न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने रविवार को कहा कि वह फेसबुक से यह सवाल करना चाहती हैं कि हमलावर क्राइस्टचर्च में नरसंहार का फेसबुक लाइव कैसे कर सका। हमलावर ने अंधाधुंध गोलीबारी कर 50 लोगों की हत्या कर दी थी। न्यूजहब डॉट को डॉट एनजेड की रिपोर्ट के अनुसार, आतंकवादी ने शुक्रवार को अल नूर मस्जिद में लोगों पर गोलीबारी करते हुए इसे गोप्रो कैमरा से फेसबुक लाइव किया था।

लाइवस्ट्रीम वीडियो सोशल मीडिया पर हमले के घंटों बाद तक मौजूद रहा। फेसबुक लाइव होने के अलावा फेसबुक द्वारा लगभग 17 मिनट के वीडियो को डिलीट करने से पहले इसे बार-बार यूट्यूब और ट्विटर पर शेयर किया गया। एक संवाददाता सम्मेलन में अर्डर्न के हवाले से कहा गया कि न्यूजीलैंड सरकार ने इस वीडियो को हटाने की पूरी कोशिश की, लेकिन ऐसा करने के लिए उसकी शक्तियां सीमित थीं।

उन्होंने कहा, ‘आतंकवादी हमले के बाद वायरल हो रहे इस वीडियो को हटाने के लिए हमने हर संभव प्रयास किया। अंतत:, यद्यपि यह सब उन प्लेटफॉर्म्स पर निर्भर है।’ उन्होंने कहा, ‘इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की व्यापक पहुंच है। यह वीडियो न्यूजीलैंड भर में, तथा दुनिया के अन्य हिस्सों में चलाया गया।’

फेसबुक ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उसने पिछले 24 घंटों में हमले के 15 लाख वीडियो डिलीट किए हैं। फेसबुक न्यूजीलैंड की अधिकारी मिया गार्लिक ने एक ट्वीट में लिखा, ‘प्रतिबंधित वीडियो कंटेंट को हटाने के लिए हम 24 घंटे कार्यरत हैं।’ उन्होंने कहा, ‘पहले 24 घंटों में हमले के लगभग 15 लाख वीडियो डिलीट किए जा चुके हैं, जिनमें 12 वीडियोज को अपलोड करते समय ब्लॉक किया गया था।’ रिपोर्ट के अनुसार, अर्डर्न ने भी कहा कि वे फेसबुक की मुख्य संचालन अधिकारी (सीओओ) शेरिल सांडबर्ग के लगातार संपर्क में हैं।