BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

डेंगू बुखार से बच्चों की हो रही मौत की खबर बेहद दुःखद, योगी सरकार दिखाए गंभीरता: मायावती

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने बुधवार को कहा कि प्रदेश की योगी सरकार को जमकर घेरा। मायावती ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि कोरोना प्रकोप के सदमे एवं हताशा से अभी प्रदेश उबरा भी नहीं है कि बाढ़ की समस्या के साथ-साथ डेंगू बुखार के कारण भारी संख्या में बच्चों की हो रही मौत की खबर अति-दुःखद एवं चिन्तनीय हैं, जिसके प्रति सरकार की गंभीरता जरूरी हैं।
मायावती ने उत्तर प्रदेश के लगभग 10 मण्डलों के वरिष्ठ एवं ज़िम्मेदार पदाधिकारियों के साथ अहम बैठकों का सिलसिला सोमवार को भी भी जारी रखते हुए पार्टी संगठन के सभी स्तर की कमेटियों में भी ख़ासकर पोलिंग बूथ कमेटियों को युद्ध स्तर पर तैयार करने व आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सजग रहने के निर्देश दिये।

कोविड-19 से जुड़े भ्रष्टाचार के संबंध में ईडी ने कोलकाता में कई जगह चलाया तलाशी अभियान, दर्ज किए छह मामले

पार्टी द्वारा जारी बयान के मुताबिक मायावती ने कहा, ‘‘प्रदेश अभी कोरोना संक्रमण के प्रकोप से अभी उबरा भी नहीं है कि बाढ़ की समस्या के साथ-साथ डेंगू आदि बुखार से भारी संख्या में बच्चों की हो रही मौतों की खबर अति-दुःखद व अति-चिन्तनीय है, जिसके प्रति सरकार को गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है, वरना फिर हालात के बेकाबू होने से पूरे राज्य में लोग और भी ज्यादा परेशान होंगे।’’

उन्होंने पार्टी के लोगों को निर्देश दिया कि वे लोग अपनी हैसियत के हिसाब से मुसीबतजदा लोगों की यथासंभव मदद उसी प्रकार से करते रहें जिस प्रकार से उन्होंने खासकर कोरोना प्रकोप के दौरान लोगों को सहायता प्रदान की है। पश्चिमी उप्र में हो रही कथित हत्याओं पर गंभीर चिन्ता जताते हुए मायावती ने कहा कि इससे पहले हालात और ज्यादा खराब हों सरकार को अपना रुतबा और इकबाल कायम करके कानून के राज की बहाली का सघन प्रयास करना चाहिए तथा वास्तविक अपराधियों एवं दोषी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई राजनीतिक भेदभाव के तहत कत्तई नहीं होनी चाहिए।
रसोई गैस की कीमत में की गई एक और ‘भारी वृद्धि’ को अनुचित व गरीब-विरोधी कदम बताते हुए उन्होंने कहा कि खासकर पेट्रोल व डीजल आदि की कीमत में बेतहाशा वृद्धि ने ग़रीबों व मेहनतकश लोगों की कमर ही तोड़ रखी है। सरकार को उनकी हालात का सही अंदाजा करके ही इस प्रकार का कोई कदम उठाना चाहिए।
बसपा प्रमुख ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के गलत कारनामों की वजह से ही भाजपा देश व उप्र की सत्ता में आ गई है लेकिन अब वह संवैधानिक दायित्व व राजधर्म निभाने के बजाय राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के संकीर्ण एजेण्डे को देश के लोगों पर जबरदस्ती थोपने में लगी है। इस क्रम में अपनी गलत नीतियों व कार्यकलापों से देष में बढ़ती गरीबी, हर प्रकार की महंगाई, अति बेरोजगारी, व्यर्थ के तनाव व हिंसा आदि व्याप्त है, जिससे उप्र की जनता त्रस्त व बदहाल है।