BREAKING NEWS

Filmmaker नितिन मनमोहन की बिगड़ी तबीयत, हार्ट अटैक आने के कारण अस्पताल में कराया गया भर्ती ◾Iran: ईरान सरकार की पहल- इज़राइल के लिए जासूसी करने पर चार लोगों को फांसी दी◾Delhi: दिल्ली की हवा फिर हुई प्रदूषित, सरकार ने निर्माण कार्यों पर लगाई रोक◾Rajasthan: पायलट ने कहा- राहुल गांधी की यात्रा की कामयाबी से परेशान है भाजपा ◾UP News: यूपी में लड़की के साथ दरिंदगी, आरोपी ने पीड़िता के साथ 6 दिनों तक किया बलात्कार, जानें मामला◾Delhi: मनोज तिवारी ने कहा- भ्रष्टाचारी या सेवक में से किसी एक को चुनेगी 'जनता'◾मोदी को लेकर फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों का ट्वीट- "एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य" ◾Maharastra News: धर्म परिवर्तन का विरोध करने पर युवक ने महिला को दी धमकी, कहा- तुम्हारे 70 टुकड़े कर देंगे◾पिता ने अपने ही सात वर्षीय बेटे को किया किडनैप ,’पान सिंह तोमर ‘मूवी देखकर वारदात को दिया अंजाम◾पाक आर्मी चीफ़ ने भारत के ख़िलाफ़ उगला ज़हर, कहा दुश्मन से भिड़ने के लिए तैयार हैं हम◾पाक आर्मी चीफ़ ने भारत के ख़िलाफ़ उगला ज़हर, कहा दुश्मन से भिड़ने के लिए तैयार हैं हम◾Gujarat: कल गुजरात में होगा चुनाव का आखिरी मैच! डाले जाएंगे 93 सीट पर मतदान, मैदान में 833 उम्मीदवार◾MCD Election :क्या केजरीवाल इस बार15 साल पुरानी सत्ता को बाहर का रास्ता दिखा पाएंगे◾Tamil Nadu: सीएम स्टालिन ने कहा- मंदिर लोगों के लिए होते है... किसी की निजी संपत्ति नहीं ◾''1971'' भारतीय नौसेना का ऑपरेशन ट्राइडेंट, जिसने पाकिस्तान को धूल चटा दी ◾महाराष्ट्र में 7 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के मामले में कोर्ट का अहम फैसला- आरोपी को हुई 10 वर्ष की कैद◾Navy Day 2022: युद्ध स्मारक पर नेवी चीफ और CDS ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, PM ने भी दी बधाई◾कांग्रेस का मास्टर प्लान- 'भारत जोड़ो यात्रा' के बाद शुरू होगी ‘हाथ से हाथ जोड़ो अभियान’, 26Jan से होगा शुभारंभ◾Draupadi Murmu: राष्ट्रपति मुर्मू का आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी ने किया अभिनंदन◾MCD चुनाव के बीच सांसद मनोज तिवारी ने 'आप' पर लगाया चुनाव में धांधली का आरोप◾

कोविड-19 के कारण 23 देशों में अभी तक स्कूलों को पूरी तरह से फिर से खोलना बाकी : यूनिसेफ

कोविड-19 महामारी अपने तीसरे वर्ष में प्रवेश कर रही है, ऐसे में 23 देशों (405 मिलियन स्कूली बच्चे ) में अभी तक स्कूलों को पूरी तरह से फिर से खोलना बाकी है। इन देशों में कई स्कूली बच्चों के स्कूल छोड़ने का खतरा है। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने यह जानकारी दी है।

समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, 'क्या बच्चे वास्तव में सीख रहे हैं?' नामक एक रिपोर्ट में यूनिसेफ ने कहा कि पिछले दो वर्षों में, लगभग 147 मिलियन बच्चों ने अपनी व्यक्तिगत स्कूली शिक्षा के आधे से अधिक को खो दिया है, जो कि 2 ट्रिलियन घंटे की खोई हुई शिक्षा है।

यूनिसेफ के कार्यकारी निदेशक कैथरीन रसेल ने कहा, जब बच्चे अपने शिक्षकों और अपने साथियों के साथ सीधे बातचीत करने में सक्षम नहीं होते हैं, तो उनकी शिक्षा प्रभावित होती है। जब वे अपने शिक्षकों और साथियों के साथ बिल्कुल भी बातचीत करने में सक्षम नहीं होते हैं, तो उनका सीखने का नुकसान स्थायी हो सकता है।

सीखने की पहुंच में इस बढ़ती असमानता का मतलब है कि शिक्षा सबसे बड़ा तुल्यकारक(इक्वै लाइजर) नहीं बल्कि सबसे बड़ा विभाजक बनने का जोखिम है। जब दुनिया अपने बच्चों को शिक्षित करने में विफल रहती है, तो हम सभी पीड़ित होते हैं।

सीखने के नुकसान के आंकड़ों के अलावा, रिपोर्ट उभरते सबूतों की ओर इशारा करती है जो दिखाती है कि कई बच्चे अपनी कक्षाओं के फिर से खुलने पर स्कूल नहीं लौटे। लाइबेरिया के आंकड़ों से पता चलता है कि दिसंबर 2020 में स्कूलों के फिर से खुलने पर पब्लिक स्कूलों में 43 प्रतिशत छात्र वापस नहीं लौटे। मार्च 2020 और जुलाई 2021 के बीच दक्षिण अफ्रीका में स्कूल न जाने वाले बच्चों की संख्या 250,000 से बढ़कर 750,000 हो गई।

रिपोर्ट के अनुसार, युगांडा में, दो साल के लिए स्कूल बंद होने के बाद जनवरी 2022 में लगभग 10 में से 1 स्कूली बच्चे ने स्कूल वापस रिपोर्ट नहीं किया। मलावी में, माध्यमिक शिक्षा में लड़कियों के बीच ड्रॉपआउट दर में 2020 और 2021 के बीच 48 प्रतिशत की वृद्धि हुई। केन्या में, 10-19 वर्ष की आयु के 4,000 किशोरों के एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 16 प्रतिशत लड़कियां और 8 प्रतिशत लड़के स्कूल के फिर से खुलने पर वापस नहीं लौटे।