जात-धर्म के नाम पर लोगों को बांटना उचित नहीं। धर्म के नाम पर लोगों को गुमराह किया जाता है। अब यह बंद होना चाहिए।

कौन हैं इकबाल अंसारी 

इकबाल अंसारी बाबरी मस्जिद के सबसे पुराने पक्षकार रहे हाशिम अंसारी के बेटे हैं। इनके मरहूम पिता हाशिम अंसारी ने वर्ष 1949 से 2016 तक मस्जिद की पैरवी की थी। पिता की मौत के बाद इकबाल अंसारी ने बतौर पक्षकार बाबरी मस्जिद की कानूनी लड़ाई लड़ी। हाशिम अंसारी की तरह इकबाल अंसारी भी एक धर्मनिरपेक्ष मुसलमान के तौर पर जाने जाते हैं। यही कारण है कि बाबरी मस्जिद की कानूनी लड़ाई के दौरान उन्होंने कभी भी हिंदू-मुस्लिम एकता पर आंच नहीं आने दी। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का आदर करते हुए उन्होंने मामले को आगे न बढ़ाने का निर्णय लिया और अपने इस फैसले पर वह आज भी अडिग हैं