BREAKING NEWS

आज का राशिफल (03 मार्च 2021)◾आपातकाल एक गलती थी : राहुल गांधी◾यूएई में पहली बार ‘एक्सरसाइज डेजर्ट फ्लैग-6’ युद्धाभ्यास में भाग लेगी भारतीय वायु सेना ◾असम में पहले चरण के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी ◾देश में कोविड-19 टीके की अब तक 1.54 करोड़ खुराक दी गई : सरकार◾कांग्रेस को गुजरात निकाय चुनाव में लगा झटका, हारने वालों में एक विधायक समेत सात नेताओं के बेटे भी शामिल ◾चुनाव से पहले ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका, TMC नेता जितेंद्र तिवारी भाजपा में हुए शामिल ◾निजी क्षेत्र की नौकरियों में हरियाणा वासियों को मिलेगा 75 फीसदी कोटा, सरकार जल्द जारी करेगी नोटिफिकेशन◾संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान, चुनाव वाले राज्यों में टीमें भेजकर लोगों से भाजपा को हराने की करेंगे अपील◾कंगना रनौत का तीखा तंज : मेरे खिलाफ वारंट जारी करवाने में जावेद चाचा ने ली सरकार की मदद ◾असम चुनाव में कांग्रेस नीत महागठबंधन भाजपा का करेगा अंतिम संस्कार : बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट ◾प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर हमला - केंद्र की नीतियां सिर्फ अमीर लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए है◾UNHRC में भारत ने फिर पाकिस्तान को किया बेनकाब, आतंकवादी बनाने का अड्डा करार दिया ◾मालदा रैली में बोले योगी-घुसपैठियों को बाहर करने की बात पर तिलमिला जाती है बंगाल सरकार◾असम में बोलीं प्रियंका-सत्ता में आने पर रद्द करेंगे CAA, सरकारी नौकरी तथा मुफ्त बिजली का भी वादा◾मोदी सरकार ने बिना सोचे समझे लिए फैसले, इस वजह से भारत में बेरोजगारी चरम पर है : मनमोहन सिंह ◾गुजरात निकाय चुनावों के शुरूआती नतीजों में BJP बनी हुई है सबसे बड़ी पार्टी◾कांग्रेस vs कांग्रेस : ISF के साथ गठबंधन पर आनंद शर्मा के सवालों पर अधीर रंजन का 'पलटवार'◾पीएम मोदी की तारीफ करने पर गुलाम नबी आजाद के खिलाफ कांग्रेस में मचा घमासान, फूंका पुतला◾BJP ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- पार्टी का न ही कोई ईमान न ही विचारधारा, डूब चुका जहाज ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लैब असिस्टेंट की हत्या पर प्रियंका ने कहा-जंगलराज में कानून-व्यवस्था गुंडों के सामने कर चुकी है सरेंडर

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस की लापरवाही के चलते एक लैब असिस्टेंट की हत्या कर दी गई। राज्य में लगातार हो रही इस तरह की घटनाएं योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस घटना को लेकर योगी सरकार पर सवाल खड़े किए। प्रियंका ने ट्वीट कर लिखा है कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से दम तोड़ चुकी है।

उन्होंने लिखा, उप्र में कानून व्यवस्था दम तोड़ चुकी है। आम लोगों की जान लेकर अब इसकी मुनादी की जा रही है। घर हो, सड़क हो, ऑफिस हो कोई भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करता। विक्रम जोशी के बाद अब कानपुर में अपहृत संजीत यादव की हत्या। किडनैपर्स को पैसे भी दिलवाए और अब उनकी हत्या कर दी गई। एक नया गुंडाराज आया है। इस जंगलराज में कानून-व्यवस्था गुंडों के सामने सरेंडर कर चुकी है।

जाने क्या है पूरा मामला 

22 जून को हुए अपहरण की सूचना परिजनों ने समय रहते पुलिस को दे दी थी और उसकी सलाह पर ही अपहरणकर्ताओं को फिरौती की रकम के तौर पर 30 लाख रूपये भी दे दिए लेकिन पुलिस की आखों के सामने बदमाश फिरौती की रकम ले उड़े और उसकी तमाम कवायद धरी की धरी रह गई। 

इसके बावजूद पुलिस पीड़ित परिजनों को टरकाती रही। बाद में एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बर्रा थाना प्रभारी रणजीत राय को निलंबित कर दिया और तीन दिनों के भीतर अपहृत युवक को सुरक्षित वापस लाने का भरोसा दिलाया लेकिन तमाम दावों के बावजूद पुलिस न तो युवक का जिंदा रहते पता लगा सकी और न ही जमीन जायदाद बेचकर जुटाई गई फिरौती की रकम ही वापस ला सकी। 

पुलिस ने गुरूवार देर रात अपहरण कांड का खुलासा किया जिसके अनुसार निजी पैथोलाजी के लैब असिस्टेंट संजीत यादव को उसके दोस्तों ने मौत के घाट उतार दिया था। पुलिस ने चार आरोपियों दोस्तों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ कर रही है। वहीं परिजन पुलिस को दोषी ठहरा रहे हैं। उनका कहना है कि इस घटनाक्रम में जितने दोषी अपहरणकर्ता का उतना ही दोष पुलिस वालों का भी है इसलिए सजा बराबर से मिलनी चाहिए।

सूत्रों ने बताया कि लैब असिस्टेंट संजीत यादव के अपहरण में उसके दोस्तों ने ही उसे दगा दे दिया था और 22 जून की रात शराब पिलाने के बहाने लैब असिस्टेंट संजीत को अपने दोस्त ईशू यादव के रतनलाल नगर के कमरे में ले गया और बंधक बना लिया। चार दिन तक बेहोशी के इंजेक्शन देता रहा। 26 जून को कुलदीप ने दोस्त ईशू,रामबाबू और एक अन्य के साथ मिल कर संजीत की गला दबाकर हत्या कर दी और शव को कार में रखकर पांडु नदी में फेंक दिया था।

हत्या की दुस्साहिक वारदात को अंजाम देने के बाद अपहरणकर्ताओं ने तीन दिन बाद संजीत के पिता को फोन कर फिरौती मांगी। परिजनों ने पुलिस के कहने पर मकान, जेवर बेचकर 30 लाख की व्यवस्था की और 13 जुलाई को अपहर्ताओं को सौंप दिए लेकिन पुलिस उन्हें नहीं पकड़ पाई और वे भाग गए। 

पुलिस की अब तक की पड़ताल में यह बात साफ हो गई है कि अपहर्ताओं ने फिरौती मांगने के लिए संजीत के परिजनों को चाइनीज मोबाइल से फोन किया था। पुलिस ने बताया कि अपहरणकर्ता बेहद शातिर थे और उन्होंने सारी तैयारियां पहले से कर रखी थी और फर्जी नाम पर सचेंडी से प्री एक्टिवेटेड सिम खरीदा था। यह फर्जी आईडी पर जारी किया गया था। पुलिस ने सिम को बेचने वालों को भी दबोच लिया है और उनसे पूछताछ जारी है। 

अपहर्ताओं ने उस सिम का इस्तेमाल सिर्फ फिरौती मांगने के लिए किया जिसके बाद उस मोबाइल और सिम से कहीं भी कॉल नहीं की गई। लैब असिस्टेंट संजीत यादव को मर कर पांडु नदी में फेंकने की बात कबूल चुके उसके आरोपी दोस्तों की निशानदेही पर पुलिस ने देर रात से ही पांडु नदी में संजीत यादव के शव को तोड़ने का अभियान शुरू कर दिया है।