BREAKING NEWS

बंगाल के युवा भाजपा नेता की गोली मारकर हत्या, शुभेंदु ने TMC पर लगाया आरोप◾कश्मीर में बिहारियों की हत्या पर सियासत गर्म, BJP बोली- घटिया राजनीतिक पत्थरबाज न बने तेजस्वी◾बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हमला, हसीना सरकार के खिलाफ है साजिश या फिर अल्पसंख्यकों के लिए नफरत◾केरल में भारी बारिश ने मचाई तबाही, शहर-शहर डूबे, अब तक 26 लोगों ने गंवाई जान ◾महंगाई के मुद्दे पर अखिलेश का हल्लाबोल - गरीबों की जेब काटकर अमीरों की तिजोरियां भर रही है भाजपा◾देश में कोरोना के एक्टिव केस 221 दिनों में सबसे कम, पिछले 24 घंटे में 13596 नए मामलों की पुष्टि ◾लखीमपुर हिंसा के विरोध में प्रदर्शनकारियों का 'रेल रोको' आंदोलन जारी, प्रशासन अलर्ट ◾विश्वभर में जारी है कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 24.06 करोड़ पहुंचा, 48.9 लाख से अधिक लोगों की हुई मौत ◾जयशंकर ने भारत में अवसरों पर ध्यान देने के लिए इजराइली कारोबारियों को किया प्रोत्साहित ◾राहुल से मुलाकात कर भी नहीं माने सिद्धू, सोनिया को लिखा 13 सूत्री एजेंडा वाला खत◾आतंकवादी हमले में बिहार के दो लोगों की हत्या पर CM नीतीश ने की चिन्ता व्यक्त, उपराज्यपाल से फोन पर की बात ◾J&K: 'टारगेट किलिंग' के मद्देनजर इमरजेंसी एडवाइजरी जारी, पुलिस-आर्मी कैंप में लाए जाएंगे बाहरी मजदूर ◾सिंघु बॉर्डर लिंचिंग : कोर्ट ने तीन आरोपियों को पुलिस रिमांड पर भेजा, दो एसआईटी कर रही जांच◾ J-K: लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने किया गैर-कश्मीरियों पर हमला, कुलगाम में बिहार के दो मजदूरों की हत्या◾UP विधानसभा चुनाव : चंद्रशेखर आजाद बोले- सत्ता में आए तो किसानों को एमएसपी की देंगे गारंटी◾ J-K में आतंकी हमलो के बीच भारत-पाकिस्तान मैच को रद्द करने की मांग:केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह◾UP विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए सपा के उम्मीदवारों ने दाखिल किया नामांकन पत्र, BJP ने नितिन अग्रवाल का किया समर्थन ◾ PM मोदी ने केरल के CM पिनराई विजयन से की बात, भारी बारिश और भूस्खलन पर हुई चर्चा◾गोवा के एक नेता ने मां दुर्गा से की ममता बनर्जी की तुलना, कहा- BJP की 'भस्मासुर' सरकार का करेंगी नाश ◾BJP राज में महंगाई की बोझ तले दबे हैं किसान, केवल मोदी मित्र हो रहे हैं धनवान : प्रियंका गांधी ◾

LAC विवाद : भारत की ड्रैगन को चेतावनी- रिश्तों को लेकर पूर्वाग्रहों से बाहर आये चीन

भारत ने चीन से अपने द्विपक्षीय संबंधों को लेकर पूर्वाग्रहों से बाहर निकलने का आग्रह करते हुए कहा है कि उसे भारत एवं चीन के रिश्तों को किसी तीसरे देश के साथ रिश्तों के आईने से नहीं देखना चाहिए और एक दूसरे के साथ गुण दोषों के आधार पर संबंधों को आगे बढ़ाना चाहिए।

दोनों नेताओं ने हाल की वैश्विक घटनाओं पर विचार विमर्श किया

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को देर रात ताजिकिस्तान की राजधानी दुशान्बे में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की शिखर बैठक की पूर्वसंध्या में चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ लंबी बातचीत की। विदेश मंत्रालय के अनुसार दोनों नेताओं ने हाल की वैश्विक घटनाओं पर विचार विमर्श किया। डॉ. जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री से पूर्वाग्रहों से बाहर आने की जरूरत पर बल देते हुए साफ साफ शब्दों में कहा कि भारत ने सभ्यताओं के टकराव के किसी भी विचार को कभी भी स्वीकार नहीं किया।

भारत एवं चीन को एक दूसरे के साथ गुण दोष के आधार पर व्यवहार करना होगा

उन्होंने कहा कि भारत एवं चीन को एक दूसरे के साथ गुण दोष के आधार पर व्यवहार करना होगा और एक ऐसा रिश्ता स्थापित करना होगा जिसमें एक दूसरे के प्रति सम्मान एवं आदर हो। इसके लिए यह जरूरी है कि चीन हमारे द्विपक्षीय संबंधों को किसी तीसरे देश के साथ रिश्तों के परिप्रेक्ष्य में नहीं देखे। उन्होंने दोहराया कि एशियाई एकता केवल भारत चीन संबंधों द्वारा स्थापित उदाहरण पर निर्भर करेगी।

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर स्थिति पर भी विचार विमर्श

दोनों विदेश मंत्रियों ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर स्थिति पर भी विचार विमर्श किया। डॉ. जयशंकर ने वांग यी के साथ 14 जुलाई को हुई आखिरी बैठक के बाद गोगरा क्षेत्र में सेनाओं को हटाने के मामले में हुई प्रगति का उल्लेख किया और कहा कि बाकी बचे मुद्दों का भी जल्द समाधान किया जाना चाहिए। पिछली बैठक में श्री वांग यी ने माना था कि भारत चीन द्विपक्षीय संबंध निचले स्तर पर हैं और दोनों पक्षों ने यह भी सहमति जतायी थी कि वर्तमान स्थिति किसी भी पक्ष के हित में नहीं है और इससे आपसी रिश्तों पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

एलएसी पर बाकी मुद्दों का भी द्विपक्षीय समझौतों एवं प्रोटोकॉल का पालन करते हुए समाधान कर लेना चाहिए

विदेश मंत्री ने इस संदर्भ में कहा कि दोनों पक्षों को पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर बाकी मुद्दों का भी सभी द्विपक्षीय समझौतों एवं प्रोटोकॉल का पालन करते हुए समाधान कर लेना चाहिए। उन्होंने पुन: कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति के लिए एक आवश्यक आधार है। इस पर चीनी विदेश मंत्री ने भी बाकी बचे मसलों के समाधान के लिए सैन्य एवं कूटनीतिक स्तर की बैठकें आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। दोनों मंत्रियों ने इस संबंध में एक दूसरे के साथ संपर्क में रहने पर भी रजामंदी जतायी।

SCO में ईरान और आर्मेनिया के विदेश मंत्री से मिले एस जयशंकर,अफगानिस्तान की स्थिति पर केंद्रित थी बातचीत