BREAKING NEWS

तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान हुए एकत्र◾अचानक से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के AIIMS में भर्ती◾संविधान के लिए समर्पित सरकार, विकास में भेद नहीं करती और ये हमने करके दिखाया: PM मोदी ◾संसद सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने बुलाई विपक्षी नेताओं की बैठक, सरकार को घेरने की होगी तैयारी ◾ प्रयागराज हत्याकांडः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात ◾केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का बड़ा इलान, देश में 15 दिसंबर से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से होगीं शुरू◾छह दिसंबर को भारत आयेंगे रूसी राष्ट्रपति पुतिन, पीएम मोदी के साथ करेंगे शिखर बैठक◾दिल्ली सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, CM तीर्थयात्रा योजना में करतारपुर साहिब को किया शामिल ◾मध्य प्रदेश: मुरैना के नजदीक उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में लगी भयानक आग, चार कोच धू-धू कर जले◾दक्षिण अफ्रीका से निकले कोरोना के नए वैरियंट से दहशत में आयी दुनिया, कड़ी पाबंदियां लगनी शुरू ◾अखिलेश ने योगी की चुटकी ली, कहा-बाबा को लैपटॉप चलाना नहीं आता इसलिए टैबलेट दे रहे हैं ◾26/11 आतंकी हमले की बरसी पर बोले राहुल - शहीदों के बलिदान को जानो, साहस को पहचानो◾महाराष्ट्र में मार्च तक बनेगी BJP की सरकार! केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के दावे से मचा बवाल ◾संविधान दिवस: कांग्रेस का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा- आयोजन में नहीं किया शामिल, दर्शक बनना स्वीकार नहीं ◾पूर्व ACP का दावा - परमबीर सिंह के पास था आतंकी कसाब का फोन, पेश करने के बजाय किया नष्ट◾संविधान दिवस पर विपक्ष ने किया सेंट्रल हॉल कार्यक्रम का बहिष्कार, जानिए राजनितिक दलों ने क्या बताई वजह ◾जबरन वसूली मामला : जांच के सिलसिले में ठाणे पुलिस के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह ◾PM मोदी ने परिवारवाद पर कसा तंज, कहा- लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी पार्टियां नहीं कर सकती लोकतंत्र की रक्षा ◾बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकारों पर साधा निशाना, कहा कोई नहीं कर रहा है संविधान का पालन ◾किसान आंदोलन की वर्षगांठ पर हमलावर हुई प्रियंका, कहा- BJP के अहंकार के लिए जाना जाएगा ये सत्याग्रह ◾

LAC पर चीन चल रहा नई चाल! PLA ने नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल तैनात कर बढ़ाई भारत की टेंशन?

भारत-चीन के बीच पिछले साल से तनाव का माहौल बना हुआ है, जो अभी तक सुलझा नहीं है। ऐसे में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) शिनजियांग मिल्रिटी कमांड को एक नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल (एटीवी) प्राप्त हुआ है, जिससे उम्मीद की जा रही है कि सर्दियां नजदीक आते ही पठारी सीमा रक्षा सैनिकों को रसद समर्थन सुनिश्चित किया जा सकेगा।

पीएलए को चीन सरकार ने दिया निर्देश 

रिपोर्ट में कहा गया है कि नवीनतम सैन्य वार्ता 'अवास्तविक भारतीय मांगों' के कारण किसी समझौते पर पहुंचने में विफल रहने के बाद चीन-भारत सीमा तनाव फिर से बढ़ने का जोखिम है और इसी बीच पीएलए को ऑल-टेरेन व्हीकल प्राप्त हुआ है। बता दें कि इस गाड़ी की खासियत ये है कि यह समतल जमीन पर तेजी से चलने के साथ ही ऊंचे स्थानों और ढलानों के अलावा पहाड़ों पर भी चढ़ सकती है।

भारत-चीन के मध्य हाल ही में हुई थी 13वें दौर की वार्ता 

व्हीकल की डिलीवरी ऐसे समय में हुई है, जब चीन और भारत चीन-भारत सीमा के पश्चिमी खंड से संबंधित मुद्दों पर कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता के 13वें दौर के दौरान एक समझौते पर पहुंचने में विफल रहे हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पीएलए वेस्टर्न थिएटर कमांड ने 11 अक्टूबर को भारत की कथित अनुचित और अवास्तविक मांगों के लिए उसकी आलोचना की है।

भारत का देसी टीका 'कोवैक्सीन' को 24 घंटे के अंदर मिलेगी इजाजत? WHO लेगा महत्वपूर्ण निर्णय

कई चीनी विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि चीन को आगे भारतीय सैन्य आक्रमण की संभावना के लिए तैयार रहने की जरूरत है, क्योंकि भारत संघर्ष के एक नए दौर का जोखिम उठा रहा है।

एक ऊंचा और जटिल क्षेत्र, ऑक्सीजन की कमी 

पीएलए शिनजियांग मिल्रिटी कमांड ने अपने वीचैट अकाउंट पर प्रकाशित एक विज्ञप्ति में खुलासा किया कि जिस यूनिट ने नए व्हीकल को चालू किया है, वह एक उच्च ऊंचाई वाले, बफीर्ले सीमा क्षेत्र में स्थित है, जो बेहद ठंडा है और वहां ऑक्सीजन की कमी है और वह एक जटिल भूभाग है, जो जरूरी चीजों के परिवहन सहित रसद समर्थन में कठिनाइयों का कारण बनता है।

कैटरपिलर ट्रैक का उपयोग किया जाता है

कई ऑन-द-स्पॉट जांच के बाद, व्हीकल को सैनिकों की जरूरतों के अनुरूप बनाया गया है, क्योंकि इसमें कैटरपिलर ट्रैक का उपयोग किया जाता है, जो धातु से बने नहीं होते हैं। कमांड ने कहा कि ये ट्रैक मजबूत हैं और सड़क की सतहों को नुकसान नहीं पहुंचता है, उच्च गतिशीलता बनी रहती है और भारी चीजें भी उठाई जा सकती हैं।

विश्वसनीय सहायता प्रदान करने में सक्षम

विज्ञप्ति में कहा गया है कि खराब मौसम की स्थिति में भी व्हीकल उथली (छिछले पानी की जगह) नदी के किनारे, रेगिस्तान, पहाड़ों और बर्फ के मैदानों जैसे जटिल इलाकों में स्वतंत्र रूप से चल सकता है और पठारी सैनिकों की आपूर्ति परिवहन के लिए विश्वसनीय सहायता प्रदान करने में सक्षम है। इसने नए वाहन के नाम का खुलासा नहीं किया है।

एक सैनिक के हवाले से विज्ञप्ति में कहा गया है, अब इस बात की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है कि इस सर्दी में हमारे पास जरूरत की सामग्री खत्म हो जाएगी।एक रिपोर्ट के अनुसार, कुछ पीएलए यूनिट्स ने जनवरी में इस प्रकार के व्हीकल का उपयोग करना शुरू कर दिया था।