BREAKING NEWS

FATF ने पाक को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा, कार्रवाई की चेतावनी दी ◾दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को कोर्ट ने सुनाई 6 महीने की सजा, मिली जमानत◾महेंद्रगढ़ रैली में राहुल का प्रधानमंत्री पर वार, बोले-मोदी को नहीं है अर्थव्यवस्था की कोई समझ◾मोदी को डर, 'घेराबंदी' हटने पर कश्मीर में होगा खूनखराबा : इमरान खान◾हिसार में बोले PM मोदी-कांग्रेस ने हरियाणा विधानसभा चुनाव में पहले ही मान ली है हार◾लखनऊ में हिंदू महासभा के पूर्व नेता की कमलेश तिवारी की गोली मारकर हत्या◾महाराष्ट्र : शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-70 साल के शासन में जनजातीय समुदाय के लिए क्या किया?◾INX मीडिया मामले में CBI ने पी चिदंबरम के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया◾गोहाना रैली में PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते ही बढ़ जाता है पेट दर्द◾जयाप्रदा का आजम खान पर तंज, बोलीं- उन्हें औरत के आंसुओं की सजा मिल रही है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में, सप्ताहांत तक भारी गिरावट की उम्मीद ◾PMC बैंक: सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार, कहा- खटखटा सकते हैं हाई कोर्ट का दरवाजा◾CJI गोगोई ने केंद्र से की जस्टिस बोबडे को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिश◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का महेंद्रगढ़ दौरा रद्द, राहुल करेंगे रैली को संबोधित◾IMF की ताजा रिपोर्ट पर बोली वित्त मंत्री- भारत सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल◾भाजपा की तरह कांग्रेस का भी बना हाईटेक कार्यालय, 2020 में होगी शिफ्टिंग ◾मध्य प्रदेश की सियासत में 'हेमा के गाल और चील-कौवे' की एंट्री◾सीतारमण का मनमोहन को जवाब- किसी खास अवधि में कब और क्या गलत हुआ इसे याद करना जरूरी◾कांग्रेस-राकांपा को महाराष्ट्र की जनता सबक देगी : नरेंद्र मोदी◾सोनिया गांधी बोली- कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव से पहले नेता सामूहिक नेतृत्व में काम करें◾

उत्तर प्रदेश

शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी

लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) की करारी हार के बाद उम्मीद की जा रही थी कि मुलायम सिंह यादव का परिवार फिर से एकजुट हो सकता है और अखिलेश अपने चाचा शिवपाल से मधुर संबंध बनाने की चेष्टा करेंगे। मगर, इस दिशा में कोई प्रयास करने के बजाए सपा ने दलबदल कानून के तहत शिवपाल सिंह यादव की विधानसभा सदस्यता रद्द करने के लिए विधानसभा में याचिका लगा दी है। 

वहीं, नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल पर पार्टी चुप है, जबकि नितिन अब भाजपा का दामन थाम चुके हैं। राजनीतिक गलियारों में अब चर्चा यह होने लगी है कि शिवपाल को कमजोर करके सपा अपना बेस वोट बचाने की कोशिश कर रही है। 

शिवपाल ने लोकसभा चुनाव के दौरान ही सपा छोड़ दी थी, लेकिन सपा ने उस समय उनकी विधानसभा सदस्यता खत्म कराने को लेकर कोई पहल नहीं की थी। तब माना जा रहा था कि आगे चल कर चाचा -भतीजे में सुलह हो सकती है। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। साफ है कि अब यादव वोट बैंक पर वर्चस्व की लड़ाई में सपा को शिवपाल की पार्टी से जूझना होगा और इसको लेकर मुलायम परिवार में खटास और बढ़ेगी। उपचुनाव में प्रसपा की नामौजूदगी का फायदा अब किसे होगा, यह तो बाद में पता चलेगा। 

राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि शिवपाल यादव ने लोकसभा चुनाव में अपनी पार्टी को चुनाव मैदान में उतार कर अपनी ताकत दिखाने का प्रयास किया था, लेकिन वह सफल नहीं हुए। वह सिर्फ वोट कटवा साबित हुए। इसी कारण सपा फिरोजाबाद की अपनी परंपरागत सीट हार गई। 

सपा के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि "शिवपाल को अब पार्टी में रखने से कोई फायदा नहीं है। उन्हें कमजोर करने से उनके साथ लगे जमीनी यादव नेता उनसे टूट कर सपा के पाले में आ जाएंगे। इससे उपचुनाव में पार्टी को फायदा होगा। हालांकि ज्यादातर लोग समझ गए हैं कि शिवपाल सपा के बगैर कुछ नहीं है। वह समय-समय पर सपा को डेंट ही करते रहे हैं। ऐसे में उनकी सदस्यता छीनकर उन्हें कमजोर करना जरूरी है।" 

राजनीतिक विश्लेषक का कहना है, "शिवपाल सपा से अलग होने के बाद अपना राजनीतिक करियर कांग्रेस में देख रहे थे। कांग्रेस में उनके जाने की खूब चर्चा भी थी। लेकिन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के हाशिये पर चले जाने के बाद वह अकेले पड़ गए। लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा ने भी शिवपाल को महत्व देना कम कर दिया है।"

विश्लेषक ने कहा, "अखिलेश और मुलायम दोनों समझ गए हैं कि शिवपाल के पास अब न कांग्रेस में जाने का रास्ता है और न भाजपा में ही। ऐसे में अब उन्हें कमजोर करके ही सपा मजबूत हो सकती है। उनके साथ जुड़े यादव वोट सपा अपने पाले में ले सकती है।" 

विश्लेषक ने कहा, "जो नेता अपने बलबूते राजनीति में मजबूत होता है, उसके कमजोर होने पर उसका वोट बैंक अपने आप ही छिटक जाता है। प्रदेश में ऐसे कई उदाहरण हैं। राजा भैया, अजीत सिंह, चन्द्रशेखर, शारदानंद अंचल जैसे लोग अपने-अपने वोट बैंक पर राजनीति करते थे। इनके कमजोर होने पर इनका वोट बैंक छिटक गया। इसी कारण सपा शिवपाल को कमजोर करने का प्रयास कर रही है।" 

एक अन्य राजनीतिक विश्लेषक कहते हैं, "लोकसभा चुनाव के बाद शिवपाल सपा में आना चाहते थे, लेकिन अखिलेश उन्हें किसी भी कीमत पर पार्टी में शामिल करने को तैयार नहीं थे। दरअसल शिवपाल को लेने के बाद अखिलेश का सिरदर्द और बढ़ जाता।"

उन्होंने कहा, "अखिलेश अब चाहते हैं कि शिवपाल को लेकर कार्यकर्ताओं में कोई कनफ्यूजन न रहे, इसीलिए उनकी विधायकी पर उन्होंने अर्जी डाल दी है। शिवपाल ने लगातार हमले करके अखिलेश को नुकसान ही पहुंचाया है। ऐसे में उनकी सदस्यता खत्म करके कार्यकर्ताओं को भी संदेश देना है कि कोई ऊहापोह की स्थिति न रहे और पार्टी के लोग शिवपाल के खिलाफ भी हमला बोल सकें।"