BREAKING NEWS

मुंबई में मुकेश अंबानी के घर के पास मिली संदिग्ध कार, विस्फोटक सामग्री बरामद ◾INDvsENG : नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत का ऐतिहासिक आगाज, इंग्लैंड को 10 विकेट से हराया ◾तमिलनाडु का व्यापार के जरिए विकास का है शानदार इतिहास: पीएम मोदी◾प्रेस कांफ्रेंस में गैस सिलेंडर लेकर पहुंचे कांग्रेस प्रवक्ता, एलपीजी मूल्य वृद्धि पर केंद्र को घेरा ◾ब्रिटेन की अदालत का फैसला, PNB घोटाला मामले में भगौड़े नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पण की मंजूरी ◾बंगाल को कटमनी, टोलाबाजी के लिए टीके की आवश्यकता, भाजपा करेगी इसका प्रबंध : जे पी नड्डा ◾ अमित शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- सत्ता की लालसा में बदरुद्दीन अजमल से हाथ मिलाया ◾PM मोदी का तमिलनाडु को तोहफा, 12,400 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया ◾केंद्र ने 'समलैंगिक विवाह' का किया विरोध, कहा-'सेम सेक्स' जोड़े का साथ रहना फैमिली नहीं◾BJP अध्यक्ष जे पी नड्डा ने बंकिम चंद्र चटोपाध्याय के नैहाटी स्थित आवास पहुंचकर अर्पित की श्रद्धांजलि ◾IND vs ENG 3rd Test : भारत की पहली पारी 145 रन पर सिमटी, रूट ने झटके 5 विकेट ◾सोशल मीडिया प्लेटफार्म नहीं कर सकेंगे मनमानी, केंद्र सरकार ने बनाए सख्त नियम◾भाजपा की यात्रा तब पूरी होगी, जब असम जीडीपी में सर्वाधिक योगदान देने वाला राज्य बनेगा : अमित शाह◾चीन के बाद पाकिस्तान भी पड़ा नरम, सभी एलओसी समझौतों के सख्ती से पालन पर हुआ सहमत ◾प्रधानमंत्री बोले-कांग्रेस झूठ बोलने में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेता◾पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ CM ममता का अनूठा विरोध, ई-स्कूटर पर बैठकर पहुंचीं सचिवालय◾महाराष्ट्र में बेकाबू हुआ कोविड-19, एक हॉस्टल में 229 छात्र कोरोना से संक्रमित पाए गए ◾BJP अध्यक्ष नड्डा ने लॉन्च किया 'सोनार बांग्ला' कैंपेन, 2 करोड़ लोगों से संपर्क साधेगी पार्टी◾पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव से पहले PM मोदी ने लोगों को दी विभिन्न विकास परियोजनाओं की सौगात ◾आम आदमी पर महंगाई की मार, 1 महीने में तीसरी बार LPG सिलेंडर के दामों में हुआ इजाफा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अपनी किताब में बराक ओबामा ने किया बड़ा खुलासा - पाकिस्तानी सेना और बिन लादेन में थे खास संबंध

वाशिंगटन : अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि उन्होंने एबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने पर छापा मारने के अभियान में पाकिस्तान को शामिल करने से इनकार कर दिया था, क्योंकि यह ‘‘खुला रहस्य’’ था कि पाकिस्तान की सेना, खासकर उसकी खुफिया सेवा में कुछ तत्वों के तालिबान और संभवत: अलकायदा से संबंध थे और वे कई बार अफगानिस्तान एवं भारत के खिलाफ सामरिक पूंजी के तौर पर इनका इस्तेमाल करते थे। 

ओबामा ने ‘ए प्रोमिज्ड लैंड’ नामक अपनी किताब में राष्ट्रपति के रूप में अपने कार्यकाल में एबटाबाद में मारे गए छापे की जानकारी दी है। अमेरिकी कमांडो के इस छापे में दुनिया का सर्वाधिक वांछित आतंकवादी लादेन दो मई, 2011 को मारा गया था। 

