BREAKING NEWS

PM मोदी कल विभिन्न जिलों के DM के साथ करेंगे बातचीत , सरकारी योजनाओं का लेंगे फीडबैक ◾DELHI CORONA UPDATE: सामने आए 10756 नए केस, 38 की हुई मौत◾केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से नौसेना प्रमुख ने की मुलाकात, डीप ओशन मिशन के तौर-तरीकों पर हुई चर्चा◾गोवा: उत्पल पर्रिकर ने भाजपा छोड़ी, पणजी से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लड़ेंगे चुनाव ◾BJP ने 85 उम्‍मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की, कांग्रेस छोड़कर आईं अदिति सिंह को रायबरेली से मिला टिकट◾उत्तर प्रदेश : मुख्‍यमंत्री योगी ने किया चुनावी गीत जारी, यूपी फ‍िर मांगें भाजपा सरकार◾ भारत सरकार ने पाक की नापाक साजिश को एक बार फिर किया बेनकाब, देश विरोधी कंटेंट फैलाने वाले 35 यूट्यूब चैनल किए बंद ◾भाजपा ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए 34 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की ◾मणिपुर के 50 वें स्थापना दिवस पर पीएम ने दिया बयान, राज्य को भारत का खेल महाशक्ति बनाना चाहती है सरकार ◾15-18 आयु के चार करोड़ से अधिक किशोरों को मिली कोविड की पहली डोज, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾शाह ने साधा वाम दलों पर निशाना, कहा- कम्युनिस्टों का सियासी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ हिंसा का रहा इतिहास ◾UP चुनाव को लेकर बिहार में गरमाई सियासत, तेजस्वी शुरू करेंगे SP के समर्थन में प्रचार, BJP पर कसा तंज... ◾ कर्नाटक सरकार ने खत्म किया कोरोना का वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन ये पाबंदी लागू ◾नेशनल वॉर मेमोरियल में जल रही लौ में मिली इंडिया गेट की अमर जवान ज्‍योति◾UP चुनाव को लेकर बढ़ाई गई टीकाकरण की रफ्तार, मतदान ड्यूटी करने वालों को दी जा रही ‘एहतियाती’ खुराक ◾भाजपा से बर्खास्त हरक सिंह रावत ने थामा कांग्रेस का दामन, पुत्रवधू भी हुई शामिल◾त्रिपुरा ना सिर्फ नयी बुलंदियों की तरफ बढ़ रहा है बल्कि "ट्रेड कॉरिडोर’’ का केंद्र भी बन रहा है : PM मोदी ◾ASP ने जारी किया घोषणापत्र, कृषि ऋण माफी और ‘मॉब लिंचिंग’ निरोधक आदि कानून लाने का किया वादा ◾UP चुनाव: योगी को मिलेगा ठाकुर समुदाय का समर्थन? जानें SP, BSP और कांग्रेस की क्या है प्रतिक्रिया ◾LG ने वीकेंड कर्फ्यू खत्म करने का प्रस्ताव ठुकराया, निजी दफ्तरों में 50% उपस्थिति पर सहमति जताई◾

लखनऊ में होर्डिंग को लेकर SC ने कहा-UP सरकार द्वारा की गई कार्रवाई कानूनन सही नहीं

लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में हिंसा करने वाले उपद्रवियों की उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वसूली के होर्डिंग लगाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने इस दौरान कहा कि यह बेहद महत्वपूर्ण मामला है। और यूपी सरकार द्वारा की यह कार्रवाई कानूनन सही नहीं है। 

कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा कि क्या उसके पास ऐसे होर्डिंग लगाने की शक्ति है। फिलहाल ऐसा कोई कानून नहीं है जो आपकी इस कार्रवाई का समर्थन करता हो। इस दौरान उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से दलील देते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, निजता के अधिकार के कई आयाम हैं। 

उन्होंने कहा, विरोध प्रदर्शन के दौरान हथियार उठाने वाला और हिंसा में शामिल होने वाला व्यक्ति निजता के अधिकार का दावा नहीं कर सकता है। यूपी सरकार के लोगों का ब्योरा देने के कठोर फैसले पर सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राज्य की चिंता को समझ सकते है लेकिन कानून में यह फैसला वापस लेने को लेकर कोई कानून नहीं है। 

वहीं पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील अभिषेक सिंघवी ने दलील देते हुए कहा, दारापुरी '72 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं, जो आईजी के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे। सिंघवी ने बाल बलात्कारियों और हत्यारों के मामलों का उदाहरण देते हुए कहा, हम कब से और कैसे इस देश में नेम और शेम की नीति रखी है? यदि इस तरह की नीति मौजूद है, तो सड़कों और गलियों में चलने वाले व्यक्ति की लिंचिंग हो सकती है। 

इलाहाबाद हाई कोर्ट के होर्डिंग हटाए जाने वाले फैसले का विपक्ष ने किया स्वागत

एक अभियुक्त की ओर से पेश वकील ने कोर्ट के सामने कहा, आपको (यूपी सरकार) इस तरह के होर्डिंग्स लगाने के लिए कानून का अधिकार नहीं है। और यह राज्य सरकार का एक संवेदनशील दृष्टिकोण है। कोर्ट ने सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद कहा कि इस मामले को विस्तृत सुनवाई के लिए तीन-न्यायाधीशों की पीठ के समक्ष रखा जाए। 

दरअसल, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 9 मार्च को इस मामले में सुनवाई करते हुए यूपी सरकार को 16 मार्च तक होर्डिंग हटाए जाने का आदेश दिया था। हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने योगी सरकार को झटका देते हुए जिला मजिस्ट्रेट और पुलिस कमिश्नर को दंगाइयों की सभी होर्डिंग उतारने का निर्देश दिया था। साथ ही कोर्ट ने जिलाधिकारी और कमिश्नर को होर्डिंग हटवाए जाने का आदेश देते हुए  इसकी जानकारी रजिस्ट्रार को दें।