BREAKING NEWS

मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾टेक्सास सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात की अनुमति बहाल करने वाले आदेश पर रोक लगाई◾दिल्ली पुलिस ने फैक्ट-चेकर मोहम्मद जुबैर पर लगाए विदेशी चंदा लेने और सबूत मिटाने के आरोप◾'छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता, टूटे मन से कोई खड़ा नहीं होता...' सामना के जरिए शिवसेना का फडणवीस पर तंज◾उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में सत्ता खोने के बाद 'शिवबंधन' बनाने का कर रहे हैं विचार◾उदयपुर हत्याकांड : NIA कोर्ट में पेश किए जायेंगे आरोपी, रिमांड की मांग करेगी जांच एजेंसी◾मुझे भी मिला था ऑफर, लेकिन मैं हूं एक सच्चा शिवसैनिक : संजय राउत ◾CORONA UPDATE : देश में कोरोना संक्रमण के 17 हज़ार से अधिक मामले सामने आए, 29 मरीजों की हुई मौत ◾उदयपुर हत्याकांड के विरोध में आज अलवर बंद, पुलिस और जिला प्रशासन अलर्ट ◾5 हजार फीट पर स्पाइस जेट की फ्लाइट में दिखा धुआं, दिल्ली में हुई इमरजेंसी लैंडिंग◾राजधानी में अगले हफ्तेभर तक रहेगा बरसात का मौसम, लोगों को गर्मी से मिली राहत ◾BJP Meeting : 18 साल बाद हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, ये है पूरा कार्यक्रम◾

'काकोरी कांड' के वर्षगांठ के अवसर पर राज्यपाल आनंदीबेन बोली- हमें अपनी पीढ़ी को इतिहास की घटनाएं याद दिलाना चाहिए

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को आजादी की लड़ाई के 'काकोरी कांड' के वर्षगांठ के अवसर पर कहा कि हमें अपना इतिहास याद रखना चाहिए तथा अपनी पीढ़ी को ऐसी घटनायें याद दिलाना चाहिये, ताकि वे संस्कारवान बन सकें।''

पटेल ने सोमवार को काकोरी शहीद स्मारक, लखनऊ में वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए आयोजित समारोह को बतौर मुख्‍य अतिथि संबोधित करते हुए कहा,‘‘आज की इस ऐतिहासिक घटना का साक्षी होना मेरे लिये गौरव की बात है, यह मेरे लिये एक यादगार पल है।''

पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह के साथ साथ राज्‍य सरकार के कई मंत्रियों ने सोमवार को आजादी के अमृत महोत्सव एवं चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव आयोजन की श्रृंखला में काकोरी एक्शन ट्रेन की वर्षगांठ के अवसर पर काकोरी शहीद स्मारक लखनऊ में वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया गया तथा स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित चित्र प्रदर्शनी लगायी गयी। गौरतलब है कि काकोरी कांड भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारियों द्वारा ब्रिटिश राज के विरूद्ध भयंकर युद्ध छेड़ने की इच्‍छा से हथियार खरीदने के लिए ट्रेन से जा रहे सरकारी खजाने को लूट लेने की एक ऐतिहासिक घटना है जो नौ अगस्‍त 1925 को घटी।

इस मामले में क्रांतिकारी पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी, अशफाक उल्‍ला खां और ठाकुर रोशन सिंह को फांसी की सजा सुनाई गई थी। राज्‍यपाल ने काकोरी कांड के गौरव की याद दिलाते हुए कहा, ''बचपन में पढ़ाई के समय हमने स्वाधीनता संग्राम की घटना को पढ़ा था और आज यहां उपस्थित होकर मैं गर्व महसूस कर रही हूं।''

पटेल ने कहा, ''हमें अपना इतिहास याद रखना चाहिए तथा अपनी पीढ़ी को ऐसी घटनायें याद दिलाना चाहिये, ताकि वे संस्कारवान बन सकें। इस प्रकार की क्रांतिकारी घटनाओं के सम्बंध में हमारे स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिये, ताकि बच्चे अपने पूर्वजों का इतिहास जानें।''

राजभवन से जारी बयान के अनुसार पटेल ने कहा कि ''हमारे समाज में देश भक्ति की भावना धीरे-धीरे कम हो रही है, यह अत्यंत गम्भीर है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है।''

समारोह में आदित्यनाथ ने कहा, ''आजादी का यह अमृत महोत्सव हमें प्रेरणा दे रहा है। चौरी-चौरा से शुभारम्भ एवं वर्ष भर चलने वाले इस अमृत महोत्सव में आजादी के आंदोलन के शहीद अमर सेनानियों को नमन है।'' योगी ने कहा, ''आजादी का अमृत महोत्सव नये विचारों, संकल्पों तथा आत्मनिर्भरता का महोत्सव है।

आज काकोरी शहीद स्मारक पर यह आयोजन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, क्रांतिवीरों तथा सैनिकों को समर्पित है, जिनके बलिदान से देश की आजादी के साथ-साथ हमारी सीमाएं सुरक्षित है, ऐसे अमर शहीदों को मेरा शत्-शत् नमन है।'' उन्होंने कहा कि क्रांतिकारियों की सभी घटनायें हमे इस बात की याद दिलाती है कि हम एकजुट होकर, जाति धर्म से ऊपर उठकर राष्ट्र धर्म से जुड़े और एक आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार करें।