BREAKING NEWS

UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾

तुर्की में पशु-अधिकार विधेयक हुआ पास, जानवरों को प्रताड़ित करने पर मिलेगी सख्त सजा

दुनियाभर में जानवरों को प्रताड़ित किया जाता है, जबकि उनके साथ प्रेमपूर्वक व्यवहार करके उन्हें भी सामाजिक सुरक्षा दी जानी चाहिए। दुनिया के तमाम देशों में जानवरों के प्रति साफ और प्रेमपूर्वक रवैया रखने वालों की भी कमी नही है, लेकिन वह भी कभी-कभी इस ओर असमर्थता जता देते है।

कार्यकतार्ओं और पशु कल्याण में शामिल लोगों के वर्षों के प्रयासों के बाद तुर्की अब संसद में पेश किए गए एक बहुप्रतीक्षित पशु-अधिकार विधेयक के तहत जानवरों को वस्तुओं के रूप में वर्गीकृत नहीं किया जाएगा। सत्तारूढ़ जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (एकेपी) द्वारा 30 जून को प्रस्तुत किए गए विधेयक के आने वाले हफ्तों में कानून के रूप में लागू होने की उम्मीद है।

राजनेताओं पर जनता के दबाव के कारण समाधान के साथ आने के कारण पशु अधिकारों का मुद्दा पिछले एक दशक से तुर्की सरकार के एजेंडे में रहा है। वर्तमान बिल जानवरों को 'वस्तुओं' के रूप में परिभाषित करता है, उन्हें किसी भी अधिकार से वंचित करता है। देश में आवारा जानवर को प्रताड़ित करने या मारने का कोई भी कार्य 'वस्तुओं को नुकसान' के तहत एक छोटे से जुर्माने के साथ दंडनीय है।

हालांकि, नया कानून उन्हें जीवित प्राणियों के रूप में फिर से परिभाषित करेगा और जानवरों को मारने, गाली देने या प्रताड़ित करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए जेल की मांग करेगा। हाल के वर्षों में जानवरों, विशेष रूप से आवारा कुत्तों या बिल्लियों के खिलाफ क्रूरता के मामलों ने सुर्खियां बटोरीं, जिससे एकेपी और अन्य राजनीतिक दलों ने अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।

स्थानीय प्रेस ने बताया पिछले महीने, तुर्की के सबसे बड़े शहर इस्तांबुल में रहने वाले एक व्यक्ति पर आवारा बिल्ली के बच्चे को मारने और खाने के लिए जुर्माना लगाया गया था, जिसे उसके पड़ोस के निवासी खिला रहे थे। तुर्की एनिमल राइट फेडरेशन, हयताप के अंकारा प्रतिनिधि पेलिन सैइलगन ने  बताया, अच्छी बात यह है कि उनके अपराध अपराधियों के रिकॉर्ड में दर्ज हो जाएंगे।

उन्होंने कहा हमने चिड़ियाघर, सर्कस के जानवरों, फर फार्म और पालतू जानवरों की दुकानों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी, लेकिन नए कानून में वे तथ्य शामिल नहीं हैं। नागरिकों का मानना है कि नया कानून लोगों को जानवरों के खिलाफ क्रूरता में शामिल होने से रोकेगा।

जानवरों के खिलाफ अपराधों की सजा छह महीने से चार साल तक की जेल होगी, जो अपराधियों को जमानत पर छूटने या जेल की सजा को जुर्माने में बदलने से रोकेगी। नए कानून के तहत, स्थानीय पुलिस किसी भी ऐसी घटना का जवाब देने के लिए पशु संरक्षण दस्ते स्थापित कर सकती है जिसमें किसी जानवर को नुकसान पहुंचा हो या खतरे में हो।