BREAKING NEWS

कमलनाथ ने CM शिवराज पर साधा निशाना, कहा- वह सिर्फ झूठ बोलने व गुमराह करने की राजनीति करते हैं◾पुलवामा हमले पर पाक मंत्री की स्वीकारोक्ति के बाद राहुल गांधी मांगें माफी : जे पी नड्डा◾बल्लभगढ़ हत्याकांड से कांग्रेस का कोई संबंध नहीं, कुमारी शैलजा बोली- भाजपा कर रही दुष्प्रचार◾तुर्की में शक्तिशाली भूकंप में चार लोगों की मौत, कई इमारतें गिरीं◾अनिल बैजल ने दिल्ली में अंतर-राज्यीय बस सेवा फिर से शुरू करने की दी मंजूरी, सभी सीटों पर बैठ सकेंगे यात्री◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾मध्यप्रदेश उपचुनाव : कांग्रेस को बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा किया रद्द◾विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के​ लिए पाक पर कोई 'दबाव नहीं' था : पाकिस्तान ◾पीएम मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान में ‘जंगल सफारी’ का उद्घाटन किया ◾टेक्नोलॉजी में अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन ने बनाया प्लान, चौतरफा विरोध के बीच उठाया बड़ा कदम ◾हंदवाड़ा में चेकिंग के दौरान लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े 2 आतंकी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद◾उत्तर प्रदेश : राजनीतिक दुश्मनी के चलते अमेठी में ग्राम प्रधान के पति को जिंदा जलाया◾फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों के खिलाफ जाकिर नाइक ने उगला जहर, कहा-मिलेगी दर्दनाक सजा◾केवडिया : पीएम मोदी ने की न्यूट्री ट्रेन की सवारी, एकता मॉल और बच्चों के पोषक पार्क का किया उद्घाटन◾पीएम मोदी के दो दिवसीय गुजरात दौरे की हुई शुरुआत, पांच लाख पौधे वाले आरोग्य वन का किया लोकार्पण ◾बिहार : दूसरे चरण के चुनाव में आरजेडी,जेडीयू के सामने बड़ी चुनौती, सिवान में कांटे की टक्कर ◾राष्ट्रपति, पीएम सहित कांग्रेस नेताओं ने 'मिलाद-उन-नबी' के मौके पर देशवासियों को दी बधाई◾चीन द्वारा पूर्वी लद्दाख में दोबारा जमीन कब्जाने वाली रिपोर्ट को भारतीय सेना ने फर्जी करार दिया ◾प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर में 'टीआरएफ' द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की◾IPL -13 : राजस्थान रॉयल्स की जीत होगी बेहद जरूरी हार के साथ हो सकती है प्लेऑफ की दौड़ से बाहर ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

चीन की दादागिरी पर अमेरिका सख्त,कहा - अगर हांगकांग को “निगलने” की कोशिश की हम चुप नहीं बैठेंगे

अमेरिका ने चीन को चेतावनी दी है कि अगर उसने हांगकांग को “निगलने” की कोशिश की तो चुप नहीं बैठेगा। चीन ने एक दिन पहले ही कभी ब्रिटेन का क्षेत्र रहे हांगकांग में बेहद सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू किया है। बेहद सख्त लहजे वाले एक बयान में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि यह हांगकांग के लोगों के लिये दुखद दिन है और चीन को नए प्रतिरोधी उपायों को लेकर चेतावनी भी दी जिनमें क्षेत्र को रक्षा और दोहरे इस्तेमाल वाली प्रौद्योगिकी के निर्यात को खत्म किया जाना शामिल है। 

हांगकांग में मंगलवार को अमल में आया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून स्थानीय और चीनी अधिकारियों की जांच, अभियोजन और असंतुष्टों को सजा देने की शक्तियों में नाटकीय रूप से बढ़ोतरी करता है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मंजूरी पा चुके इस कानून के तहत अलगाव, तोड़फोड़, आतंकवाद और विदेशी शक्तियों के साथ मिलीभगत अपराध है। ऐसे अपराध के दोषियों को आजीवन कारावास की सजा हो सकती है। 

चीन के कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए पोम्पियो ने कहा, “चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का हांगकांग पर बेहद क्रूर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करने का फैसला इस क्षेत्र की स्वायत्तता और चीन की महान उपलब्धियों में से एक को नष्ट करता है।” ब्रिटिश शासन ने हांगकांग को चीन को सौंपे जाने की 23वीं वर्षगांठ पर कहा, “हांगकांग दुनिया को दिखाता है कि स्वतंत्र चीनी लोग क्या हासिल कर सकते हैं-दुनिया की सबसे सफल अर्थव्यवस्था और जीवंत समाज में से एक।” 

उन्होंने कहा, लेकिन अपने ही लोगों की अकांक्षाओं से चीन के ‘उन्माद और डर’ ने क्षेत्र की सफलता के आधार का मूल तत्व छीन लिया और ‘एक राष्ट्र दो व्यवस्था’ को “एक राष्ट्र, एक व्यवस्था” में बदल दिया। अमेरिका के शीर्ष राजनयिक ने कहा, “आज हांगकांग के लोगों और समूचे चीन में आजादी पसंद लोगों के लिये दुखद दिन है।” 

पोम्पियो ने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने हांगकांग के लोगों को 50 साल की स्वतंत्रता का वादा किया था और दिये उन्हें सिर्फ 23 साल। उन्होंने कहा कि बीते कुछ सालों में चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन, विश्व व्यापार संगठन और संयुक्त राष्ट्र के साथ किये गए अपने समझौतों का भी उल्लंघन किया है। उन्होंने कहा, “यह एक ऐसा प्रतिरूप है जिसकी दुनिया अनदेखी नहीं कर सकती।” पोम्पियों ने कहा कि अमेरिका “चीन द्वारा हांगकांग को अपने अधिनायकवादी तंत्र के जरिए निगले जाने के दौरान चुप नहीं रहेगा।अमेरिका हांगकांग के आजादी पसंद लोगों के साथ खड़ा रहेगा। "

भारत के बाद US ने दिया चीन को बड़ा झटका, चीनी कंपनी Huawei और ZTE को बताया राष्ट्रीय खतरा