BREAKING NEWS

श्रीलंका सरकार ने देश में आपातकाल हटाने का किया ऐलान, लेकिन प्रशासन के खिलाफ लोगो में अब भी गुस्सा◾राउत ने किया राहुल की ‘केरोसिन’ वाली टिप्पणी का समर्थन, बोले-हमने भी अलग शब्दों में यही बात कही ◾ भारत में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA.4 का दूसरा मामला दर्ज ,तमिलनाडु में पाया गया◾ फव्वारा 2700 साल पुराना है....,ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग के दावे पर फिर भड़के ओवैसी◾'जब बड़ा पेड़ गिरता है, तो धरती हिलती है...', राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर अधीर रंजन का ट्वीट ◾ सिख दंगों में देश ने देखी है कांग्रेस की नफरत की राजनीति...,राहुल के बयान पर BJP का पलटवार◾ज्ञानवापी विवाद : मौलाना तौकीर रजा का आह्वान, हर जिले में 2 लाख मुसलमान दें गिरफ्तारी ◾ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद : DU प्रोफेसर की गिरफ्तारी को लेकर छात्रों का हंगामा◾NSE Co-Location Case : मुंबई-दिल्ली समेत 10 ठिकानों पर CBI का एक्शन◾नफरत की राजनीति कर रही है BJP, राहुल गांधी के बयान को AAP का समर्थन◾नवनीत राणा को BMC का नोटिस, 7 दिन में जवाब नहीं दिया तो होगी कार्रवाई◾शर्मनाक! JNU कैंपस में MCA की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तार◾उत्तराखंड : सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे बंद, फंसे 3 हजार यात्री, सख्त हुए पंजीकरण के नियम ◾MP : मुस्लिम समझकर बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, Video जारी कर जीतू पटवारी ने गृहमंत्री से पूछा सवाल◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,323 नए केस, 25 मरीजों की हुई मौत ◾रूस ने मारियुपोल पर पूरी तरह से कब्जे का किया दावा, मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पूरा शहर ◾यूरोप में Monkeypox का कहर, जानें क्या है ये बला, और कैसे फैलता है संक्रमण◾कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने BJP पर जमकर बोला हमला, कहा-भारत में आज अच्छे हालात नहीं◾दिल्ली पुलिस ने DU प्रोफेसर रतन लाल को किया गिरफ्तार, शिवलिंग पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी ◾पिता की पुण्यतिथि पर भावुक हुए राहुल, बोले-मुझे उनकी बहुत याद आती है◾

LAC पर चीन चल रहा नई चाल! PLA ने नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल तैनात कर बढ़ाई भारत की टेंशन?

भारत-चीन के बीच पिछले साल से तनाव का माहौल बना हुआ है, जो अभी तक सुलझा नहीं है। ऐसे में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) शिनजियांग मिल्रिटी कमांड को एक नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल (एटीवी) प्राप्त हुआ है, जिससे उम्मीद की जा रही है कि सर्दियां नजदीक आते ही पठारी सीमा रक्षा सैनिकों को रसद समर्थन सुनिश्चित किया जा सकेगा।

पीएलए को चीन सरकार ने दिया निर्देश 

रिपोर्ट में कहा गया है कि नवीनतम सैन्य वार्ता 'अवास्तविक भारतीय मांगों' के कारण किसी समझौते पर पहुंचने में विफल रहने के बाद चीन-भारत सीमा तनाव फिर से बढ़ने का जोखिम है और इसी बीच पीएलए को ऑल-टेरेन व्हीकल प्राप्त हुआ है। बता दें कि इस गाड़ी की खासियत ये है कि यह समतल जमीन पर तेजी से चलने के साथ ही ऊंचे स्थानों और ढलानों के अलावा पहाड़ों पर भी चढ़ सकती है।

भारत-चीन के मध्य हाल ही में हुई थी 13वें दौर की वार्ता 

व्हीकल की डिलीवरी ऐसे समय में हुई है, जब चीन और भारत चीन-भारत सीमा के पश्चिमी खंड से संबंधित मुद्दों पर कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता के 13वें दौर के दौरान एक समझौते पर पहुंचने में विफल रहे हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पीएलए वेस्टर्न थिएटर कमांड ने 11 अक्टूबर को भारत की कथित अनुचित और अवास्तविक मांगों के लिए उसकी आलोचना की है।

भारत का देसी टीका 'कोवैक्सीन' को 24 घंटे के अंदर मिलेगी इजाजत? WHO लेगा महत्वपूर्ण निर्णय

कई चीनी विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि चीन को आगे भारतीय सैन्य आक्रमण की संभावना के लिए तैयार रहने की जरूरत है, क्योंकि भारत संघर्ष के एक नए दौर का जोखिम उठा रहा है।

एक ऊंचा और जटिल क्षेत्र, ऑक्सीजन की कमी 

पीएलए शिनजियांग मिल्रिटी कमांड ने अपने वीचैट अकाउंट पर प्रकाशित एक विज्ञप्ति में खुलासा किया कि जिस यूनिट ने नए व्हीकल को चालू किया है, वह एक उच्च ऊंचाई वाले, बफीर्ले सीमा क्षेत्र में स्थित है, जो बेहद ठंडा है और वहां ऑक्सीजन की कमी है और वह एक जटिल भूभाग है, जो जरूरी चीजों के परिवहन सहित रसद समर्थन में कठिनाइयों का कारण बनता है।

कैटरपिलर ट्रैक का उपयोग किया जाता है

कई ऑन-द-स्पॉट जांच के बाद, व्हीकल को सैनिकों की जरूरतों के अनुरूप बनाया गया है, क्योंकि इसमें कैटरपिलर ट्रैक का उपयोग किया जाता है, जो धातु से बने नहीं होते हैं। कमांड ने कहा कि ये ट्रैक मजबूत हैं और सड़क की सतहों को नुकसान नहीं पहुंचता है, उच्च गतिशीलता बनी रहती है और भारी चीजें भी उठाई जा सकती हैं।

विश्वसनीय सहायता प्रदान करने में सक्षम

विज्ञप्ति में कहा गया है कि खराब मौसम की स्थिति में भी व्हीकल उथली (छिछले पानी की जगह) नदी के किनारे, रेगिस्तान, पहाड़ों और बर्फ के मैदानों जैसे जटिल इलाकों में स्वतंत्र रूप से चल सकता है और पठारी सैनिकों की आपूर्ति परिवहन के लिए विश्वसनीय सहायता प्रदान करने में सक्षम है। इसने नए वाहन के नाम का खुलासा नहीं किया है।

एक सैनिक के हवाले से विज्ञप्ति में कहा गया है, अब इस बात की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है कि इस सर्दी में हमारे पास जरूरत की सामग्री खत्म हो जाएगी।एक रिपोर्ट के अनुसार, कुछ पीएलए यूनिट्स ने जनवरी में इस प्रकार के व्हीकल का उपयोग करना शुरू कर दिया था।