BREAKING NEWS

रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾विधानसभा चुनावः दिल्लीवासियों से केजरीवाल ने चार राज्यों में प्रचार के लिए मांगी मदद ◾

प्रियंका-जयंत की मुलाकात से शुरू हुई गठबंधन की अटकलों पर RLD और SP ने लगाया विराम, जानें क्या कहा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) प्रमुख जयंत चौधरी की मुलाकात के बाद कांग्रेस और रालोद के संभावित गठबंधन की अटकलों को समाजवादी पार्टी और रालोद ने खारिज कर दिया है। उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक दलों के बीच गठबंधन की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। 

इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी की एक मुलाकात के निहितार्थ निकाले जाने लगे, लेकिन सपा और रालोद नेताओं ने दावा किया है कि रालोद का गठबंधन सपा के साथ ही होगा। प्रियंका रविवार को गोरखपुर में प्रतिज्ञा रैली के बाद दिल्ली जाने के लिए लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पहुंची और उसी दौरान रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी भी दिल्ली जाने के लिए वहां पहुंचे। दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई और दोनों एक ही विमान से दिल्ली रवाना हुए। 

इस मुलाकात के बाद राजनीतिक हलकों में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस और रालोद में गठबंधन के कयास लगने शुरू हो गये। इस संदर्भ में रालोद के राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी ने बताया, ‘‘वह शिष्टाचार भेंट थी, हवाई अड्डे पर हम भी थे, चुनाव घोषणा पत्र जारी करने के बाद हम वहां पहुंचे थे।'' उन्होंने कहा कि हम लोग वहां बैठे रहे, चाट आ गई, सबने खायी और शिष्टाचार बातचीत हुई। त्यागी ने कहा, ''हम लोगों (रालोद) का 2019 से ही सपा से गठबंधन है और बातचीत अब सीटों (के बंटवारे) पर चल रही है।'' 

इधर, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को बातचीत में कहा कि उनकी पार्टी और रालोद के बीच गठबंधन मुकम्मल है और उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप दिया जाना है। गौरतलब है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और सपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था। उस वक्त कांग्रेस ने 114 तथा सपा ने 311 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। सपा को 47 और कांग्रेस को सात सीटों पर जीत मिली थी। 

403 सदस्यीय विधानसभा में कुछ सीटों पर कांग्रेस और सपा दोनों ने अपने उम्मीदवार दिये थे। 2017 में राष्ट्रीय लोकदल ने 277 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और सिर्फ एक सीट पर जीत मिली थी। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पुत्र पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह ने राष्ट्रीय लोकदल का गठन किया था। अजित सिंह के निधन के बाद रालोद का नेतृत्व उनके पुत्र जयंत चौधरी संभाल रहे हैं। पार्टी पहली बार जयंत की अगुवाई में कोई विधानसभा चुनाव लड़ रही है।