उन्होंने बताया कि इस अत्यधिक खुफिया अभियान का तत्कालीन रक्षा मंत्री रोबर्ट गेट्स और पूर्व उपराष्ट्रपति एवं मौजूदा निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने विरोध किया था। अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति ने बताया कि एबटाबाद में पाकिस्तानी सैन्य छावनी के बाहर एक पनाहगाह में लादेन के रहने की बात स्पष्ट हो जाने के बाद अलकायदा प्रमुख को मारने के लिए कई विकल्पों पर विचार किया गया। 

ओबामा कहा कि इस अभियान की गोपनीयता बनाए रखने की आवश्यकता ने चुनौती बढ़ा दी थी। उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते थे कि यदि किसी को बिन लादेन के बारे में हमारे कदम की जरा सी भी भनक लग गई, तो मौका हमारे हाथ से चला जाएगा, इसी लिए पूरी संघीय सरकार में केवल कुछ ही लोगों को अभियान की योजना की जानकारी दी गई थी।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘हमारे सामने एक और रुकावट थी: हम भले ही कोई भी विकल्प चुनते, उसमें पाकिस्तान को शामिल नहीं किया जा सकता था।’’ 

बराक ओबामा का बड़ा बयान- भारत के प्रति मेरे आकर्षण की प्रमुख वजह महात्मा गांधी

ओबामा ने कहा, ‘‘हालांकि पाकिस्तान सरकार ने आतंकवाद विरोधी कई अभियानों में हमारे साथ सहयोग किया और अफगानिस्तान में हमारे बलों के लिए अहम आपूर्ति मार्ग मुहैया कराया, लेकिन यह खुला रहस्य था कि पाकिस्तान की सेना, खासकर उसकी खुफिया सेवाओं में कुछ तत्वों के तालिबान और संभवत: अलकायदा से भी संबंध थे। वे यह सुनिश्चित करने के लिए सामरिक पूंजी के तौर पर कभी-कभी उनका इस्तेमाल करते थे कि अफगान सरकार कमजोर बनी रहे और अफगानिस्तान पाकिस्तान के सबसे बड़े दुश्मन भारत के नजदीक न आने पाए।’’ 

ओबामा ने लिखा कि पाकिस्तान की सेना एबटाबाद परिसर से कुछ ही मील की दूरी पर थी, जिसके कारण इस बात की संभावना बढ़ गई थी कि पाकिस्तानियों को कुछ भी बताने से अभियान की जानकारी लीक हो सकती है। उन्होंने  लिखा कि वे एबटाबाद में भले ही कोई भी विकल्प चुनते, उन्हें सबसे खतरनाक तरीके से अपने सहयोगी के क्षेत्र में बिना अनुमति घुसना पड़ता और इससे राजनयिक संबंध भी दाव पर लगे थे तथा इसने जटिलताएं भी बढ़ा दी थीं। 

अंतिम चरणों में दो विकल्पों पर विचार किया गया कि हवाई हमला किया जाए या किसी विशेष मिशन को अधिकृत किया जाए, जिसके तहत एक टीम हेलीकॉप्टर से चोरी-छुपे पाकिस्तान जाएगी, परिसर पर छापा मारेगी और पाकिस्तानी पुलिस या सेना के प्रतिक्रिया देने से पहले वहां से निकल आएगी। ओबामा और उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम ने दूसरे विकल्प को चुना। 

ओबामा ने कहा कि इस अभियान के बाद उन्होंने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई लोगों से फोन पर बात की, जिनमें से उनके लिए सबसे मुश्किल पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी से बात करना था, जिन्हें पाकिस्तान की संप्रभुता के हनन के कारण आलोचनाओं का शिकार होना पड़ता। उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि मैंने जब उनसे बात की, तो उन्होंने बधाई दी और सहयोग देने का आश्वासन दिया।’’ 

मालाबार युद्धाभ्यास का दूसरा चरण आज से शुरू होगा, अमेरिकी नौसेना का निमित्ज पोत होगा हिस्सा