पाकिस्तान ने करतारपुर गलियारे पर दोनों देशों के बीच बृहस्पतिवार को होने वाली पहली बैठक को कवर करने के लिए जाना चाह रहे पाकिस्तानी पत्रकारों को भारत की ओर से वीजा जारी नहीं करने पर बुधवार को निराशा जताई। यह बैठक बृहस्पतिवार को अटारी-वाघा सरहद पर भारत की तरफ होगी।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ मोहम्मद फैसल ने ट्विटर पर कहा, ‘‘ करतारपुर (गलियारे) के लिए कल होने वाली बैठक के वास्ते भारत की ओर से पाकिस्तानी पत्रकारों को वीजा नहीं देना अफसोसनाक है।’’ यह अभी मालूम नहीं है कि कितने पत्रकारों ने वीजा के लिए आवेदन किया था।

फैसल ने कहा, ‘‘ उम्मीद करते हैं कि पाकिस्तान की करतारपुर भावना और कल की बैठक दोनों मुल्कों के लोगों की बेहतरी के लिए बदलाव लाए।’’

करतारपुर बातचीत नागरिकों की भावना से संबंधित, वार्ता की बहाली नहीं : विदेश मंत्रालय

करतारपुर गलियारा बनाने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने के लिए पाकिस्तान का एक प्रतिनिधिमंडल बृहस्पतिवार को भारत जाएगा। वहीं भारतीय प्रतिनिधिमंडल 28 मार्च को इस्लामाबाद आएगा।

फैसल ने रेखांकित किया कि पिछले साल पाकिस्तान में करतारपुर गलियारे की नींव रखने के समारोह को 30 से ज्यादा भारतीय पत्रकारों ने कवर किया था।

प्रवक्ता ने ट्वीट किया, ‘‘ वे (भारतीय पत्रकार) प्रधानमंत्री इमरान खान से मिले थे और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने उनके लिए रात्रि भोज दिया था।’’

पिछले साल नवंबर में भारत और पाकिस्तान करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ने के लिए गलियारा बनाने को सहमत हुए थे। करतारपुर में सिख पंथ के संस्थापक गुरु नानक देव ने अपना अंतिम समय बिताया था।