BREAKING NEWS

SC में अयोध्या मामले की सुनवाई, हिंदू पक्ष के वकील ने रामलला को बताया नाबालिग◾सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की याचिका पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾PM मोदी ने जाम्बिया के राष्ट्रपति से की बातचीत, खनन और कारोबारी सहयोग पर दिया जोर ◾राहुल का केंद्र पर वार, कहा-चिदंबरम के चरित्रहनन के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही मोदी सरकार◾चिदंबरम के बचाव में प्रियंका, बोली-केंद्र की असफलताओं को उजागर करने की भुगत रहे है सजा◾उत्तर प्रदेश : योगी कैबिनेट का हुआ विस्तार, 23 मंत्रियो ने ली शपथ ◾कश्मीर मामले पर ट्रंप ने फिर की मध्यस्थता की पेशकश, कहा- PM मोदी से करूंगा बात◾INX मीडिया : चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें, ईडी ने जारी किया लुकआउट नोटिस ◾मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर PM मोदी ने किया शोक व्यक्त ◾भारतीय सेना ने लिया अभिनंदन का बदला, गिरफ्तार करने वाले पाक कमांडो को किया ढेर◾चिदंबरम के लिए कयामत की रात, जेल या बेल पर फैसला सुबह ◾पंजाब, हरियाणा में बनी हुई है बाढ़ की स्थिति◾अयोध्या मामला : हिंदू निकाय ने न्यायालय से कहा: 12 वीं सदी में मंदिर के अस्तित्व का उल्लेख ◾INX मीडिया घोटाला : सीबीआई और ED ने चिदंबरम पर कसा शिकंजा , घर पर लगाया नोटिस, तलाशी अभियान अब भी जारी...◾PM मोदी ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री को फोन कर लंदन में भारतीयों पर हुए हमले का उठाया मुद्दा ◾असम में NRC भारत का आंतरिक मामला : जयशंकर ◾गडकरी और जावड़ेकर ने एम्स जाकर जेटली की सेहत की जानकारी ली ◾अनुच्छेद 370 हटने के बाद बारामूला में पहली मुठभेड़ ◾आम आदमी पार्टी के विधायक संदीप कुमार अयोग्य घोषित◾कश्मीर मुद्दे पर रक्षा मंत्री की US रक्षा मंत्री से बात , राजनाथ बोले - ये हमारा अंदरूनी मसला◾

विदेश

परमाणु समझौते से जुड़े रहे ईरान : जापान

टोक्यो : जापान ने ईरान से पश्चिमी देशों की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों की परवाह नहीं करते हुए परमाणु समझौते से जुड़ रहने की अपील की है। जापान के विदेश मंत्री तारो कोनो ने कहा कि अमेरिका के इस ऐतिहासिक परमाणु समझौते से अलग होने के बावजूद ईरान को इससे जुड़ रहना चाहिए। ईरान के परमाणु कार्यक्रम का उद्देश्य शांतिपूर्ण हो यह सुनिश्चित करने के लिए उस पर लगे प्रतिबंधों को हटाया जाना चाहिए।

जापानी विदेश मंत्री श्री कोनो ने गुरुवार को ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद जरीफ से मुलाकात की। श्री जरीफ ने उम्मीद जताई है कि अमेरिका का प्रमुख सहयोगी जापान इस अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते को बनाए रखने के लिए ईरान और उसके अन्य सहयोगी देशों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध स्थापित करने की दिशा में ठोस कदम उठायेगा।

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष मई में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान परमाणु समझौते से अपने देश के अलग होने की घोषणा की थी। इसके बाद से ही इस परमाणु समझौते के प्रावधानों को लागू करने को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। इससे पहले ईरान ने बुधवार को आधिकारिक रूप से परमाणु समझौते के तहत किए गए वादों से खुद को अलग करने की घोषणा की थी।

अमेरिका तनाव बढ़ा रहा, हम संयम बरत रहे हैं : मोहम्मद जावाद जरीफ

ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन ने इस बात की पुष्टि की थी। गौरतलब है कि वर्ष 2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी।