BREAKING NEWS

गुजरात विजय पर बोले असम के सीएम शर्मा- यह तो ट्रेलर है... असली पिक्चर 2024 के लोकसभा चुनाव में दिखाएंगे◾ओडिशा उपचुनाव सीट पर बीजेपी की हार, बीजद उम्मीदवार ने भारी मतों से जीत की हासिल◾सोने की चमक में उछाल, दर्ज की गई 211 की बढ़ोत्तरी, चांदी इतने रूपए के साथ फिसली◾गुजरात में बजा 'मोदी' का डंका, जीत को लेकर जनता का आभार प्रकट किया, हिमाचल पर भी कही यह बड़ी बात◾गुजरात में 'BJP' की प्रचंड जीत, राज्य में चल पड़ा 'घर-घर मोदी' नड्डा ने कहा: भाजपा की ऐतिहासिक विजय◾खतौली सीट पर फैल हुई BJP की रणनीति, रालोद प्रत्याशी मदन भैया ने भाजपा को इतने वोटों से पछाड़ा, देखें पूरा समीकरण ◾रामपुर पर 'BJP' ने रचा इतिहास, 26 साल के चक्रव्यूह को तोड़कर एक नए युग की शुरूआत, इतने भारी मतों से हारी 'सपा'◾खतौली सीट पर फेल हुई BJP की रणनीति, रालोद प्रत्याशी मदन भैया ने भाजपा को इतने वोटों से पछाड़ा, देखें पूरा समीकरण ◾गुजरात में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद भूपेंद्र पटेल फिर से संभालेंगे मुख्यमंत्री पद, 12 दिसंबर को लेंगे शपथ ◾HP: 'मोदी लहर' में फेल हुए 'जयराम ठाकुर', कहा- मैं जनादेश का करता हूं सम्मान...राज्यपाल को सौंप रहा हूं इस्तीफा ◾ संजय सिंह ने कहा- 10 साल में राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल किया, गुजरात के लोगों के शुक्रगुजार हैं ◾Gujarat Election: EVM में गड़बड़ी का आरोप लगाकर कांग्रेस प्रत्याशी भरत सोलंकी ने की आत्महत्या की कोशिश◾गुजरात चुनाव : AAP के मुख्यमंत्री पद के चेहरे इसुदान गढ़वी की हार, भाजपा को 18,000 मतों से मिली शिकस्त ◾मोदी गढ़ में फिर 'डबल इंजन' सरकार, शाह ने कहा- गुजरात की जनता ने 'फ्री की रेवड़ी' और 'खोखले वादों' को नकारा◾Gujarat: 'कमल' की जीत पर बोले पवार- गुजरात में चल गया 'मोदी मेजिक'... लेकिन 2024 में नहीं चलेगा ◾Tata स्टील को सुप्रीम कोर्ट से लगा बड़ा झटका, जानिए 35000 करोड़ का क्या है मामला◾Mainpuri: डिंपल यादव ने किया बड़ा फेर- बदल, जीत दर्ज कर ले गई लोकसभा सीट◾अखिलेश यादव ने शिवपाल को दिया समाजवादी पार्टी का झंडा, सपा में प्रसपा के विलय की तेज हुई अटकलें ◾'भारत जोड़ो यात्रा' पहुंचेगी पश्चिम बंगाल में..., राहुल औऱ प्रियंका निभाएंगे अहम भूमिका, जानें पूरी रणनीति◾आजम खान के गढ़ में हुआ बड़ा उलटफेर, रामपुर किला ढहाने की ओर भाजपा◾

लगातार जारी 'महायुद्ध' से गहरा रहा मानवीय संकट, यूक्रेन पर होगा रासायनिक हमला? जानें ताजा अपडेट

अमेरिकी वित्त विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी रूस को उसका धन यूक्रेन में हमले पर लगाने के बजाय अपनी अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में करने के वास्ते मजबूर करने के उद्देश्य से प्रतिबंधों को आगे बढ़ा रहे हैं। रूसी प्रतिबंध रणनीति पर मुख्य अमेरिकी समन्वयकों में से एक, उप वित्त सचिव वैली एडेमो ने एसोसिएटेड प्रेस को दिए एक साक्षात्कार में कहा ‘'हमारा लक्ष्य रूस को ऐसा बनाना है कि वह भविष्य में अत्यधिक शक्ति प्रदर्शन करने में सक्षम न हो।’’

रूस भविष्य में अत्यधिक शक्ति प्रदर्शन करने में न हो सक्षम :अमेरिका 

एडेमो ने आगे की रणनीति पर चर्चा करते हुए आगे कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी रूस को वित्तीय कष्ट के बारे में आगाह करेंगे। एडेमो ने कहा ‘'अमेरिका और उसके सहयोगी रूस की युद्ध मशीन के निर्माण में योगदान देने वाली आपूर्ति श्रृंखलाओं को लक्षित करेंगे, जिसमें न केवल यूक्रेन में बल्कि कहीं और भी उपयोग होने वाले सैन्य उपकरणों के उपयोग के तरीकों को जानना शामिल होगा।’’

मेदवेदचुक को युद्ध से पूर्व किया गया था नजरबंद

यूक्रेन के अधिकारियों ने बताया कि रूसी समर्थक विपक्षी दल के पूर्व नेता और व्लादिमीर पुतिन के करीबी सहयोगी विक्टर मेदवेदचुक को देश की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी द्वारा एक विशेष अभियान में हिरासत में लिया गया है। गौरतलब है कि मेदवेदचुक रूसी समर्थक पार्टी विपक्षी मंच-फॉर लाइफ के पूर्व नेता थे। युद्ध शुरू होने से पहले उन्हें नजरबंद रखा गया था और युद्ध शुरू होने के बाद वे गायब हो गए।

रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर दी जाये प्रतिक्रिया :जेलेंस्की 

मंगलवार की रात को राष्ट्र के नाम अपने वीडियो संबोधन में, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने प्रस्ताव दिया कि रूस अब अपनी जेलों में बंद यूक्रेन के निवासियों को लेकर सौदेबाजी करके मेदवेदचुक को रिहा करा सकता है। जेलेंस्की ने दुनिया से अपील करते हुए कहा कि रूस द्वारा मारियुपोल में रासायनिक पदार्थ के इस्तेमाल करने के मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी जाए। जेलेंस्की ने कहा कि, विशेषज्ञ अब भी मारियुपोल में इस्तेमाल पदार्थ का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

यूक्रेन पर रसायनों का इस्तेमाल नहीं किया जायेगा बर्दाश्त :अमेरिका 

अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों ने कहा कि यूक्रेन के साथ रूस के युद्ध में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किए जाने पर बाइडेन प्रशासन का रूख स्पष्ट है कि रसायनों का इस्तेमाल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

पोलैंड की यात्रा के दौरान घटनाक्रम की निगरानी करने वाले सांसदों ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका मारियुपोल में रासायनिक पदार्थ गिराए जाने वाली खबरों की जांच कर रहा है। लेकिन उन्होंने आगाह किया कि संकटग्रस्त बंदरगाह शहर में हमले की प्रकृति का निर्धारण करने में समय लग सकता है। रैप जैसन क्रो, डी कोलो ने कहा ‘‘बाइडेन प्रशासन का रूख इस बात को लेकर स्पष्ट है कि रसायनों का इस्तेमाल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।'’ 

रूसी सेना विभिन्न प्रकार के दंगा नियंत्रण एजेंटों का कर सकती है इस्तेमाल 

डी कोलो ने एक प्रेस वार्ता में कहा ‘‘कांग्रेस यूक्रेन को अतिरिक्त सैन्य और अन्य सहायता भेजने के लिए अगले कदम पर विचार कर रही है।'’ अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने भी मारियुपोल से आने वाली खबरों के बारे में पत्रकारों से कहा हम कुछ भी स्पष्ट करने की स्थिति में नहीं हैं।लेकिन मैं कहना चाहूंगा कि, हमारे पास विश्वसनीय जानकारी थी कि रूसी सेना विभिन्न प्रकार के दंगा नियंत्रण एजेंटों का इस्तेमाल कर सकती है, जिसमें रासायनिक एजेंटों के साथ मिश्रित आंसू गैस भी शामिल है। ब्लिंकन ने कहा, हम इस जानकारी को यूक्रेन और अन्य भागीदारों के साथ साझा करते हैं ताकि यह निर्धारित करने का प्रयास किया जा सके कि वास्तव में क्या हो रहा है।

वैश्विक रासायनिक हथियार निगरानी संस्था बारीकी से कर रही है निगरानी

वैश्विक रासायनिक हथियार निगरानी संस्था का कहना है कि वह मारियुपोल में रासायनिक हथियारों के उपयोग की हालिया अपुष्ट रिपोर्ट से चिंतित है और यूक्रेन में स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रही है। ‘‘ऑर्गनाइजेशन फॉर द प्रोहिबिशन ऑफ कैमिकल वेपन्स’’ के प्रवक्ता ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि किसी भी परिस्थिति में किसी के द्वारा कहीं भी रासायनिक हथियारों का उपयोग निंदनीय है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा स्थापित कानूनी मानदंडों के विपरीत है।

यूक्रेन से रूसी सेना को वापस बुलाये पुतिन :जापान 

जर्मनी के राष्ट्रपति ने रूस के नेता व्लादिमीर पुतिन से यूक्रेन से अपने सैनिकों को वापस बुलाने और वहां बर्बरता को रोकने के लिए कहा है। फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमीयर ने यूक्रेन की लड़ाई का समर्थन करने और युद्ध से भागने वाले लाखों शरणार्थियों की सहायता के बारे में पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेजेज डूडा के साथ बात करने के लिए मंगलवार को वारसॉ का दौरा किया। स्टीनमीयर ने एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा,यह बर्बरता जिसे हम हर दिन देख रहे हैं, रुकनी चाहिए।

ऑस्ट्रिया ने किया राजनीतिक और मानवीय समर्थन जारी रखने का वादा 

ऑस्ट्रिया के चांसलर कार्ल नेहैमर ने मंगलवार को जारी बयान में, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के साथ फोन पर बातचीत में यूक्रेन के लिए राजनीतिक और मानवीय समर्थन जारी रखने का वादा किया। यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की के एक सलाहकार ने मारियुपोल के दक्षिण-पूर्वी बंदरगाह की रक्षा करने वाले यूक्रेनी सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। सलाहकार मायखाइलो पोदोलीक ने ट्विटर पर लिखा डेढ़ महीने से अधिक समय तक हमारे रक्षक शहर को उन (रूसी) सैनिकों से बचाते रहे हैं, जो उनसे दस गुना अधिक थे। वे शहर के प्रत्येक हिस्से के लिए खतरे के साये में लड़ रहे हैं।

बुचा शहर में मानवीय नरसंहार के बाद मिले 403 शव 

यूक्रेन के बुचा शहर के मेयर अनातोली फेडोरुक का कहना है कि अब तक 403 शव मिले हैं और उन्हें डर है कि मरने वालों की संख्या बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा ‘‘मंगलवार की सुबह 10 बजे हमने दूसरी सामूहिक कब्र का पता लगाना शुरू किया, वहां 56 शव हैं। साथ ही, चार निजी कब्रें हैं। लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि आज तक, हमारे पास 403 शव हैं।

उन्होंने कहा ’’यह ध्यान में रखते हुए कि हमारे सशस्त्र बल, हमारे क्षेत्रीय समुदाय में गांवों और बस्तियों के बीच जंगलों में काम कर रहे हैं, हम आशा करते हैं कि जो लोग लापता हैं वे अभी भी जीवित हैं, लेकिन शायद हमें उनके शव गांवों के बीच कहीं मिलेंगे।’’

युद्ध के कारण खाद्य, तेल और उर्वरक जैसी वस्तुओं के निर्यात में है संकट 

जर्मनी के राष्ट्रपति का कहना है कि उनके पोलिश समकक्ष ने सुझाव दिया कि वे एकजुटता दिखाने के लिए अन्य नेताओं के साथ यूक्रेन की यात्रा करें, लेकिन वह प्रस्तावित यात्रा जाहिर तौर पर कीव में नहीं चाहते थे। घटनास्थल पर मौजूद एसोसिएटेड प्रेस के पत्रकारों के अनुसार, हवाई अड्डे के पास एक स्कूल में मंगलवार को हमला हुआ, जिसमें एक इमारत नष्ट हो गई और आसपास के इलाकों को नुकसान पहुंचा। जिनेवा में स्थित विश्व व्यापार संगठन (डब्लयूटीओ) ने मंगलवार को अगले दो वर्षों में अपने पूर्वानुमान में कई अनिश्चितताओं की ओर इशारा किया क्योंकि रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण खाद्य, तेल और उर्वरक जैसी वस्तुओं का निर्यात संकट में है।